क्या होता है जब आप निगल लेते हैं च्युंगम? जानिए

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 20, 2016
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • च्युंगम गलती से निगल लें तो घबरायें नहीं।
  • यह दो-तीन दिन में अपने आप पच जाती है।
  • इसका शरीर में कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है।

च्युंगम चबाना सभी को पसंद है और कुछ लोगों के लिए यह फैशन और स्टाइल भी है। च्युंगम चबाने के कई सारे फायदे हैं, यह वजन घटाने से लेकर मूड को बेहतर बनाने तक के काम आती है। बच्चे च्युंगम के विभिन्न तरह के फ्लेवर के कारण पसंद करते हैं। च्युंगम को लेकर लोगों के मन में कई तरह की उत्सुकता भी है।

सबसे ज्यादा उहापोह की स्थिति तब आती है जब गलती से आप च्युंगम निगल जाते हैं। कुछ लोगों के अंदर यह भ्रम भी है कि एक बार अगर च्युंगम पेट में चली जाये तो सात सालों तक रहती है। सच क्या है, और च्युंगम अगर पेट में चली जाये तो क्या होता है। इन सवालों के जवाब जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

इसे भी पढ़ें : मुंह की बीमारियों से भी होता है ब्रेस्ट कैंसर

chewing-gum

च्युंगम पेट में जाने पर

बहुत पहले आपने भी यह कहावत सुनी होगी कि च्युंगम चबाते वक्त अगर गलती से आपने च्युंगम निगल लिया तो यह आपके पेट में अगले सात सालों तक रहेगी। यह पूरी तरह से निरर्थक बातें हैं और इनका सच से संबंध नहीं है। न्यूयॉर्क के लेंगोन मेडिकल सेंटर द्वारा किये गये शोध की मानें तो च्युंगम गलती से अगर पेट में चला जाये तो घबरायें नहीं। यह खाने की तरह पचा जाता है लेकिन इसमें थोड़ा वक्त लगता है।

क्या होता है असर

च्युंगम चबाने के दौरान अगर आप इसे गलती से निगल लें तो अधिक घबरायें नहीं और न ही परेशान हों। क्योंकि दूसरे आहारों की तुलना में यह भी पच जाता है, लेकिन इसे पचाने में थोड़ा अधिक वक्त निकलता है। दरअसल हमारे पाचन तंत्र में एसिड और एंजाइम्स होते हैं जो च्युंगम पचाने में मदद करते हैं।

कितना लगता है वक्त

सामान्य खाना खाने के बाद कुछ घंटों में पच जाता है और यह मलद्वार के रास्ते बाहर निकल जाता है। लेकिन जब आप च्युंगम निगल लेते हैं तो यह सामान्य खाने की तरह आसानी से कुछ घंटों में नहीं पचता बल्कि इसे पचने में दो से तीन दिन का समय लगता है। चूंकि सभी का पाचन तंत्र एक जैसा नहीं होता इसलिए कुछ के पेट में यह दो दिन में ही पच जाता है और किसी को पचाने में इसे तीन दिन भी लग सकता है।

च्युंगम से जुड़ी कुछ बातें

च्युंगम की खोज 1869 ई. में हुई। जब रबर के विकल्पों की खोज की जा रही थी तभी थामस एडम्स नाम के व्यवसायी ने सापोडीला चीकू फल के पेड़ की गोंद को मूंह में डाला तो उनको यह स्वादिष्ट लगी। उन्होंने सोचा क्‍यों न इसे लोगों के बीच पहुंचाया जाये और 1871 में उन्होंने इसका पेटेंट अपने नाम कराकर ‘एडम्स न्यूयॉर्क गम’ नाम से इसे बाजार में बेंचा।

इसे भी पढ़ें : कौन सा चॉकलेट है हेल्‍दी ? वाइट, मिल्‍क या डार्क !

इसका चिपचिपा और लिसलिसा स्वाद सब को पसंद आने लगा, चबाने के दौरान खत्म न होने के अपने गुण के कारण यह बच्चों-बड़ों सभी के बीच लोकप्रिय हो गई। इसे बनाने के लिए चीकू के तने के रस के अलावा कॉर्न सिरप, ग्लिसरीन, शुगर, फ्लेवर का प्रयोग होने लगा। जब इसमें पैपासीन नामक सुगंधित पदार्थ का प्रयोग होने लगा तो यह और भी अधिक लोकप्रिय हो गई। अब यह बाजार में राज कर रही है।
   
अगर आपने या बच्चे ने गलती से च्युंगम निगल लिया है तो परेशान न हों, यह अपने आप बाहर निकल जायेगा। इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए आप चिकित्सक की सलाह भी ले सकते हैं।

Image Source : Getty

Read More Articales on Healty Living in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1904 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर