मधुमेह से बचाव के तरीके

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 24, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • पहले डायबिटीज के मरीजों को तेल खाने से मना किया जाता था।
  • नारियल तेल डायबिटीज को कंट्रोल करने में अहम भूमिका निभाता है।
  • नारियल का तेल बिना पित्त के ही खाना पचाने लगता है।
  • इससे टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों को काफी लाभ मिलता है।

मधुमेह एक खतरनाक बीमारी है। लेकिन अगर इसका मरीज अपना पूरा ख्याल रखे और व्यायाम करने के साथ साथ उचित खाद्य पदार्थों का सेवन करे तो इस रोग पर काबू पाया जा सकता है और इस रोग से होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है।


मधुमेह के मरीजों के लिए खुशखबरी

कुछ दिनों पहले तक मधुमेह यानि डायबिटीज के मरीजों को तेल खाने से मना किया जाता था। लेकिन डायबिटीज के मरीजों के लिए अब खुशखबरी ये है कि वे एक ऐसे तेल का सेवन कर सकते हैं जो नुकसान करने की बजाए फायदा करेगा और डायबिटीज पर नियंत्रण रखेगा। और उस तेल का नाम है नारियल तेल! जी हाँ! नारियल तेल डायबिटीज को कंट्रोल करने में बहुत हीं अहम भूमिका निभाता है।

 

 

नारियल तेल  से मधुमेह पर काबू पाया जा सकता है

नारियल तेल  डायबिटीज के मरीजों के लिए बहत हीं फायदेमंद है। लेकिन नारियल तेल के फायदे जानने से पहले आपके लिए यह जानना जरुरी है कि डायबिटीज में क्या दिक्कतें आती हैं।

 


डायबिटीज और इंसुलिन में सम्बन्ध

डायबिटीज में मरीज का शरीर या तो इंसुलिन का निर्माण करना बंद कर देता है ( ऐसा टाइप 1 डायबिटीज में होता है) अथवा मरीज का पैनक्रियाज इंसुलिन तो निर्मित करता है लेकिन उसका शरीर उस इंसुलिन का उपयोग कर पाने में असमर्थ होता है ( ऐसा टाइप 2 डायबिटीज में होता है)।


इंसुलिन की भूमिका

इंसुलिन हमारे शरीर का एक मुख्य होरमोन होता है जो हमारे शरीर में मौजूद शुगर यानि ग्लूकोज को हमारी कोशिकाओं तक पहुंचाता है जिससे कोशिकाओं को आहार मिलता है। और जब हमारी कोशिकाओं को आहार मिलता है तो हमें उर्जा मिलती है। लेकिन जब हमारे शरीर में इंसुलिन की कमी हो जाती है या जब हमारा शरीर इंसुलिन रेजिस्टेंट हो जाता है यानि जब हमारा शरीर, हमारे  शरीर में मौजूद इंसुलिन का उपयोग नहीं कर पाता तब हमारी कोशिकाओं को आहार नहीं मिल पाता जिससे हमें उर्जा नहीं मिलती और हमें बहुत कमजोरी महसूस होती है तथा कोशिकाएं नष्ट होने लगती हैं। दूसरी बात कि जब हमारे शरीर में शुगर का स्तर सामान्य से बढ़ने लगता है तो यह हमारे प्रमुख अंगों को क्षति पहुँचाने लगता है जो किडनी को ख़राब करता है, आँखों को ख़राब करता है तथा हार्ट एटेक एवं स्ट्रोक का कारण बनता है।


हमारी कोशिकाओं तक ग्लूकोज पहुंचे इसलिए मधुमेह के कई मरीजों को इंसुलिन का इंजेक्सन लेना पड़ता है। अगर बाहरी स्रोत से ऐसे लोगों को समय पर इंसुलिन की मदद नहीं दी गई तो उर्जा की कमी से ये कोमा में जा सकते हैं, बेहोश हो सकते हैं या कोई अन्य जटिलताएं पैदा हो सकती हैं।  

 

 

 


नारियल तेल मधुमेह के मरीजों के लिए लाभकारी क्यों है?


नारियल के तेल में कुछ खास और दुर्लभ वसा अणु होते हैं  जिन्हें मध्यम श्रृंखला फैटी एसिड (एम् सी ऍफ़ ए ) यानि मीडियम चेन फैटी एसिड के रूप में जाना जाता है। ये आपकी कोशिकाओं को बिना इंसुलिन की मदद के आहार प्रदान करता है। इस तरह बिना इंसुलिन के भी आपको उर्जा मिलती रहती है एवं आपकी कोशिकाओं को आहार भी मिलता रहता है। मधुमेह के मरीजों के लिए इससे बढियां बात और क्या हो सकती है! इसके अलावा नारियाल तेल आपकी पैनक्रियाज को स्वस्थ बनाते हैं और इंसुलिन निर्माण के लिए प्रेरित करता है। जिन मरीजों का शरीर ग्लूकोज रेजिस्टेंट हो जाता है नारियल तेल उनके शरीर को भी इस लायक बनाने लगता है जिससे कि मरीज का शरीर इंसुलिन का उपयोग करने लग जाये। इससे टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों को काफी लाभ मिलता है।


हाल के एक शोध से पता चलता है कि  मधुमेह का मरीज नारियल तेल का अगर नियमित रूप से सेवन किया करें तो वे मधुमेह की समस्याओं से काफी हद तक निजात पा सकते हैं।

एक वैज्ञानिक द्वारा किये गए खोज से यह पता चलता है कि नारियल तेल अदभूत तेल है क्योंकि यह बिना पित्त के ही खाना पचाने लगता है जो आमतौर पर नहीं होता। खाने को पचने के लिए अमाशय में पित्त का मिलना जरुरी होता है और दूसरा कोई भी तेल पित के साथ मिलकर हीं खाना पचाना शुरू करता है। लेकिन नारियल-तेल की खासियत यह है कि यह पित्त से मिले बिना हीं सीधा आपके लीवर में पहुँच जाता है। उसके पश्चात वह आपकी रक्त वाहिनियों में पहुंचकर यानि आपके रक्त प्रवाह में मिलकर ‘कैटोंन बोडीज़’ के रूप में कोशिकाओं तक पहुँच कर ऊर्जा की भरपाई करता है।


‘कैटोंन बोडीज़’ नयी कोशिकाओं का निर्माण करती हैं जिसके फलस्वरूप मधुमेह के मरीज को इंसुलिन पर निर्भर नहीं रहना पड़ता। आपको यह सुनकर शायद यकिन न हो कि एक समय के बाद नारियल तेल की वजह से मधुमेह के मरीज को दवा की भी जरुरत नहीं रह जाती। इससे मरीज की रोग प्रतिरोधक प्रणाली मजबूत  हो जाती है और सुचारू रूप से काम करने लगती है जिसके फलस्वरूप मरीज को अन्य रोगों से भी छुटकारा मिलने लगता है। 

हालाँकि एक बार जिसे शुगर की बीमारी हो जाती है उसका ठीक होना असंभव होता है; उसे दवाइयों पर जीवन भर निर्भर रहना पड़ता है लेकिन नारियल तेल के सेवन से कुछ लोग मधुमेह से मुक्ति भी पा चुके हैं यानि ठीक हो चुके हैं इसलिए हो सकता है कि आप भी ठीक हो जाये!  लेकिन इसके लिए जरुरी है कि आप शुद्ध नारियल तेल का सेवन करें न कि मिलावटी तेल का।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES43 Votes 15991 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर