दांतों के लिए खतरनाक है पेरियोडोंटल रोग, जानें कारण और बचाव

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 30, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • स्वस्थ मसूड़े का ऊतक प्रत्येक दाँत के आसपास फिट बैठता है।
  • पेरियोडोंटाईटिस में मसूड़ों का ऊतक बाहर फ़ैल जाता है
  • प्लैक और भोजन अवशेष इन थैलियों में इकट्ठा हो सकता है।

स्वस्थ मसूड़े का ऊतक प्रत्येक दाँत के आसपास फिट बैठता है। पेरियोडोंटाईटिस में मसूड़ों का ऊतक बाहर फ़ैल जाता है और थैलियाँ सी बना लेता है। प्लैक और भोजन अवशेष इन थैलियों में इकट्ठा हो सकता है। प्लैक में स्थित बैक्टीरिया जनन करते हैं, मसूड़ों की रेखा के नीचे वृद्धि करते हैं और बैक्टीरियल विष (टोक्सिन) उत्पादित करते हैं। रोग की प्रगति के साथ, थैलियाँ गहरी होती जाती हैं और मसूड़ों का ऊतक और हड्डी और नष्ट होती है और अंततः दांत उखड़ जाता है।

पेरियोडोंटल रोग से बचाव

  • घर की देखभाल: जैसे स्वस्थ आहार, सही प्रकार से ब्रश और फ्लॉस करना
  • नॉन-सर्जिकल थेरेपी: हानिकारक बैक्टरिया की वृद्धि को नियंत्रित करने के लिए चिकित्सा और दवा (एंटीबायोटिक) और,
  • सर्जरी: जिन लोगों में रोग अग्रणी अवस्था में है उनमें सहायक ऊतकों को बहाल करने के लिए।
  • हल्के पेरियोडोंटाईटिस से ग्रस्त लोगों को घर की देखभाल और सामान्य चिकित्सा से ठीक किया जा सकता है।
  • अगर आपके मसूड़ों और दांतों के बीच थैलियाँ हैं जो 5 मिलीमीटर या कम गहरी हैं तो आपके दन्त चिकित्सक प्रवर्धन  (स्केलिंग) और जड़ प्लेनिंग (एसआरपी)का अकेले या एंटीबायोटिक उपचार के साथ सुझाव दे सकते हैं।
  • स्केलिंग मसूड़ों की रेखा के ऊपर और नीचे से पट्टिका और टैटार को हटाती है। स्केलिंग उपकरणों या पराध्वनिक (अल्ट्रासोनिक) साधन द्वारा की जाती है।
  • जड़ प्लेनिंग दांतों की जड़ों की असमानताओं को समतल कर देती है जिससे मसूड़ों की बीमारी पैदा करने वाले प्लेक और कीटाणुओं के लिए जड़ों में जमा होना कठिन हो जाता है। चिकनी, समतल साफ सतह मसूड़ों को दांतों से पुनः जुड़ने में सहायक होती है।
  • आपके दंत चिकित्सक एसआरपी के साथ-साथ जीवाणु संक्रमण को नियंत्रित करने में सहयोग के लिए एंटीबायोटिक या अन्य दवाओं का निर्देश दे सकते हैं।
  • डॉक्सीसाईक्लिन हायक्लेट, जोकि एक स्वीकृत दवा है, को प्रायः एसआरपी के साथ संयोजन में उपयोग किया जाता है। एसआरपी बैक्टीरिया को हटाता है और डॉक्सीसाईक्लिन हायक्लेट कोलैजिनेज को दबाती है। ये एंजाइम दांतों और मसूड़ों के विनाश का कारण बनता है।
  • मौखिक लोकल एंटीबायोटिक दवाओं का आवश्यकतानुसार निर्देश दिया जा सकता है। एंटीबायोटिक जोकि पेरियोडोन्टल थैलियों पर निरंतर जारी रखने वाली खुराक के रूप में उपयोग किये जाते हैं वे डॉक्सीसाईक्लिन हायक्लेट, क्लोरहेक्सीडीन और मिनोसाइक्लिन हैं।
  • आपके दन्त चिकित्सक प्लाक और जिंजीवाइटिस के नियंत्रण में सहयोग के लिए क्लोरहेक्सीडीन से मुख कुल्ला करने का सुझाव दे सकते हैं। कभी कभी संक्रमित थैली पर एंटीबायोटिक जेल्ल, फाइबर या चिप्स लगाया जा सकता है।

अगर आपका पेरियोडोंटाईटिस अग्रिम अवस्था में है – मसूड़ों और दांतों के बीच की थैलियों की गहराई 5 मिमी से ज्यादा है - आपके दंत चिकित्सक शल्य चिकित्सा (सर्जिकल) उपचार का सुझाव दे सकते हैं।

[इसे भी पढ़े : पेरियोडोंटल रोग से बचाव]

सर्जिकल विकल्प 

फ्लैप सर्जरी: टैटार को साफ़ करने के लिए मसूड़ों को उठाया जाता है। इसके बाद मसूड़े को दोबारा वापिस सिल दिया जाता है ताकि ये दांत के इर्द-गिर्द निकटता से फिट जो जाए। ये उन क्षेत्रों से थैलियों को हटाता है जहां बैक्टीरिया जनन करते हैं।

हड्डी ग्राफ्ट: पेरियोडोंटाईटिस द्वारा ध्वस्त हड्डी को बदल दिया जाता है। बदली हुई हड्डी, हड्डी की पुनर्वृद्धि के लिए आधार प्रदान करती है जो कि दांत को स्थिरता देती है।

[इसे भी पढ़े : पेरियोडोंटल रोग क्‍या है]

कोमल ऊतक ग्राफ्ट: ऊतक को उन क्षेत्रों में प्रतिरोपित किया जाता है जहां मसूड़े पतले होते हैं या जिन स्थानों पर मसूड़े पीछे चले गए हैं। प्रतिरोपण के लिए ऊतक प्रायः मुँह के ऊपरी भाग से लिए जाते हैं।

निर्देशित ऊतक पुनर्जनन: ये प्रक्रिया बैक्टीरिया द्वारा क्षतिग्रस्त हड्डी की पुनर्वृद्धि में सहायता करती है। एक विशेष जैवअनुकूलित कपड़े को आपकी हड्डी और दांत के बीच रखा जाता है। ये अवांछित ऊतक को उपचारित क्षेत्र में जाने से रोकता है और...

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Article on Periodontal-Disease in hindi 

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES2 Votes 12817 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर