विब्रेशनल थेरेपी अर्थात ऊर्जा चिकित्सा क्या हैं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 22, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • विब्रेशनल थेरेपी को ऊर्जा चिकित्सा के नाम से भी जाना जाता है।
  • ऊर्जा उपचार वैकल्पिक चिकित्सा के क्षेत्र में एक उन्नत प्रक्रिया है।
  • जीवन ऊर्जा विद्युत चुंबकीय तरंग दैध्र्य के रूप में उतसर्जित होती है।
  • एनर्जी ट्रीटमेंट में रंगों ताथा संगीत का भी इस्तेमाल किया जाता है।

विब्रेशनल थेरेपी को विब्रेशनल मेडिसिन या ऊर्जा चिकित्सा के नाम से भी जाना जाता है, जोकि वैज्ञानिक सिद्धांतों पर आधारित होती हैं। यदि हम ऊर्जा चिकित्सा को समझना चाहते हैं तो सबसे पहले हमें ऊर्जा के बारे में जानना होगा। दरअसल एक व्यक्ति के मृत शरीर और जीवित व्यक्ति के बीच फर्क केवल ऊर्जा का ही होता है। विशषज्ञों के अनुसार ऊर्जा एक अदृष्य शक्ति है जो न तो नष्ट हो सकती है और न बनाई जा सकती है, यह सिर्फ या तो प्रवाहित हो सकती है और विब्रेशनल थेरेपी इस ऊर्जा पर ही आधारित होती है।

 

Vibrational Remedies in Hindi

 

ऊर्जा उपचार (बायो एनर्जेटिक्स), वैकल्पिक चिकित्सा के क्षेत्र में एक उन्नत प्रक्रिया होती है। यह न केवल एक वैकल्पिक चिकित्सा है बल्कि एक असरदार दवा भी है। इसे एनर्जी उपचार के नाम से भी जाना जाता है। इस प्रणाली को आधुनिक विज्ञान के उन्नत विषय क्षेत्रों जैसे आण्विक जीव विज्ञान, क्वांटम भौतिकी, तरंग दैध्र्य के अनुनाद और थीएरी ऑफ डिससिपेटिव स्ट्रक्चर आदि से प्रेरित हो कर लिया गया है। ऊर्जा चिकित्सा और बायो एनर्जेटिक्स के विशेषज्ञों के अनुसार, एनर्जी ट्रीटमेंट शरीर की जीवन ऊर्जा को स्कैन करते हैं, उसे ठीक प्रकार से मापतें है और इस जीवन ऊर्जा के प्रवाह में आ रही अड़चनों व कमियों को ढूंढकर प्राकृतिक जड़ी-बूटी और चिकित्सकीय माध्यमों की सहायता से दूर करता है।     


दरअसल 'जीवन ऊर्जा विद्युत चुंबकीय तरंग दैध्र्य के रूप में उतसर्जित होती है। ऊर्जा उपचार में क्वांटम भौतिकी तकनीक से निकल रही ऊर्जा की कमियों के बारे में जानकारी की जाती है। फिर इस जानकारी से शरीर के ऊर्जा क्षेत्र की गड़बड़ी के मूल कारणों और विकारों का पता लगाया जाता है। एनर्जी ट्रीटमेंट में रंगों का भी इस्तेमाल होता है।

 

Vibrational Remedies in Hindi

 

विब्रेशनल थेरेपी के प्रकार

विब्रेशनल थेरेपी के मूलतः चार प्रकार होते हैं -

 

क्रिस्टल्स एंड गेमस्टोन्स की मदद से हीलिंग  
लाइट एंड कलर्स के साथ हीलिंग
प्लांट्स व हर्ब्स के साथ हीलिंग   
एलिमेंट्स के साथ हीलिंग
साउंड एंड म्यूजिक के साथ हीलिंग

 

विब्रेशनल थेरेपी किसके लिए की जाती है?

विब्रेशनल थेरेपी निम्नलिखित समस्याओं के लिये काम में आती है -


तनाव
आघात
सामान्य थकान
ऊर्जा संबंधी रुकावट
नकारात्मकता की भावना होने पर
जीवन में प्यार का अभाव
किसी पुरानी बीमारी
कोई दुख

 

 

इन समस्याओं में मदद करने के अलावा कैंसर, मधुमेह तथा मल्टीपल स्क्लेरोसिस सहित कई अन्य रोगों के इलाज में ये चिकित्सा पद्धति सहायक सिद्ध होती है।

 

 

Read More Articles On Alternative Therapy in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 657 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर