फिश पेडीक्योर पैरों की सफाई का एक कारगर तरीका है जानें क्‍या है फिश पेडीक्योर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 23, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गारा रूफा फिश करती है आपके पैरों का पेडीक्योर। 
  • पैरों पर मौजूद मृत त्वचा को हटाता है फिश पैडीक्योर।
  • फिश पैडीक्योर की भी हैं कुछ कमियां।
  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली या मधुमेह से पीड़ित लोग इसे न कराएं।

सौंदर्य उद्योग त्वचा की देखभाल के लिए रोज नए तरीकों का इजात करता रहता है। भला किसने सोचा होगा कि मछलियों का हल्के से आपके पैरों को कुतरना आपके पैरों की त्वचा को स्वस्थ व सुंदर बना सकता है। हम यहां बात कर रहे हैं फिश पैडीक्योर की। जी हां फिश पैडीक्योर आपके पारे को लिए बहुत लाभदायक होता है। इस लेख में हम आपको बता रहे हैं की क्या होता है फिश पैडीक्योर।

Fish Padicure पेडीक्योर पैरों को स्वस्थ व सुंदर रखने का पुराना तरीका है। लेकिन अब एक नए तरह का पेडीक्योर चलन में आ रहा है। इस पेडीक्योर को फिश पेडीक्योर नाम दिया गया है।वर्जीनिया के जान हो ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर यह नया प्रयोग शुरू किया है। हो फिश पेडीक्योर का तुर्की सहित कई एशियाई देशों में भी प्रयोग कर चुके हैं।

 

क्या है फिश पेडीक्योर

इस खास तरह के पेडीक्योर में मछली का प्रयोग किया जाता है, जिसे गारा रूफा या डाक्टर फिश के नाम से जाना जाता है। ये मछलियां दांत रहित होती हैं। परंपरागत रूप से तो पैडीक्योर में गर्म या गुनगुने पानी का प्रयोग किया जाता है। फिश पेडीक्योर में भी ऐसा ही होता है लेकिन इस पानी में मछलियां होती हैं। फिश पैडीक्योर द्वारा पैरों पर मौजूद मृत और भद्दी त्वचा को हटाया जा सकता है। फिश पैडीक्योर करने के लिए पैरों को गर्म पानी के एक टैंक में पूरी तरह से डूबा दिया जाता है जिसमें बिना दांत वाली कार्प के आकार की दर्जनों छोटी मछलियां होती हैं। ये मछलियां लगातार आपके पैरों को कुतरती रहती हैं औ र पैरों की मृत त्वता को चट कर जाती हैं। लगभग 30 मिनट के इस इलाज के परिणामस्वरूप आपको चिकनी और मुलायम पैर मिलते हैं।

 


कैसे होता है यह पेडीक्योर

आम तौर पर पेडीक्योर में मृत त्वचा निकालने के लिए रेजर (ब्लेड) का प्रयोग किया जाता है, जबकि फिश पेडीक्योर में यह काम मछली करती है। हो के मुताबिक गर्म पानी में जलीय वनस्पति का उगना मुश्किल है, जिससे मछली के भोजन की समस्या हो सकती है। लेकिन यह समस्या मृत त्वचा से हल हो सकती है।

 

फिश पेडीक्योर की कमियां

- फिश पेडीक्योर में सभी लोग उसी पानी और मछलियों के संपर्क में आते हैं, जिसके कारण कुछ संक्रमण एक से दूसरे को फैल सकते हैं।

- एचआईवी और हेपेटाइटिस वायरस जो कि रक्त से फैलता है और यह संभावतः टैंक के पानी के माध्यम से भी फैल सकता है।

- वे लोग जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है या मधुमेह आदि समस्याएं होती हैं उन्हें फिश पेडीक्योर न कराने की हिदायत दी जाती है।


 

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES19 Votes 15964 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर