जानें क्‍या है यूरीन थेरेपी और यह कितनी है प्रभावी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 23, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • यूरीन थेरेपी एक प्रकार की वैकल्पिक चिकित्सा होती है।
  • इस थेरेपी के तहत खुद के मूत्र का सेवन किया जाता है।
  • मोरारजी देसाई भी यूरीन थेरेपी का इस्तेमाल करते थे।
  • हालांकि इसकी अभी वैज्ञानिक रूप में पुष्टि नहीं हुई है।

वैकल्पिक चिकित्सा में, यूरीन थेरेपी, मूत्र चिकित्सा या यूरोथेरेपी (urine therapy or urotherapy) औषधीय या कॉस्मेटिक प्रयोजनों के लिए मानव मूत्र के विभिन्न अनुप्रयोगों को संदर्भित करते हैं। जैसे कि अपने मूत्र पीने सहित इससे त्वचा, या मसूड़ों की मालिश करना। तो चलिये विस्तार से जानें कि यूरीन थेरेपी क्या है और यह कितनी प्रभावी है -

यूरीन थेरेपी क्या है

यूरीन थेरेपी एक ऐसी वैकल्पिक चिकित्सा होती है जिसके तहत कई रोगों के निदान के लिए मानव मूत्र को औषधि के रूप में कई प्रकार से प्रयोग किया जाता है। मसलन इसमें खुद के मूत्र का सेवन किया जाता है या इसे शारीरिक सुन्दरता बढ़ाने या त्वचा सम्बन्धी विकारों को दूर करने हेतु अपनी त्वचा पर इससे मालिश की जाती है। हालांकि यूरीन थेरेपी विभिन्न रोगों के उपचार के लिए बहुत ही कारगर भी मानी जाती है, लेकिन फिर भी चिकित्सीय उपयोग के लिए इसकी अभी वैज्ञानिक रूप में पुष्टि नहीं हुई है।

 

Urine Therapy in Hindi

 

इस थेरेपी को इस्तेमाल करने वाले इसे अनने शरीर की अपनी दवा कहते हैं। उनके अनुसार ये होम्योपैथी/आइसोपैथी की ही तरह है।


मशहूर लोग जिन्होंने किया इस यूरेन थेरेपी का इस्तेमाल

 

  • भारत के पांचवें प्रधानमंत्री रहे मोरारजी देसाई इस थेरेपी के समर्थक थे और इसका इस्तेमाल भी करते थे। 1978 में दिये एक साक्षात्कार में देसाई ने 60 मिनट पर यूरीन थेरेपी पर बात की और बताया कि वे खुद भी काफी समय से इसका उपयोग करते थे। मोरारजी देसाई ने कहा था कि यूरीन थएरेपी उस लाखों लोगों के लिये उपयुक्त चिकित्सा समाधान है जो चिकित्सा उपचार का खर्च वहन नहीं कर सकते हैं।
  • वहीं कैमरून के स्वास्थ्य मंत्री अरबियन ओलेंगुएना आवनो ने अपने स्वयं के मूत्र पीने के खिलाफ लोगों को चेतावनी दी थी, क्योंकि उस समय कुछ हलकों में माना जाता था कि यूरीन कई बीमारियों के लिये टॉनिक की तरह होता है। मूत्र के साथ जुड़े विषाक्तता के खतरों को देखते हुए उन्होंने लिखा भी था कि, स्वास्थ्य मंत्रालय मूत्र के सेवन के खिलाफ है।
  • ब्रिटिश अभिनेत्री सारा माइल्स ने तीस साल तक खुद के मूत्र को पिया। वे मानती थीं कि यह यह एलर्जी के खिलाफ इम्यूनाइज़र का काम करता है और इसके अन्य स्वास्थ्य लाभ भी हैं।
  • वहीं मैडोना ने टॉक शो होस्ट डेविड लेटरमैन से बात करते हुए यूरेन थेरेपी बारे में बताया (मज़ाकिया अंदाज़ में) कि वह शॉवर लेते समय अपने पैरों पर पेशाब करती हैं, शायद इससे उनकी एथलीट फुट समस्या का इलाज करने में मदद मिले।



इसके अलावा बॉक्सर जुआन मैनुअल मार्केज़ तथा मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फाइटर ल्योटो मचिदा आदि ने भी खुद अपना मूत्र पीने की बात स्वीकारी और इसके कई फायदे होने की बात का समर्थन भी किया। लेकिन आपको फिर एक बार बता दें कि हालांकि यूरीन थेरेपी विभिन्न रोगों के उपचार के लिए बहुत ही कारगर भी मानी जाती है, लेकिन फिर भी चिकित्सीय उपयोग के लिए इसकी अभी वैज्ञानिक रूप में पुष्टि नहीं हुई है।



Iamge Source - Getty

Read More Articles On Alternative Therapy in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES14 Votes 6348 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर