हैजा होने पर क्या खाएं और क्या न खाएं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 27, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • हैजा रोग होने पर खाने पीने का विशेष ध्यान रखना होता है।
  • दूषित पानी व खाने से फैलने वाला यह रोग आपकी आंतों में होता है।
  • रोगी को थोड़ी-थोड़ी दर में नमक-शकर-पानी का घोल देना चाहिए।
  • अधिक शारीरिक या मानसिक थकान और तापमान में जल्दी-जल्दी बदलाव से बचें।

हैजा में खाने पीने का विशेष ध्यान रखना होता है। खान पान में सावधानियां नहीं बरतने पर यह बिमारी दोबारा अटैक कर सकती है।। दूषित पानी व खाने से फैलने वाला यह रोग आपकी आंतों में होता है। महामारी के दौरान इस रोग के फैलने की ज्यादा संभावना होती है। इस रोग के जीवाणु आंत की आन्तरिक लाइनिंग पर आक्रमण करता है जिससे आपके अंदर हैजा के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। आईए जानें हैजा में कैसा हो आपका खान पान।

 

उबला पानी पीएं

हैजा के इलाज के दौरान उबला हुआ पानी ही पिएं या फिर क्लोरीन या आयोडीन युक्त पानी भी पी सकते हैं। पानी में बर्फ का इस्तेमाल नहीं करें क्योंकि हैजा के बैक्टैरिया ठंडी जगहों पर ही होते हैं।

 

ताजा खाना खाएं

हैजा में ताजा बना हुआ खाना ही खाएं। कच्ची सब्जियां खाने से बचें। खासकर सलाद खाने से पहले उसे अच्छे से धो लें। फलों को भी खाने से पहले अच्छी तरह से धो लें और छिलका उतार कर काट कर खाएं।

 

 

नमक-चीनी का घोल लें

हैजा के दौरान शरीर में पानी की कमी हो जाती है इसलिए रोगी को थोड़ी-थोड़ी दर में नमक-शकर-पानी का घोल देना चाहिए या बना बनाया इलेक्ट्रोलाइट पिलाकर रोगी को लवणों की पूर्ति की जाती है।
 


शिकंजी पिएं

हैजा अगर शुरुआती अवस्था में है तो एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़ कर इसमें एक चम्मच पिसी मिश्री मिलाकर शिकंजी बना लें और रोज पिएं। इससे हैजा के बैक्टेरिया खत्म हो जाते हैं।

 

बाहर का खाना नहीं खाएं

बाहर के खाने में मक्खियां बार-बार बैठती है जिससे उनके पैरों पर लगे जीवाणु खाने वाली चीजों पर लग जाते हैं इसलिए हैजा के दौरान बाहर का खाना नहीं खाना चाहिए।  


सावधानियां


  • अधिक शारीरिक या मानसिक थकान और तापमान में जल्दी-जल्दी बदलाव से बचें।
  • कोई भी तरल पदार्थ बिना उबाले हुए न पियें। शौचालय से आने के बाद हाथ को साबुन से अच्छे से धोएं।
  • घर के सभी बर्तनों को अच्छे से गर्म पानी से साफ करें।
  • भोजन करने से पहले हाथ धोना कभी नहीं भूले। पानी में कार्बोलिक एसिड मिला कर हाथ धोएं।
  • जहां तक संभव हो, हर बार साफ तौलिये का इस्तेमाल करें। महामारी वाली जगहों पर जाने से बचें। अगर जाना जरुरी हो तो मुंह पर मास्क लगाकर जाएं।
  • घर के आसपास साफ सफाई रखें।। नालियों व गड्ढों को ढ़क दें।

 

Image Source - Getty

Write a Review
Is it Helpful Article?YES3 Votes 13237 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर