ब्रेन कैंसर की अवस्थाएं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 08, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • दिमाग में कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि के कारण होता है।
  • मोबाइल के अधिक इस्‍तेमाल से भी हो सकता है ब्रेन कैंसर।
  • इसे चार स्‍टेज में बांटा गया है, अंतिम स्‍टेज है खतरनाक।
  • कीमोथेरेपी, रेडिएशन और लेजर थेरेपी से हो सकता है इलाज।

ब्रेन कैंसर दिमाग में कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि के कारण होता है। ब्रेन प्रेशर बढने से इसमें सिरदर्द, उल्टी आना, जी मचलाना, आदि इसके प्राथमिक लक्षण हैं। मोबाइल फोन भी ब्रेन कैंसर का कारण हो सकते हैं। हमारे शरीर की आवश्यकता के अनुसार कोशिकाएं विभाजित होती हैं, बढती हैं और डेड हो जाती हैं। मरने वाली कोशिकाओं का स्थान नई पैदा हुई कोशिकाएं ले लेती हैं।

जब कभी यह व्यवस्था भंग होती है, नई कोशिकाएं असमय पैदा हो जाती हैं और पुरानी समाप्त नहीं होती हैं ऐसे में अतिरिक्त कोशिकाएं और उतकों का एक गांठ बन जाता है जो कि कैंसर का प्रमुख कारण होता है और यही स्थिति आदमी के दिमाग में बनती है जिसे ब्रेन कैंसर होता है। ब्रेन कैंसर की अवस्थाओं को चार हिस्सों में बांटा गया है। पहले अवस्था की स्थिति प्राथमिक होती है जिसे नार्मल स्टेज भी कहा जाता है जिसमें मरीज का इलाज संभव होता है। लेकिन ब्रेन कैंसर अवस्था के चौथे स्टे्ज में स्थित घातक हो जाती है और कोशिकाएं  नियंत्रण से बाहर हो जाता है।

 

Brain Cancer in Hindi

 

स्टेज 1

ब्रेन कैंसर की वह नार्मल स्थिति होती है जिसकी रोकथाम आसानी से की जा सकती है। इस स्थिति में कोशिकाओं का विकास बहुत धीरे होता है। टयूमर दिमाग से शरीर के दूसरे हिस्से में नहीं फैलता है। इस स्टेज को आसानी से सर्जरी के जरिए स्कल को खोलकर टयूमर को हटाया जा सकता है। कीमोथेरेपी ओर रेडिएशन थेरेपी के जरिए भी इस स्टेज का इलाज किया जा सकता है।

 

स्टेज 2

ब्रेन कैंसर की इस स्थिति में घातक ब्रेन सेल्स के अलावा शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैलने लगते हैं। अगर इसका निदान नहीं किया गया तो टूयमर बढने लगता है और घातक साबित हो सकता है। कीमोथेरेपी के जरिए इस अवस्था का इलाज संभव है।

 

स्टेज 3

ब्रेन कैंसर की इस स्थिति में टयूमर परिपक्व होकर आक्रामक हो जाता है। घातक कैंसर सेल्स तेजी से फैलकर शरीर के अन्य हिस्सों को नुकसान पहुंचाने लगते हैं। दिमाग को शरीर के अन्य संकेतों को पहचानने में दिक्कत होने लगती है। आदमी को शरीर का संतुलन बनाने में दिक्कत होने लगती है। बुखार और उल्टी लगातार होने लगती है। रेडिएशन थेरेपी के जरिए इस स्टेज का इलाज कुछ हद तक संभव है।

 

स्टेज 4

यह ब्रेन कैंसर की आखिरी अवस्था होती है। इसमें टूयमर पूर्णतया विकसित होकर शरीर को पूरी तरह से क्षति पहुचाने लगता है। घातक उतकों की पहचान मेडिकल जांच के द्वारा भी मुश्किल से हो पाती है। कीमोथेरेपी, रेडिएशन थेरेपी और लेजर थेरेपी द्वारा इस स्टेज पर इलाज के लिए सुझाव दिया जा सकता है।

 

मस्तिष्क कैंसर के रोगियों को की उम्र बढाने में व्यायाम कारगर साबित होता है। एक अध्ययन में कहा गया है कि इस रोग से पीडित रोगी को नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए।

 

 

Read More Article on Brain Tumor in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES72 Votes 22841 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर