कैंसर का खतरा कम करता है विटामिन 'ए'

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 17, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • फेफड़ों के कैंसर के उपचार के लिए विटामिन ऐ का सेवन करें।
  • विटामिन ए कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में है मददगार।
  • टैक्सास विश्वविद्यालय के शोध में यह बात साबित हुई।
  • कैंसर मरीज नियमित व्‍यायाम करें और खानपान का ध्‍यान रखें।

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है, इसका उपचार भी आसनी से नहीं होता है। अगर कैंसर का निदान शुरूआती चरण में हो जाये तो इसके उपचार में आसानी हो जाती है। कैंसर के उपचार में विटामिन ए महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह कैंसर का कारण बनने वाली कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में मदद करता है। इस लेख में विस्‍तार से जानिये किस तरह विटामिन ए कैंसर के उपचार में मददगार है।

cancer in hindi

विटामिन ए और कैंसर

विटामिन ए की कई किस्मों में से एक (रेटोनिक एसिड) को फेफड़ों के कैंसर के इलाज में कारगर पाया गया है। यह कैंसर के लिए जिम्‍मेदार कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है। इसलिए कैंसर के उपचार के दौरान विटामिन एक का सेवन करने से कैंसर पर नियंत्रण पाया जा सकता है। कई शोधों में भी यह बात साबित हो चुकी है।

 

शोध के अनुसार

विटामिन ए से कैंसर के उपचार में प्रभाव पर कई शोध भी हो चुके हैं। टैक्सास विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के अनुसार, विटामिन ए कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में मदद करता है। इस शोध की मानें तो दुनिया भर में हर साल लगभग 10 लाख लोगों की मृत्यु फेफड़े के कैंसर के कारण हो जाती है। धूम्रपान करने वालों में कैंसर कारक कोशिकाओं के बढ़ने का सिलसिला धूम्रपान छोड़ने के बाद भी चलता रहता है।

इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि रेटोनिक एसिड ज्यादा धूम्रपान करने वालों में भी कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने में सक्षम है। इसलिए फेफड़ों के कैंसर के उपचार के दौरान विटामिन ए युक्‍त आहार और विटामिन ए के सप्‍लीमेंट का सेवन कीजिए।

 

vitamin a in hindi

विटामिन ए के स्रोत

विटामिन ए की कमी दूर करने के लिए आप आहार का सहारा ले सकते हैं। इसके लिए पनीर, अंडा, दूध और मछली आदि का सेवन कीजिए। इनमें विटामिन ए भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

धूम्रपान से बचें

धूम्रपान हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज से बहुत ही नुकसानदेह है, इसका हर एक कश जीवन को कम करता है। इसके कारण फेफड़ों के कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए धूम्रपान से बचने की कोशिश करें।

अगर आप कैंसर का उपचार करवा रहे हैं तो नियमित रूप से चिकित्‍सक से जांच करायें, नियमित व्‍यायाम करें और खानपान पर विशेष ध्‍यान दीजिए।

Image Courtesy : Getty Images

Read More Articles on Cancer in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 12589 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • reeta04 May 2012

    good info

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर