डार्क सर्कल और आंखों की सूजन को दूर करे त्रिफला जल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 06, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • त्रिफला जल से आंखें धोने से डार्क सर्कल दूर होते हैं।
  • आंखों की संपूर्ण सेहत के लिए आराम है जरूरी।
  • सर्जरी या संक्रमण होने पर डॉक्‍टर की सलाह से लें काम।

आपकी आंखें बहुत कीमती हैं। यही तो हैं जो आपको दुनिया से रूबरू कराती हैं। और इतना तो आप जानते ही होंगे कि आंखें आपके शरीर का सबसे संवेदनशील अंग होती हैं। लेकिन, क्‍या आप उन्‍हें जरूरी आराम देते हैं। घंटों आपकी नजरें कंप्‍यूटर पर गढ़ी रहती हैं। इससे आपकी आंखें थक जाती हैं। आंखों का मेकअप भी उन पर बुरा असर डालता है, इसके साथ ही इससे सिरदर्द, सूजी व रूखी आंखें और डार्क सर्कल जैसी परेशानियां हो सकती हैा। कुछ मामलों में मेकअप के कारण दृष्‍टि‍ पर भी बुरा असर पड़ता है। ऐसे में त्रिफला चूर्ण आपके काफी काम आ सकता है। यह आयुर्वेदिक उपचार आपकी आंखों को कई संभावित समस्‍याओं से बचाने में मददगार हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: डार्क सर्कल से निजात दिलाएंगे ये घरेलू नुस्खे

triphla and eyes in hindi

यह क्‍या है ?

अगर आप अपनी आंखों को अच्‍छी तरह धोते  हैं, तो इससे उनकी सेहत पर अच्‍छा असर पड़ा है। इससे आपकी आंखें ताजा महसूस करती हैं। उनकी थकान और रूखापन दूर होता है। इसके साथ ही आंखों के आसपास की छोटी मांसपेशियों की मसाज करने से भी आंखों को आराम मिलता है। खासतौर पर जब आप घंटों कंप्‍यूटर पर काम करते हैं।

इसे भी पढ़ें : आंखों को स्वस्थ रखने के लिए करें ये एक्सरसाइज

त्रिफला का कमाल

आयुर्वेद के मुताबिक त्रिफला में कई स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक गुण होते हैं। यह पाचन क्रिया के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। इसके सेवन को भी आंखों के लिए लाभकारी माना जाता है। अगर आप आंखें धोने के लिए त्रिफला का इस्‍तेमाल करते हैं, तो इससे भी आपकी आंखों को बहुत फायदा होगा। त्रिफला तीन हर्बल उत्‍पादों से मिलकर बनता है। इसमें आंवला, हरतकी और बिहितकी के चूर्ण से मिलकर बनता है। यह नेचुरल ब्‍लड प्‍यूरीफायर और आई टॉनिक है। यह आंखों के आसपास की मांसपेशियों को अच्‍छी तरह काम करने में मदद करता है। पूरे शरीर के लिए भी इसके कई लाभ हैं।

पहला कदम: त्रिफला जल बनायें

इसके लिए आपको पेय जल और त्रिफला पाउडर की जरूरत होगी। दो गिलास पानी में दो चम्‍मच त्रिफला पाउडर मिलायें और इसे आठ घंटे के लिए ऐसी ही छोड़ दें। बेहतर होगा अगर आप इसे रात भर ऐसा ही रहने दें। अगली सुबह इस मिश्रण को करीब दस मिनट तक उबालें। और फिर इस मिश्रण को पूरी तरह ठंडा होने के लिए छोड़ दें। आप चाहें तो इसे ठंडा करने के लिए फ्रिज में भी रख सकते हैं।

 

दूसरा कदम - अपना चेहरा और आंखें धोयें

जब यह मिश्रण ठंडा हो जाए तो इसे एक कटोरी में छान लें। अब इस ठंडे पानी से अपना चेहरा और आंखें धोयें। याद रखें चेहरा धोते समय आपको साबुन लगाने की जरूरत नहीं है। इसके बाद दोनों हाथों में थोड़ा त्रिफला जल लें। और अपने दोनों हाथों को अपनी दोनों आंखों पर रख दें। अपनी आंखें खुली रखें ताकि वे त्रिफला जल में डूब जाएं। अपनी पलकें झपकाकर इस पानी को फेंक दें। इस प्रक्रिया को तीन बार दोहरायें। इसके बाद अपने चेहरे और आंखों को तौलिये से सुखा लें।

 

तीसरा कदम- अपनी आंखों को दें आराम

इस कदम में आपको खीरे के दो टुकड़ों, गुलाब या तुलसी कुछ पत्तियों की जरूरत होगी। ये सब ठंडी होनी चाहिये ताकि इससे आंखों को आराम मिल सके। शवासन में लेट जाइये और आंखें बंद करके इनमे से कुछ भी अपनी आंखों पर रखिेये। इसके बाद गुलाब जल में रूई के फोहे को डुबोकर उसे इसके ऊपर रखें। आप चाहें तो इसके ऊपर एक कोमल मखमल का टुकड़ा भी बांध सकते हैं।

 

चौथा कदम- आंखों का व्‍यायाम

जब आप शवासन में लेटे हों तो किसी खूबसूरत चीज के बारे में विचार करें। अगर आप ऐसा न कर पा रहे हों, तो ध्‍यान अपनी सांसों की ओर लगाने का प्रयास करें। इसके बाद धीरे-धीरे अपनी आंखों को घड़ी की दिशा में और उसकी विपरीत दिशा में घुमायें। इसके बाद आंखों को संख्‍या आठ की मुद्रा में घुमायें। इसके बाद पहले अपने पैरों और फिर अपनी आंखों को देखने का प्रयास करें। इसके बाद दायें-बायें देखें। कुछ समय तक इसी पोजीशन में रहें। इस पूरे चक्र को पांच बार दोहरायें।

 

पाचवां कदम- आराम करें

आंखों के व्‍यायाम के बाद, थोड़ी देर आराम करें। अपने दिमाग को शांत करें और अच्‍छी बातों के बारे में सोचें। बीस मिनट तक शवासन में रहें और फिर धीरे-धीरे अपने पंजों और फिर शरीर के ऊपरी भाग को हिलायें। अपनी हथेलियों को आपस में मलें और फिर इन्‍हें अपनी आंखों पर रखें। ढंकीं आंखों को ही खोलें ताकि आंखों को अचानक तेज रोशनी का सामना न करना पड़े।

 

टिप्‍स

  • इस क्रिया को दिन के आखिर में करें। इससे आपको शांत रहने में मदद मिलेगी।
  • अपनी आंखों पर गर्म या गुनगुना पानी न डालें।
  • आंखों पर पानी के छींटे न मारें इससे उन्‍हें नुकसान हो सकता है।
  • अगर आपकी आंखों में संक्रमण हे या फिर आपने हाल ही में आंखों का ऑपरेशन आदि करवाया है, तो इस पूरी प्रक्रिया को अपनाने से पहले अपने डॉक्‍टर से जरूर बात करें।

 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Getty

Read More Articles on Home Remedies In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES46 Votes 4217 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर