चमकती त्‍वचा और त्‍वचा रोगों के उपचार में आजमायें सौंधी मिट्टी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jul 29, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • पोर्स के माध्‍यम से त्‍वचा सांस लेती है।
  • गीले तौलिये से त्‍वचा को रगड़ना चाहिए।
  • पूरे शरीर पर मिट्टी का लेप करना चाहिए।
  • मुल्तानी मिट्टी त्वचा से गंदगी साफ करती है।

त्‍वचा की समस्‍याएं जैसे फोड़े-फुंसी, दाद-खाज, खुजली, सूजन, एक्जिमा आदि का कारण वातावरण में धूल, मिट्टी व प्रदूषण और त्‍वचा से पसीने के रूप में विकारों के निकालने में असमर्थ होने के कारण होती है। नहाने के लिए साबुन का बहुत ज्‍यादा इस्‍तेमाल और एक्‍सरसाइज की कमी इसके प्रमुख कारण होते हैं। साबुन तरह-तरह के केमिकल से बनते हैं जो भले ही बाहर से तो त्‍वचा को साफ कर देते हो, लेकिन पोर्स में जाकर उनका मार्ग अवरुद्ध करके पसीने को निकलने से रोकते हैं। इसलिए त्‍वचा रोगों के इलाज के लिए आपको त्‍वचा को साफ करने के लिए मिट्टी का इस्‍तेमाल करना चाहिए। आइए जानते हैं कि मिट्टी किस प्रकार त्‍वचा रोगों को दूर करने में आपकी मदद करती है।   

face mask in hindi

पोर्स का ब्‍लॉक होना  

पोर्स के माध्‍यम से हमारी त्‍वचा सांस लेता है। और पोर्स के बन्द हो जाने पर न केवल त्‍वचा को सांस लेने में रुकावट आती है, बल्कि पसीने के रूप में निकलने वाले विकार भी रुककर पनपने लगते है। इसके अलावा साबुन में मौजूद केमिकल ब्‍लड में भी मिल जाते हैं, जिससे ब्‍लड खराब होकर अनेक प्रकार के त्‍वचा संबंधी रोगों की भूमिका बनाने लगता है।


त्‍वचा रोगों का उपचार

त्‍वचा संबंधी कोई भी रोग हो जाने पर सभी प्रकार के नहाने के साबुनों और बाहरी तेलों के प्रयोग को बंद कर देना सबसे पहला उपाय है। इसके स्‍थान पर आपको नहाते समय आपको गीले तौलिये से त्‍वचा को धीरे-धीरे रगड़ना चाहिए। इस उपाय को करने से पोर्स खुलने के साथ-साथ शरीर की मसाज के रूप में अच्‍छी एक्‍सरसाइज हो जाती है। वैसे तो गीले तौलिये से रगड़ने से ही त्वचा की सफाई अच्छी तरह हो जाती है, फिर भी अगर आपको लगे कि त्वचा अच्छी तरह साफ नहीं हुई है, तो सप्ताह में केवल एक बार किसी हर्बल साबुन का उपयोग किया जा सकता है।

soil body mask in hindi

त्‍वचा रोगों के लिए मिट्टी

गीले तौलिये वाला उपाय करने से अधिकांश त्वचा रोग समाप्त हो जाते हैं, क्योंकि रोगों को निकलने का मार्ग मिल जाता है। लेकिन अगर आपकी समस्‍या बहुत पुरानी है तो उसे जल्द ठीक करने के लिए उस स्थान पर गीली मिट्टी का लेप करना चाहिए। ऐसी मिट्टी पूरी तरह साफ की हुई होनी चाहिए और उसमें किसी भी प्रकार की गन्दगी, कूड़ा-करकट या कंकड़ नहीं होने चाहिए। इस मामले में चिकनी मिट्टी और पीली मिट्टी सबसे अच्छी होती है। या आप बाजार में हर जगह उपलब्ध मुल्तानी मिट्टी को पानी में घिसकर या भिगोकर उसका उपयोग कर सकते हैं। मुल्तानी मिट्टी त्वचा से गंदगी साफ करने के लिए बहुत कारगर है और इसके कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं। यह त्‍वचा रोगों को समाप्त करने एवं त्वचा को मुलायम रखने में बहुत सहायक है।


मिट्टी का इस्‍तेमाल

अगर समस्‍या पूरे शरीर में हो तो पूरे शरीर पर मिट्टी का लेप करना चाहिए। लेप करने के बाद थोड़ी देर सुहाती धूप में बैठना चाहिए। इससे समस्‍या जल्‍द ठीक हो जायेगी। धूप सेवन के बाद अच्छी तरह रगड़कर नहा लेना चाहिए। यह उपाय मात्र दो से चार बार करने से ही आप त्‍वचा रोगों से छुटकारा पा सकता है।

साथ ही इस बात का भी ध्‍यान रखें कि त्‍वचा रोग से परेशान लोगों को इन उपायों के साथ मिर्च मसाले, अचार, तली चीजों और बाजार में मिलने वाले आहार और पेयों से भी दूरी बनाकर रखनी चाहिए। इसकी बजाय हरी सब्जियों, मौसमी फलों और अंकुरि‍त अन्‍न का उपयोग आपको अधिक से अधिक मात्रा में करना चाहिए।

 
Image Source : Getty

Read More Articles on Skin Care in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES116 Votes 17912 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर