विदेशों में बैन ये चीजें भारत में नहीं हैं प्रतिबंधित

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 08, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • भारतीय लखटकिया - नैनो, सुरक्षा की दृष्टि से वदेशों में बैन है।
  • इंडियन हनी में एंटीबॉयोटिक्स की मिलावट के कारण विदेश में बैन है।
  • अमेरिका में बैन किंडर जॉय में 25 सौ डॉलर का जुर्माना लगता है।
  • डीकोल्ड टोटल और डिस्प्रीन जैसी दवाईयां विदेशों में बैन हैं।

 

मैगी के बैन होने के बाद भारत में मिल रही कई चीजों पर सवाल उठने शुरू हुए जो लोगों को स्वास्थ्य को देखते हुए काफी नुकसानदायक हैं और फिर भी अपने देश में बिक रही हैं। मैगी के बैन होने के बाद देश की जनता को पता है कि उनके बाजार में मिल रही कई चीजें उसकी सेहत के लिये नुकसानदायक हैं। इस लेख में हम आपको कुछ ऐसी ही चीजों के बारे में बताने वाले जो विदेशों में तो बैन है लेकिन अपने देश में काफी लोकप्रिय हैं।

Kinder joy

किंडर जॉय

अगर आप अमेरिका जाने वाले हैं तो रास्ते के लिए बच्चों को किंडर जॉय न दें। किंडर जॉय अमेरिका में प्रतिबंधित है और इसके इस्तेमाल पर वहां 25 सौ डॉलर का जुर्माना लगता है। अमेरिका के विशेषज्ञों के अनुसार इस चॉकलेट में सरप्राइज टॉय छिपा रहता है जिससे बच्चों का गला चोक हो जाने का डर रहता है। वहीं अपने देश में बच्चों के बीच ये काफी लोकप्रिय है।

 

 

लखटकिया और मारूति 800 तक है बैन

देश के मध्यमवर्ग की पसंदीदा गाड़ी टाटा नैनो गोबल एनसीएपी के इंडिपेंडेंट क्रेश टेस्ट में फेल होने के कारण विदेशों में बैन है। इसी तरह मारूति 800 भी सुरक्षा की दृष्टि से विदेशों में बैन की हुई है। जबकि ये दोनों गाड़यां ही भारत की सड़कों पर सबसे ज्यादा नजर आती है।

 

 

लाइफब्वॉय साबुन

अपने देश में स्वास्थ्य और तंदरुस्ती का ठेका लिए साबुन तक विदेशों में बैन हैं, जिनमें पहले नम्बर पर लाइफब्वॉय साबुन है। इस साबुन को विदेशों में स्कीन के लिए नुकसानदायक माना जाता है। साथ ही इसका उपयोग जानवरों को साफ करने के लिए किया जाता है। मतलब की जिन साबुन का उपयोग हम अपने देश में नहाने के लिए करते हैं, उससे विदेशी अपने जानवरों को नहलाते हैं।

 

डिस्प्रीन और अन्य दवाईयां

डिस्प्रीन, डी-कोल्ड टोटल, शहद, विक्स, निमुलिड आदि कई दवाईयां विदेशों में बैन है। हमारे देश की छह प्रसिद्ध शहद की कंपनियों - डाबर, पतंजलि, हिमालया, वैद्यनाथ और खाकी, में एंटीबॉयोटिक्स की मात्रा ज्यादा पाये जाने के कारण विदेशों में बैन है।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Images source : © Getty Images
Read More Articles on Diet in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES56 Votes 9989 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर