ग्रीन टी से बनी है ये वाइन, जड़ से खत्म करेगी डायबिटीज और कैंसर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 07, 2017
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

 

 

  • सेहत के लिए फायदेमंद है टी वाइन।
  • कई बीमारियों से बचाएगी ये वाइन।
  • ग्रीन टी की तरह ही है फायदेमंद।

स्वस्थ रहने के लिए ग्रीन टी सबसे बेहतरीन पेय पदार्थों में से एक है। यह ना सिर्फ हमें शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखती है बल्कि हमें कई बीमारियों से भी बचाती है। कई रिसर्च में इस बात का खुलासा भी हो चुका है कि रोजाना आठ कप ग्रीन टी हृदय रोग की आशंकाओं को 90 फीसद तक कम कर देती है। इसके साथ ही ग्रीन टी कोलेस्ट्रॉल के स्‍तर को भी कम करती है। इन सब से अलग हाल ही में असम में टोकलाई टी रिसर्च इंस्टीट्यूट (टीआरए) के 5 वैज्ञानिकों ने एक बड़ी रिसर्च की है। वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च में टी.वाइन बनाई है। एक्सपर्टों का दावा है कि यह पूरी तरह से कीटनाशक से मुक्त है। यानि कि इसके शरीर पर किसी भी तरह के नकारात्मक असर नहीं होंगे।

 
वैज्ञानिकों का कहना है कि इस टी वाइन में सीटीसी वाइन, आर्थोडॉक्स वाइन और ग्रीन टी वाइन शामिल है। यानि कि ग्रीन टी से बनी ये टी वाइन लोगों को कई तरह की बीमारियों से बचाएगी। इस वाइन को बनाने वाली टीम के हेड डॉक्टर प्रशांत दा का कहना है कि हालांकि वो और उनकी टीम इसे बनाने के लिए 2015 से ही काम कर रही थी। इसे टीआरए की वार्षिक आम बैठक के दौरान लोगों के लिए आधिकारिक तौर पर पेश किया गया। हालांकि प्रशांत दा का कहना है कि अभी ये वाइन मार्किट में मिलनी शुरू नहीं हुई है। लेकिन बहुत जल्दी हो जाएगी।
 
क्या हैं टी वाइन के फायदे
 
आज हमारे देश में करोड़ों लोग अर्थराइटिस जैसी खतरनाक बीमारी की चपेट में हैं। टी वाइन इस बीमारी से काफी हद तक राहत दिलाएगी। हालांकि इस टी वाइन की कितनी मात्रा लेनी है उसक खुलासा भी जल्दी हो जाएगा।
 
ग्रीन टी की तरह ही टी वाइन शरीर के फ्री रेडीकल्स को नष्ट कर इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बनाएगी। यानि कि इससे सेवन से शरीर में बीमारियों का खतरा कम हो जाएगा और शरीर रोग-मुक्‍त रहेगा।
 
डायबिटीज की मार झेल रहे लाखों लोगों के लिए भी टी वाइन फायदेमंद है। ये वाइन ब्लड में शुगर के लेवल को नियंत्रित करती है।
 
ये टी वाइन कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से भी निजात दिलाएगी। ये वाइन कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकती है। साथ ही ये मुंह के कैंसर के लिए बहुत ही फायदेमंद है।
 
मेटाबॉलिज्‍म के स्‍तर को बढ़ाने के लिए भी टी वाइन कामयाब है। यानि कि अगर शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा संतुलित रहेगी तो रक्त चाप भी सामान्य रहेगा। और अगर जिसका रक्त चाप सामान्य रहेगा उसे हार्ट अटैक का खतरा भी नहीं होगा।
 
मस्तिष्क रोग के लिए भी टी वाइन फायदेमंद है। इसका उपयोग मस्तिष्क उत्तकों को मृत होने से रोकता है। इससे भूलने की बीमारियों जैसे अलजाइमर या पार्किशन बीमारी होने की आशंका भी कम होंगी।

वैज्ञानिकों का कहना है कि इस टी वाइन में सीटीसी वाइन, आर्थोडॉक्स वाइन और ग्रीन टी वाइन शामिल है। यानि कि ग्रीन टी से बनी ये टी वाइन लोगों को कई तरह की बीमारियों से बचाएगी। इस वाइन को बनाने वाली टीम के हेड डॉक्टर प्रशांत दा का कहना है कि हालांकि वो और उनकी टीम इसे बनाने के लिए 2015 से ही काम कर रही थी। इसे टीआरए की वार्षिक आम बैठक के दौरान लोगों के लिए आधिकारिक तौर पर पेश किया गया। हालांकि प्रशांत दा का कहना है कि अभी ये वाइन मार्किट में मिलनी शुरू नहीं हुई है। लेकिन बहुत जल्दी हो जाएगी।

क्या हैं टी वाइन के फायदे

  • आज हमारे देश में करोड़ों लोग अर्थराइटिस जैसी खतरनाक बीमारी की चपेट में हैं। टी वाइन इस बीमारी से काफी हद तक राहत दिलाएगी। हालांकि इस टी वाइन की कितनी मात्रा लेनी है उसक खुलासा भी जल्दी हो जाएगा।
  • ग्रीन टी की तरह ही टी वाइन शरीर के फ्री रेडीकल्स को नष्ट कर इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बनाएगी। यानि कि इससे सेवन से शरीर में बीमारियों का खतरा कम हो जाएगा और शरीर रोग-मुक्‍त रहेगा।
  • डायबिटीज की मार झेल रहे लाखों लोगों के लिए भी टी वाइन फायदेमंद है। ये वाइन ब्लड में शुगर के लेवल को नियंत्रित करती है।
  • ये टी वाइन कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से भी निजात दिलाएगी। ये वाइन कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकती है। साथ ही ये मुंह के कैंसर के लिए बहुत ही फायदेमंद है।
  • मेटाबॉलिज्‍म के स्‍तर को बढ़ाने के लिए भी टी वाइन कामयाब है। यानि कि अगर शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा संतुलित रहेगी तो रक्त चाप भी सामान्य रहेगा। और अगर जिसका रक्त चाप सामान्य रहेगा उसे हार्ट अटैक का खतरा भी नहीं होगा।
  • मस्तिष्क रोग के लिए भी टी वाइन फायदेमंद है। इसका उपयोग मस्तिष्क उत्तकों को मृत होने से रोकता है। इससे भूलने की बीमारियों जैसे अलजाइमर या पार्किशन बीमारी होने की आशंका भी कम होंगी।
Read More Articles On Other Diseases In Hindi
Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1375 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर