शतावरी आजमाएं, सेक्स लाइफ को और स्पाइसी बनाएं!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 10, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • लेटिन भाषा में शतावरी को असपारगस-रेसेमेसस कहा जाता है।
  • शतावरी स्त्री व पुरुष दोनों के ही लिए काफी उपयोगी होती है।
  • इसके सेवन से प्रीमैच्योर इजेकुलेशन (स्वप्न-दोष) में लाभ होता है।
  • शतावरी के सेवन से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर कर लेना चाहिए।

शतावरी को लेटिन भाषा में असपारगस-रेसेमेसस भी कहा जाता है। इसका पौधा उत्तर भारत में अधिक पाया जाता है। दरअसल इसकी जड़ को औषधि की तरह प्रयोग किया जाता है। शरीर में बल और वीर्य को बढ़ाने के लिए शतावरी की जड़ का प्रयोग किय जाता है। यूं तो शतावरी स्त्री व पुरुष दोनों ही के लिए उपयोगी और लाभप्रद गुणों वाली जड़ी है, लेकिन फिर भी यह स्त्रियों के लिए विशेष रूप से गुणकारी व उपयोगी होती है।

ये हैं सबसे खतरनाक सेक्स पॉजिशन

Shatavari And Sex Life in Hindi

गर्भावस्था में संभोग करने का सही तरीका

क्या है शतावरी

शतावरी एक चमत्कारी औषधि है जिसे कई रोगों के इलाज में उपयोग किया जाता है। खासतौर पर सेक्स शक्ति को बढ़ाने में इसका विशेष योगदान होता है। यह एक झाड़ीनुमा पौधा होता है, जिसमें फूल व मंजरियां एक से दो इंच लम्बे एक या गुच्छे में लगे होते हैं और मटर जितने फल पकने पर लाल रंग के हो जाते हैं। आयुर्वेद के मुताबिक, शतावर पुराने से पुराने रोगी के शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है। इसके अलावा इसका उपयोग विभिन्न नुस्खों में व्याधियों को नष्ट कर शरीर को पुष्ट और सुडौल बनाने में  किया जाता है।

 

Shatavari And Sex Life in Hindi

 

यौन शक्ति के लिए शतावरी

शतावरी को शुक्रजनन, शीतल, मधुर एवं दिव्य रसायन माना जाता है। महर्षि चरक ने भी शतावरी को चिर यौवन को कायम रखने वाला माना था। आधुनिक शोध भी शतावरी की जड़ को हृदय रोगों में प्रभावी मानते हैं। शतावरी के लगभग 5 ग्राम चूर्ण को सुबह और रात के समय गर्म दूध के साथ लेना लाभदायक होता है। इसे दूध में चाय की तरह पकाकर भी लिया जा सकता है। यह औषधि स्त्रियों के स्तनों को बढ़ाने में मददगार होती है। इसके अलावा शतावरी के ताजे रस को 10 ग्राम की मात्रा में लेने से वीर्य बढ़ता है। शतावरी मूल का चूर्ण 2.5 ग्राम को मिश्री 2.5 ग्राम के साथ मिलाकर पांच ग्राम मात्रा में रोगी को सुबह शाम गाय के दूध के साथ देने से प्रमेह, प्री-मैच्योर इजेकुलेशन (स्वप्न-दोष) में लाभ मिलता है। यही नहीं शतावरी की जड़ के चूर्ण को दूध में मिलाकर सेवन करने से धातु वृद्धि भी होती है।



लेकिन यदि आप पहले से किसी चिकित्सकीय स्थिति जैसे, अवसाद या तनाव, गर्भावस्था आदि से गुजर रहे हैं तो आपको इसे लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लेना चाहिए।



Read More Articles On Sex & Relationship in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES144 Votes 23579 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर