कमर दर्द दूर करना है तो ठीक से सोएं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 24, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सोने का तरीका ठीक कर कमर दर्द दूर किया जा सकता है।
  • सिर दर्द के बाद कमर दर्द सबसे बड़ी समस्या बन रहा है।
  • ठीक से सोने के लिए बिस्तर और तकिये सही होने चाहिए।
  • करवट लेकर सोने पर दोनों पैरों के बीच एक तकिया लगाएं।

सिर दर्द के बाद कमर दर्द आज सबसे आम स्वास्थ्य समस्या बना हुआ है। आज-कल उम्र दराज लोगों को ही नहीं, बल्कि युवाओं को भी यह कमर का दर्द सताता है। रात को सोते समय शरीर का पोश्चर ठीक न होने से रीढ़ की हड्डी की संरचना बिगड़ जाती है और इससे कमर के निचले हिस्से और गर्दन में दर्द शुरू हो जाता है। इसलिए रात को ठीक प्रकार से सोना बेहद जरूरी होता है। तो चलिये जानें कि कमर दर्द को दूर करने के लिए ठीक प्रकार से कैसे सोएं।

क्यों होता है कमर दर्द

हमारी रीढ़ 32 हड्डियों से मिल कर बनी होती है, जिसमें से 22 सक्रिय भूमिका निभाती हैं। जब इनकी गति में किसी तरह की बाधा पैदा होती है तो कमर दर्द की समस्या होने लगती है। रीढ़ की हड्डी के अलावा कमर की बनावट में कार्टिलेज, डिस्क, जोड़, मांसपेशियां और लिगामेंट आदि भी होते हैं। इनमें से किसी में भी कोई परेशानी होने पर कमर दर्द शुरू हो सकता है। कमर दर्द के कारण खड़े होने, झुकने और मुड़ने में बहुत तकलीफ होती है। और यदि अगर शुरुआत में ही जरूरी कदम न उठाए जाएं तो यह समस्या गंभीर रूप ले सकती है।

 

Best Way To Sleep in Hindi

 

बिस्तर और तकिये हों सही

आरामदायक बिस्तर-पूरी रात आराम से सोने के लिए सबसे जरूरी चीज होती है। यदि आपका बिस्तर आरामदायक नहीं होगा तो भले ही आप कितने भी थके हों, पर सोन में तकलीफ होगी और कमर और गर्दन के दर्द की समस्या भी हो सकती है। जब आपका शरीर बिस्तर पर सही तरकी से सेट होगा, तभी ठीक से नींद आएगी और कमर दर्द की शिकायाद भी दूर होगी। इसके लिए न ही ज्यादा सख्त और न ही ज्यादा नर्म बिस्तर का उपयोग करें। आपके सिर के नीचे रखा तकिया भी इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। तकिया के साथ भी बिस्तर वाली तकनीक अपनायें। यह भी ज्यादा सख्त या ज्यादा नर्म नहीं होना चाहिए। कुछ लोग सिर के नीचे बहुद मोटा तकिया लगाते हैं। यह आदात सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है। और आपकी गर्दन पर बुरा असर पड़ सकता है। गद्दा सख्त हो तो भी चलेगा। आप कॉयर या रुई का गद्दा भी इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन ध्यान रहे कि उसमें थोड़ा स्पंज इफेक्ट भी हो। कमर में दर्द होने पर कई बार लोग जमीन पर सोने लगते हैं, जोकि परेशानी और बढ़ा देता है। क्योंकि हमारी रीढ़ की हड्डी की बनावट हल्की मुड़ी सी होती है। सीधी सपाट और सख्त जमीन पर सोने से उस पर दबाव पड़ता है और दर्द बढ़ जाता है।

करवट लेकर सोने पर   

करवट लेकर सोते समय अपनी टांगों को थोड़ा सा छाती की ओर लायें। साथ ही अपनी टांगों के बीच एक पतला सा तकिया भी रख लें। करवट लेकर दोनों टांगों को साथ रखकर और घुटनों को सही स्थिति में रखकर सोना भी अच्‍छा होता है। इससे शरीर और रीड़ की हड्डी दोनो पर कम दबाव पड़ता है। इससे कमर दर्द के अलावा और भी कई समस्याओं से बचाव होता है।

 

Best Way To Sleep in Hindi

 

कमर के बल सोते समय   

कमर के बल सोते समय कमर के कर्व को ठीक बनाये रखने के लिए घुटनों के नीचे तकिया लगाएं। इससे आपकी लोअर बैक का कुदरती कर्व बना रहेगा और उस पर दबाव भी कम पड़ेगा। कमर को अतिरिक्‍त सपोर्ट देने के लिए आप तकीये की जगह तौलिया रोल करके भी लगा सकते हैं।

पेट के बल सोते समय  

हालांकि पेट के बल सोने से आपकी गर्दन पर काफी बोझ पड़ता है। लेकिन फिर भी यदि आप इस स्थिति में सोते हैं तो अपने श्रोणिक क्षेत्र और लोअर एब्‍डोमिनल के नीचे एक तकिया लगाकर सोएं। यदि इससे कमर पर ज्‍यादा दबाव नहीं पड़ता, तो आपने सिर के नीचे भी तकिया लगा सकते हैं। औ र यदि ऐसा करने से आपकी कमर पर दबाव पड़ता है, तो तकिया लगाए बिना ही सोएं।



इसके अलावा रोत को सोने से पहले कॉफी, शराब या धूम्रपान आदि न करें। हो सके तो सोने से पहले हल्के गुनगुने पानी से शावर ले लें और ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने के बाद सोएं।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES23 Votes 4074 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर