हार्मोन असंतुलन से पुरुषों में हो सकती हैं कई समस्याएं, ऐसे करें बचाव

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 25, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मानव शरीर की वृद्धि और विकास के लिए उत्तरदाई होते हैं हार्मोन।
  • किसी कोशिका या ग्रंथि द्वारा स्त्रावित होने वाले रसायन हैं हार्मोन।
  • मेटाबॉलिज्म और इम्यून सिस्टम पर होता है इनका सीधा प्रभाव।

 

हार्मोन का मानव शरीर की वृद्धि और विकास में अहम किरदार होता है। इनका हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव होता है। स्त्री हो या पुरुष दोनों में हार्मोन न सिर्फ शरीर की वृद्धि और विकास को प्रभावित करते हैं, बल्कि शरीर के सभी तंत्रों की गतिविधियों को भी नियंत्रित करते हैं। लेकिन जब ये हार्मोन्स असंतुलन हो जाते हैं तो शरीर की कार्यप्रणाली में गड़बड़ी आ जाती है और दिक्कतें शुरू होने लगती हैं। आइये जानें की पुरुषों में हार्मोन असंतुलन क्या है और इसे कैसे रोका जाए।

क्या हैं हार्मोन

दरअसल हार्मोन किसी कोशिका या ग्रंथि द्वारा स्त्रावित होने वाले वे रसायन होते हैं जो शरीर के दूसरे हिस्से में स्थित कोशिकाओं को भी प्रभावित करते हैं। शरीर के मेटाबॉलिज्म और इम्यून सिस्टम पर हार्मोन का सीधा प्रभाव होता है। ‘हमारे शरीर में कुल 230 हार्मोन होते हैं, जो शरीर की भिन्न-भिन्न क्रियाओं को नियंत्रित करते हैं। हार्मोन में थोड़ा सा बदलाव ही मेटाबॉलिज्म को प्रभावित करने के लिए काफी होती है। ये एक कैमिकल मैसेंजर की तरह एक कोशिका से दूसरी कोशिका तक संकेत पहुंचाते हैं।

हर्मोन असंतुलन के कारण और प्रभाव  

हर्मोन असंतुलन के कई कारण हो सकते हैं जैसे, गड़बड़ जीवनशैली, पोषण की कमी, व्यायाम न करना, गलत डायट, अधिक तनाव या उम्र आदि। अक्सर खराब खान पान और एक्‍सरसाइज न करने आदि से हर्मोन असंतुलन हो जाता है। महिलाओं और पुरुषों दोनों में हार्मोन असंतुलन के अलग अलग प्रभाव होते हैं।
जब जीवनशैली और खानपान में गड़बड़ी के कारण हार्मोन के स्त्राव में असंतुलन आने लगता है तो तरह-तरह की बीमारियां घेरने लग जाती हैं। हार्मोन असंतुलन केवल महिलाओं को प्रभावित नहीं करता, ये पुरुषों को भी प्रभावित करता है। एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और प्रोलैक्टिन हार्मोन पुरुषों के शरीर में भी उत्पादित होते हैं। इन सभी हार्मोन में टेस्टोस्टेरोन पुरुषों के शरीर में मौजूद सबसे महत्वपूर्ण हार्मोन, में से एक है। शरीर के समुचित कार्य को ठीक रखने के क्रम में टेस्टोस्टेरोन का स्तर बनाए रखना जरूरी होता है।

हार्मोन असंतुलन का शरीर पर प्रभाव

हार्मोन असंतुलन के कारण स्वास्थ्य संबंधी सामान्य समस्याएं जैसे मुहांसे, चेहरे और शरीर पर अधिक बालों का उगना, समय से पहले उम्र बढ़ने के लक्षण नजर आना व सेक्स के प्रति अनिच्छा जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। खासतौर पर जब पुरुषों में जब हार्मोन असंतुलन होता है तब उनमें चिड़चिड़ापन, स्‍पर्म कम बनना और सेक्‍स की चाह कम हो जाती है। लेकिन हार्मोन असंतुलन को सतुंलित करने के लिये कई तरीके अपनाए जा सकते हैं, जैसे दवाइयां, योग, व्‍यायाम और पौष्टिक आहार का सेवन करना आदि।

पुरुषों में हार्मोन असंतुलन को ठीक करने के तरीके  

जीवन शैली में परिवर्तन

जीवन शैली में साधारण परिवर्तन के साथ पुरुष अपने शरीर में हार्मोन के असंतुलन को नियंत्रित कर सकते हैं। जैसे ताजा सब्जियों और फलों का नियमित सेवन व कैफीनयुक्त पेय में कटौती आदि।

सोयाबीन पदार्थों का सेवन कम करें

सोयाबीन और सोया आधारित उत्पादों का सवन कम से कम करें। पुरुषों को अतिरिक्त एस्ट्रोजन की मात्रा की जरूरत नहीं होती है। सोयाबीन फाइटोस्ट्रोजिन्स के बड़े स्रोतों में से एक है। एस्ट्रोजन और फाइटोस्ट्रोजिन्स की सेलुलर संरचना समान है। इसलिए, पुरुषों को अतिरिक्त मात्रा में इस प्रोटीन नहीं लेना चाहिए। बल्कि इसके बजाए आप अंडे का सफेद भाग और कम वसा वाले डेयरी उत्पादों पर अधिक भरोसा कर सकते हैं।

पर्याप्त नींद लें

अच्छी रात की नींद शरीर के समग्र स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होती है। रोज पर्याप्त नींद लेने से मस्तिष्क और अधिवृक्क ग्रंथियों के माध्यम से हार्मोन संतुलित ठीक होता है। तो, हमेशा बहुत सारी समस्याओं का कम से कम करने के लिए प्रति दिन आठ घंटे सोने का लक्ष्य बनाएं।

एक्सरसाइज करें

अतिरिक्त मांसपेशियों और पुरुषों की शारीरिक उच्च शक्ति का संबंध उनके शरीर में टेस्टोस्टेरोन की उच्च राशि से होता है। यदि आप मांसपेशियों में कमजोर या शरीर को असमर्थ महसूस कर रहे हैं तो आपको एक्सरसाइज कर इस समस्या से उबरने में मदद मिलेगी। इसलिए हफ्में में कम से कम चार दिन जम कर एक्सरसाइज करें।  

कैसा और क्या आहार लें

नारियल का तेल खाएं। इसके प्रयोग से शरीर में हार्मोन बैलेंस होने लगता है। पानी पियें, इससे शरीर हाईड्रेट रहता है और उसका स्‍ट्रेस लेवल भी कम होता है। मेवों में बहुत सारा प्रोटीन होता है। प्रोटीन डायट हार्मोन की गड़बड़ी से ग्रस्‍थ पुरुष और महिला दोनों के लिये अच्‍छी होती है। साथ ही हरी साग-सब्‍जी और बींस और लहसुन खाएं, इनमें बहुत सारा कार्बोहाइड्रेट और फाइबर होता है जो हार्मोन असंतुलन को ठीक करने में मददगार होता है। मांस खाते हैं तो मछली खाएं। अपने आहार में सीफूड भी शामिल करें, टूना फिश मे बहुत सारा ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो कि शरीर में हार्मोन को बैलेंस करता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Article On Mens Health in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES60 Votes 13043 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर