थायराइड में इन खाद्य पदार्थों से बचें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 25, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

थायरायड ग्रंथि, वह ग्रंथि है जो हार्मोन बनाती है और जो ऊर्जा उत्पादन और चयापचय के लिए बहुत आवश्यक हैं। इसलिए इस पर आपके द्धारा लिए गए खाद्य पदार्थ का बहुत असर पड़ता है। लेकिन जब आप थायराइड की परेशानी से जूझ रहे होते हैं तब खाद्य आपके दोस्त भी हो सकते है और दुश्मन भी। यह इस बात निर्भर करता है कि आप किस प्रकार का भोजन करते हैं। कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते है जो थायराइड को हार्मोन का उत्पादन करने में बाधा उत्पन्न करते है इसलिए इन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए। ताकि थायराइड के लक्षणों जैसे सुस्ती, अवसाद, कब्ज, और वजन आदि को कम करने में मदद मिल सकें। आइए हम आपको बताते है कि आपको कौन-कौन से खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।

 

[इसे भी पढ़े : थायराइड को प्रभावित करने वाले खाद्य पदार्थ]

 

थायराइड को नुकसान पहुंचाने वाले खाद्य पदार्थ

ग्लूटेन-सेंसिविटी फूड- गेहूं और अन्य अनाज जैसे राई, जौ, बाजरा, और जई हैं। ग्लूटेन-सेंसिविटी और थाइराइड फंक्शन में संबंध होता है। और यदि आपका थायरायड ठीक नही है, तो आपका ग्लूटेन-सेंसिविटी का सेवन सीमित हो जाएगा। बाजरा में गोइत्रोगेंस होता है, और अगर आप अपने थायरायड के बारे में चिंतित हैं तो इनका सीमित उपयोग ही करना चाहिए।


सलीबधारी सब्जियों- सलीबधारी सब्जियां जैसे ब्रोकोली, शलजम, ब्रसेल्स स्प्राउट्स और गोभी। ये सब्जियां थायराइड के रोगी के लिए अच्छी नहीं हैं। बेहतर होगा कि इनसे जरा दूर ही रहा जाए।

 

[इसे भी पढ़े : थाइराइड में फायदेमंद आहार]

 

सोया- सोया एक शक्तिशाली भोजन है। सोया का एक छोटे सा हिस्सा अगर रोज अपने खाने में लिया जाए तो यह थाइराइड फंग्शन का दमन करने के लिए पर्याप्त है। पर इसका ज्यादा सेवन करना आपके थायरायड के लिए ठीक नही है और सबसे खराब खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है क्योंकि यह चयापचय के लिए हानिकारक होता है।

रिफांड खाद्य पदार्थ- थायराइड की बीमारी के साथ लोगों को परिष्कृत खाद्य पदार्थ जैसे सफेद ब्रेड, पास्ता, चावल और फलों के रस जिसमें शुगर की मात्रा ज्यादा हो ऐसे पेय पदार्थों से बचना चाहिए। परिष्कृत या प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ से थायराइड की दर में वृद्धि होती है और जिससे आहार से चीनी खून में प्रवेश करती है। आपकी पैंक्रियास से इंसुलिन के रहस्य का पता रक्त में शर्करा से लगता है। थायरायड ग्रंथि इंसुलिन हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करता है, जबकि अतिरिक्त इंसुलिन का उत्पादन चीनी के द्धारा थाइराइड के लक्षण को बदतर बना सकता हैं।

 

Read More Article on Thyroid in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES85 Votes 21618 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर