ये टिप्स अपनाएं, डायबिटीज फ्री दिवाली मनाएं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 30, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • दिवाली के मौके पर खास खयाल रखें डायबिटिक लोग।
  • मधुमेह रोगियों को स्मॉल फ्रीक्वेंट मील लेना चाहिए। 
  • तले हुए की बजाय भूने हुए प्याज का इस्तेमाल करें।
  • पराठा या बिरयानी की बजाय रोटियां या फुल्के लें।

मधुमेह यानी डायबिटीज एक खतरनाक बीमारी है। मधुमेह रोग से मुक्त होने के लिए रोगी को बहुत परहेज करने और अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है। मधुमेह की रोकथाम से लिए संतुलित भोजन करने की आवश्य‍कता होती है। ऐसे में त्योहारों पर भी मधुमेह रोगी को अपने खान-पान पर खास नियंत्रण करने की जरूरत होती है। आइए जानें मधुमेह रोगी, मधुमेह मुक्ति दिवाली कैसे मनायें।

diwali in hindi

इसे भी पढ़ें : इस दिवाली में मिठास घोलें, इन लो कैलोरी स्वीट्स के साथ

डायबिटीज फ्री दिवाली मनाने के उपाय

  • डायबिटीज के मरीजों को खाने-पीने में परहेज न करने के कारण सबसे ज्यादा परेशानी आती है। परहेज न करने के कारण उनकी तकलीफ और ज्यादा बढ़ जाती है। लिहाजा, मधुमेह रोगियों को जरूरत होती है, एक बैलेंस डायट की।
  • मधुमेह रोगियों को दिवाली में खानपान पर नियंत्रण के अलावा लगातार शुगर लेवल जांच कराते रहना चाहिए और अपने ब्लड शुगर लेवल का चार्ट बना कर रखना चाहिए।
  • दिवाली के मौके पर खासतौर से मधुमेह रोगियों को स्मॉल फ्रीक्वेंट मील लेना चाहिए जिसमें न तो बहुत ज्यादा चिकनाई हो और न ही बहुत ज्यादा मिठास।
  • जौ का आटा, बाजरे का आटा, रागी का आटा फाइबर युक्त होते हैं। इनमें आप गेहूं के आटे के साथ लेकर कोई भी आटा मिक्स करके चपाती लें। मधुमेह रोगियों के लिए यह बहुत फायदेमंद होता है।
  • ओट्स का दलिया सब्जियों के साथ बनाकर ले सकते हैं, इससे न केवल आपको प्रोटीन मिलेगा बल्कि आपको फाइबरयुक्त भोजन भी मिलेगा। जो कि शुगर कंट्रोल करने के लिए लाभकारी है।
  • पानी की मात्रा अधिक बढ़ा दें। सलाद अधिक से अधिक खाएं लें।
  • मधुमेह रोगियों के लिए बाजार में कई शक्कर रहित मिठाइयां मिलती हैं। इसके अलावा आप कम वसा वाली मिठाइयां चुनें जैसे गुलाब जामुन की बजाय रसगुल्ला खाएं। अन्य इसी तरह की मिठाइयां हैं संदेश और पेड़ा।
  • नमकीन और तीखे में मठरी, शक्करपाली, चकली, कचौरियां आदि बनाएं जिनमें आप आटे के साथ बाजरा, रागी, सोयाबीन का आटा मिला सकते हैं। इन नमकीनों में आप हरी पत्तियों की सब्जियां जैसे मेथी, पालक, धनिया आदि मिला सकते हैं।
  • दिवाली के मौके पर बहुत तला हुआ खाया जाता है, ऐसे में आप तलने की बजाय नमकीन को भूनें। भूने हुए पापड खाएं। बिरयानी आदि में तले हुए की बजाय भूने हुए प्याज का इस्तेमाल करें। पूरी, पराठा या बिरयानी की बजाय रोटियां या फुल्के दें।
  • ड्राई फ्रूट्स से अपने दोस्तों और रिश्तेदारों की मेहमाननवाजी करें, इनमें चिकनाई भी नहीं होती और ज्यादा दिनों तक इनका इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
  • दिवाली और उसके बाद लगभग एक सप्ताह तक मिठाइयों और चिकनाई युक्त खाने का दौर चलता है, इसलिए पहले से तय कर लें कि इस दौरान आपका खानपान किस तरीके का होगा।
  • अगर आपको डॉक्टर ने आपको मिठाई खाने से बिल्कुल ही मना कर रखा है तो थोड़ा सा भी खाने से बचें।
  • अगर आपने ज्यादा मिठाई या तली चीजें खा ली हैं तो आने वाले समय में मिठाइयों से बचकर संतुलित भोजन करें।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty

Read More Articles Festival-Special in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES3 Votes 12255 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर