कमर पर टाइट बेल्‍ट बांधने से पड़ता है घुटनों पर असर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 13, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

tight belt पेट कम करने के लिए हमें कड़े व्‍यायाम और आहार की जरूरत होती है। और यह करने से अधिकतर पुरुष बचना चाहते हैं। क्‍योंकि इसमें मेहनत और समय लगता है और साथ ही संयम रखना पड़ता है। लेकिन, इससे बचने के लिए लोग आसान रास्‍ता चुनते हैं। वे बेल्‍ट को टाइट करके बांधने लगते हैं। ऐसा करके वे अपने पेट को कम करने का प्रयास करते हैं। लेकिन, क्‍या आप जानते हैं कि ऐसा करना स्‍वास्‍थ्‍य की दृष्टि से सही नहीं।


कोरियाई शोधकर्ताओं ने एक सलाह दी है। 12 स्‍वस्‍थ पुरुषों पर किये गए एक शोध के अनुसार शोधकर्ताओं ने पाया कि कमर पर टाइट बेल्‍ट (जिनसे कमर का आकार दस फीसदी तक कम हो जाए) बांधने से जब पुरुष खड़े होते हैं तो उनके एब्‍डोमिनल मांसपेशियों के इस्‍तेमाल करने का तरीका बदल जाता है।


ऐसा उन मांसपेशियों पर पड़ने वाले अतिरिक्‍त दबाव के कारण होता है। शोध में यह बात सामने आयी कि यह अतिरिक्‍त दबाव रीढ़ की हड्डी में अकड़न ला सकता है।


इसके साथ ही ज्‍यादा टाइट बेल्‍ट बांधने से सेंटर ऑफ ग्रेविटी और श्रोणिक क्षेत्र के कोणों में भी बदलाव आता है। इसके साथ ही यह घुटनों के जोड़ों पर भी अतिरिक्‍त दबाव डालता है। हालांकि यह शोध बहुत छोटे पैमाने पर किया गया है, लेकिन यह उन लोगों के लिए एक संकेत है, जो अपना वजन कम दिखाने के लिए सही और लंबे रास्‍ते के स्‍थान पर शॉर्ट कट चुनते हैं।

 

इन्‍जे यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कहा कि इस शोध को अभी महिलाओं और मोटे व्‍यक्तियों पर परखा जाना बाकी है।

 

Image Courtesy- Getty Images

Read More Articles on Health News in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 670 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर