तरक्की के लिए अपनी क्षमताओं को पहचानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 04, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

tarkki ke liye apni shamtaon ko pahchaane

अक्सर हम इस दुविधा में रहते हैं कि क्या मैं यह काम कर पाऊंगा। और अगर करूंगा तो कैसे। या फिर मुझे इस काम को करने की जरूरत क्या है। यार, ये मेरे बस का रोग नहीं। तो सही मायनों में आपने अभी तक अपनी क्षमताओं का सही आकलन नहीं किया है।

 

कामयाबी हासिल करने का सबसे पहला नियम है अपनी क्षमताओं का सही आकलन। अगर आप जानते हैं कि आपकी ताकत क्या है और किस क्षेत्र में आपको अधिक मेहनत करने की जरूरत है, तो बेशक तरक्कीय राह आपके लिए आसान हो जाएगी।

 

[इसे भी पढ़ें : नौकरी बदलना है तरक्की का मूलमंत्र]


हालांकि, यह कहना आसान है और करना बेहद मुश्किल। अपना मूल्यांकन करना और अपने बारे में जानना आसान नहीं है। ये और बात है कि हम दूसरों की कमी और खूबियों के बारे में लंबे-लंबे भाषण भी दे सकते हैं। फिर चाहे वो हमारा दोस्त हो, प्रतिद्वंद्वी हो या फिर कोई ऐसा जिसे देखना भी हमें गवारा नहीं होता।

तो फिर कैसे परखा जाए अपनी क्षमताओं को। सवाल जरा मुश्किल है। कहा भी जाता है कि इंसान सबसे ज्यादा उदार तब होता है जब उसे अपनी गलतियों का मूल्यांकन करना होता है। यानी अपनी हर कमी के पीछे वह एक बहाना बना लेता है और फिर तर्क को सबित करने के लिए कई सारे तर्क भी गढ़ लेता है।

 

[इसे भी पढ़ें : खुश रहें और सकारात्मक सोचें]

 

तरक्की के लिए अपनी क्षमताओं को पहचानें

अपने दोस्तों की मदद लें

एक कहावत है कि दोस्त ऐसा होना चाहिए कि जो मुझे मेरी कमियां बताए, न कि मेरी हां में हां मिलाता रहे, यह काम तो मेरी परछाई बेहतर कर सकती है। तो, अपने दोस्तों की मदद लें। उनके विचारों को ईमानदारी से सुनें। आत्मविश्लेषण करें। जाहिर तौर पर आप अपनी कुछ ऐसी खूबियों से परिचित होंगे, जिन्हें आप अभी तक तवज्जोर ही नहीं देते थे।

क्यों नहीं पहचान पाते

आखिर यह अंतर क्यों होता है। हम अपने आपको क्यों नहीं जान पाते। कई बार पूरी कोशिश के बाद भी नतीजे हमारी उम्मीद के मुताबिक नहीं आते। इसका अर्थ यह नहीं कि हम खुद को कम आंकने लग जाएं। असफलता को स्वीपकार करने की कला सीखना भी जरूरी है। और उस असफलता से सीखकर आगे बढ़ना ही हमारा लक्ष्य होना चाहिए। उससे हार मानकर हम स्वयं को कम आंकने लग जाएं यह तो कतई ठीक नहीं होगा।

[इसे भी पढ़ें : कैसे रहें पॉजीटिव]

सकारात्मक बनें

सकारात्मककता हमें ऊर्जावान बनाए रखती है। हमें असफलता के बीच से सफलता की राह दिखाती है। नकारात्माकता से दूर रहने में ही भलाई है। नकारात्मकता से न केवल हमारी क्षमताओं का ह्रास होता है, बल्कि धीरे-धीरे हम हीन भावना से ग्रस्त होने लगते हैं। आगे बढ़कर चुनौतियां स्वीकार करने की हमारी भावना का ह्रास होने लगता है।

परिवर्तन को तैयार रहें

कुछ लोग परिवर्तन को स्वी‍कार करने से कतराते हैं। लीक से हटकर सोचना और करना उन्हें पसंद नहीं आता। वह भीड़ का हिस्सा बनना ही पसंद करते हैं। लेकिन, कामयाबी उन्हें मिलती है जो भीड़ से अलग अपना रास्ता् बनाते हैं। बनी बनायी परिपाटी पर चलना उन्हें पसंद नहीं। वह अपने नक्शे कदम खुद बनाते हैं।

 

 

Read More Article on Office Health in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES11 Votes 12881 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Vinay19 Sep 2012

    thanks for this

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर