एलर्जिक राइनाइटिस और इससे बचाव के टिप्‍स

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 13, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • नाक की एलर्जी को एलर्जिक राइनाइटिस कहते है।  
  • सामान्य दिनचर्या को प्रभावित करने लगती है।
  • लगातार सिरदर्द और छींकों का बना रहना।
  • तापमान में अचानक परिवर्तन होने पर बचाव करें।

नाक में होने वाली एलर्जी को एलर्जिक राइनाइटिस कहते हैं। नाक हमारे शरीर का वो हिस्‍सा है जो सांस के साथ शरीर में प्रवेश करने वाले धूल कणों और हानिकारक पदार्थों को रोकती है। लेकिन जब यह पदार्थ किसी तरह शरीर में प्रवेश करने में सफल हो जाते है तो इम्‍यूनिटी इनके प्रति प्रतिक्रिया व्यक्त करती है, जो एलर्जी के रूप में सामने आती है। इसी तरह की एलर्जी को एलर्जिक राइनाइटिस कहते हैं। वैसे तो यह बीमारी जानलेवा नहीं होती, लेकिन आपकी सामान्य दिनचर्या को प्रभावित करने लगती है। और इसका सही समय पर ठीक से उपचार न होने पर, अन्य बीमारियों के फैलने का खतरा भी बना रहता है।

allergic rhinitis

एलर्जिक राइनाइटिस के कारण

एलर्जिक राइनाइटिस के प्रमुख लक्षणों में तापमान में अचानक परिवर्तन, धूल-मिट्टी, नमी, प्रदूषण, बदलता हुआ मौसम, जानवरों के रेशे एवं बाल और पेड़ और परागकणों के शरीर में प्रवेश करने या त्वचा पर लगने से होने वाली प्रतिक्रिया शामिल है।

एलर्जिक राइनाइटिस के प्रमुख लक्षण

  • लगातार छींकना।
  • लगातार सिरदर्द बना रहना।
  • नाक का बंद होना।
  • नाक से पानी जैसा तरल पदार्थ का लगातार बहना।
  • नाक, आंखों, तालू में खुजली होना।

 

allergic rhinitis in hindi

एलर्जिक राइनाइटिस में सावधानियां

  • अक्‍सर धूल से यह समस्‍या होती है इसलिए यदि घर में वैक्‍यूम क्‍लीनर हो तो झाडू की जगह उसका इस्तेमाल करें।   
  • धूल व धुंए से बचें और तापमान में अचानक परिवर्तन होने पर बचाव करें।
  • बाइक चलाते समय धूल से बचने के लिए मुंह और नाक पर रुमाल बांधे, आंखों पर धूप का अच्छी क्‍वालिटी का चश्मा लगायेंl
  • पर्दे, चादर, बेडशीट व कालीन को नमी से बचाने के लिए समय-समय पर इन्हें धूप में रखें।  
  • बाल वाले जानवरों से दूर ही रहें। पालतू जानवरों से एलर्जी है तो उन्हें घर में ना रखेंl
  • एकदम गर्म से ठंडे और ठंडे से गर्म वातावरण में ना जाएंl
  • अधिक एलर्जी होने पर सुरक्ष‍ित दवाओं का प्रयोग करें या नाक, कान व गला रोग विशेषज्ञ से परामर्श लें।
  • वर्ल्‍ड एलर्जी आर्गेनाइजेशन जर्नल में हुए एक अध्‍ययन के अनुसार, विटामिन सी सूजन और एलर्जी प्रतिक्रियाओं को कम करता है। इसके अलावा एलर्जिक राइनाइटिस को कम करने में विटामिन C के अलावा विटामिन E तथा मछली का तेल (cod liver oil) जादुई रूप से असर करता है।


Image Source : Getty

Read More Articles on Allergy in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES27 Votes 4029 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • prem hardaha17 Dec 2015

    very nice advise. so thank's

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर