बस पांच मिनट की वॉक रखे दिल का खयाल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 09, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

walking in officeकाम के दौरान हम काफी देर तक कुर्सी पर बैठे रहते हैं। इससे हमारी सेहत पर बुरा असर पड़ता है। इसलिए जानकार काम के दौरान थोड़ी थोड़ी देर में टहलने की सलाह देते हैं। अब इस पर अधिक मुहर लग गयी है। एक शोध के अनुसार अगर आप प्रतिदिन लंबे समय तक डेस्क पर काम करते हैं, तो प्रतिघंटे आपको पांच मिनट की चहलकदमी करनी चाहिए।



एक भारतवंशी शोधकर्ता के अनुसार, लंबे समय तक बैठ कर काम करने के दौरान हर एक घंटे में उठकर चहलकदमी करने से नकारात्मक प्रभाव कम होता है। ओरेगोन हेल्थ एंड साइंस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता सौरभ तोसार का दावा है, हमने शोध में पाया कि पांच मिनट की चहलकदमी मात्र से लंबे समय तक बैठने से पैरों की धमनियों पर पड़ने वाला कुप्रभाव कम हो जाता है।



जब लोग लंबे समय तक बैठे रहते हैं, तो मांसपेशियां सुस्त पड़ जाती हैं और हृदय को रक्त संचार नहीं कर पातीं, जिससे रक्तवाहिकाओं या धमनी द्वारा रक्तस्राव की क्षमता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और इससे टांग की धमनियों में रक्तस्राव रुक जाता है।



इंडियाना यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में शोधार्थी तोसार ने कहा, हमने देखा कि लंबे समय तक बैठे रहने का संबंध एंडोथेलियल प्रक्रिया से है, जो हृदय संबंधी रोगों का प्राथमिक कारक है। लंबे समय तक बैठने के दौरान बीच बीच में चहलकदमी करते रहने से एंडोथेलियल प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है।



तोसार ने कहा, एंडोथेलियल प्रक्रिया एक घंटे तक लगातार बैठे रहने से प्रभावी होती है। इसलिए सलाह दी गई है कि हर एक घंटे में थोड़ी देर के लिए चहलकदमी करनी चाहिए।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES4 Votes 567 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर