एंटीसोशल पर्सनालिटी डिसार्डर से चिकित्सा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 29, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • एंटीसोशल पर्सनैलिटी डिस्‍ऑर्डर के मरीज़ों का चिकित्सकीय या कानूनी उपचार आवश्यक है।
  • साइकोथेरेपी रोगियों को दूसरों की भावनाओं के प्रति अधिक संवेदनशील होना सिखाती है। 
  • प्रारंभिक दौर में ही इसकी चिकित्सा शुरू हो गई तो इसके सफल होने की संभावना अधिक होती है। 
  • एंटीसोशल बिहेवियर के पीड़ितों को आपराधिक न्याय प्रणाली के माध्यम से ही सुरक्षा मिल पाती है।

सामाजिक व्यवस्था वा सुरक्षा की द्रष्टी से एंटीसोशल पर्सनैलिटी डिस्‍ऑर्डर के मरीज़ों का चिकित्सकीय या कानूनी उपचार अति आवश्यक है। एंटीसोशल पर्सनैलिटी डिस्‍ऑर्डर के उपचार के लिए कई साइकोथेरेपी तकनीकों का उपयोग किया जाता रहा है। छोटी उम्र के लोगों में, परिवार या समूह साइकोथेरेपी से इस प्रवृति पर नियंत्रण पाया जा सकता है। रोजगार-परक और संबंधपरक शिक्षा, और सामाजिक समर्थन को प्रोत्साहन करने से कुछ लाभ हो सकता है। साइकोथेरेपी इस रोग के शिकार लोगों को दूसरों की भावनाओं के प्रति अधिक संवेदनशील होना सिखाती है और अपने लक्ष्यों और उद्देश्यों के प्रति एक नए, सामाजिक तौर पर स्वीकार्य एवं रचनात्मक सोच के लिए प्रोत्साहित करती है।

[इसे भी पढ़ें: 10 आसान रास्ते तनाव मुक्ति के]

 

इन थेरेपी से होता है इलाज

कोग्निटिव थेरेपी सोच के सोशियोपैथिक तरीके को बदलने की कोशिश करता है। बिहेवियर थेरेपी में प्रशंसा एवं दंड के उपयोग के द्वारा अच्छे व्यवहार को प्रोत्साहित किया जाता है। सामान्य आबादी में यह रोग पुरुषों में लगभग तीन प्रतिशत और महिलाओं में एक प्रतिशत पाया जाता है। जबकि मोनोरोगियों में इस रॊग का अनुपात तीन से तीस प्रतिशत पाया जाता है। सामान्यतः युवा अवस्था में इस बीमारी का गंभीर रूप देखा गया है। लकिन यह रोग मध्य आयु वाले लोगों को भी होता है। इस रोग के उपचार की बहुत नई वा आदर्श तकनीक  फिलहाल मोजूद नहीं है। इस रोग से बचाव का कोई प्रमाणिक उपाय नहीं है। किन्तु व्यक्ति के सामाजिक वातावरण में सुधार से समस्या की गंभीरता में कमी लाई  जा सकती है। खासकर अगर ये सुधार जीवन के शुरुआती दौर में हो।

 

 

 

 

 

[इसे भी पढ़ें:भरपूर नींद के फायदे]

उपचार के अन्य विकल्प

कुछ मामलों में, रोग के उपचार के लिए दवाओं का सहारा लिया जाता है। सेलेक्टिव सेरेटोनिन रिअपटेक इनहिबिटर(एसएसआरआईज), जैसे-फ्लुक्सेटाइन(प्रोजैक) और सेर्ट्रालाइन(जोलोफ्ट), आक्रामकता और चिड़चिड़ापन को कम कर सकती हैं। जिन लोगों को यह समस्या होती है, वे ये नहीं समझ सकते कि उनके साथ कुछ समस्या है, इसलिए इनमें से किसी भी उपाय का आजमाना कठिन होता है। अगर जीवन के प्रारंभिक दौर में ही इसकी चिकित्सा शुरू हो गई तो इसके सफल होने की संभावना अधिक होती है, लेकिन लंबे समय तक ऐसी सोच औऱ व्यवहार रहने के बाद इसे बदलना कठिन होता है। इसके अलावा, जितने अधिक दिनों तक व्यक्ति इस व्यक्तित्व शैली या समस्या के साथ जीता है, वह बदलाव के लिए प्रयत्न करने में उतना ही कम रुचि रखता है। कुछ लोगों में, उग्रता या चिड़चिड़ापन उम्र बढने के साथ घटता है, लेकिन कुछ व्यक्तित्वपरक विशेषताएं बनी रह सकती हैं।



प्रायः एंटीसोशल बिहेवियर के पीड़ितों को आपराधिक न्याय प्रणाली के माध्यम से ही सुरक्षा मिल पाती है। कुछ विरले मामलों में, सुधार तंत्र (जेल और कैद) इलाज या रिअबिलिटेशन(पुनर्वास) का अवसर उपलब्ध कराता है, लेकिन प्रायः ऐसा वातावरण, जिसमें असामाजिक लोग बड़ी संख्या में होते हैं, असामाजिक व्यवहार को बढ़ावा ही मिलता है।

 

Image Source - Getty Images

Read More Articles On Mental Health In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 11504 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर