टैटू से हो सकता है हैपेटाइटिस का खतरा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 05, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

tatoo se ho sakta hai hepatitis ka khatra

आजकल युवाओं में शरीर पर टैटू बनवाने का काफी चलन है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह कितना खतरनाक हो सकता है आपके लिए।

 

जी हां, हाल ही में हुए शोध में सामने आया है कि शरीर पर टैटू बनवाने और जिगर की बीमारी हैपेटाइटिस सी के बीच गहरा संबंध है। हैपेटाइटिस जिगर के कैंसर का बड़ा कारण है।

[इसे भी पढ़े- टैटू से जोखिम]

मेडिकल जर्नल हैपेटोलाजी में छपे एक शोध लेख में कहा गया है कि हैपेटाइटिस का विषाणु खून के जरिए अधिक फैलता है और टैटू गुदवाने से यह खतरा काफी बढ़ जाता है।

अमेरिकी संगठन सेन्टर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक अमेरिका में लगभग 32 लाख लोग हैपेटाइटिस से पीड़ित है और यह बीमारी जिगर के कैंसर का प्रमुख कारण है। इस शोध को न्यूयॉर्क विश्विवद्यालय के लेंगोन मेडिकल सेन्टर की वैज्ञानिक पिट्रज फ्रेंकोइस ने अपनी टीम के साथ किया है।

इनकी टीम ने न्यूयॉर्क के तीन अस्पतालों में ऐसे 200 मरीजों पर शोध किया जिन्होंने टैटू गुदवाए थे और हैपेटाइटिस सी की बीमारी से पीड़ित थे। इन्होंने अपने अध्ययन में पाया कि टैटू गुदवाने वाले 34 फीसदी लोगों में हैपेटाइटिस की बीमारी पाई गई, जबकि टैटू रहित लोगों का आंकड़ा 12 प्रितशत था जिन्हें यह बीमारी हुई थी।

 

[इसे भी पढ़े- टैटू और सावधानियां]

उन्होंने बताया कि टैटू एक बड़ा खतरा हो सकता है क्योंकि यह हैपेटाइटिस सी का विषाणु भी उपहार में दे सकता है। यह विषाणु कई वर्षों तक शरीर में सुप्तावस्था में पड़ा रह सकता है और लोगों को पता नहीं चल पाता।

 

Read More Articles On- Health News In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES2 Votes 1466 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर