बच्चों में मलेरिया के लक्षण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 26, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

baccho me malaria ke laakshan

ऐसा कहा जाता है कि बच्चों में व्यस्कों के मुकाबले प्रतिरक्षा क्षमता कम होती है इसीलिए बीमारी चाहे कोई भी हो व्यस्कों में बच्चों के मुकाबले हर बीमारी को सहने, उसे झेलने और लड़ने की क्षमता अधिक होती है। बीमारी जब कोई गंभीर हो तो बच्चे उसे झेलने के बजाय बेकाबू हो जाते हैं। इसीलिए एक भ्रम यह भी है कि एक ही बीमारी के लक्षण बच्चों और व्यस्कों में अलग-अलग होते है। बात करें मलेरिया की तो बच्चों में मलेरिया का संक्रमण जैसे आम हो गया है। हालांकि ये बच्चों की जान के लिए खतरा भी बन जाता है। आइए जानें बच्चों में पाए जाने वाले मलेरिया के लक्षण कौन-कौन से हैं।


बच्चों  में मलेरिया लक्षण का प्रारंभिक दौर:

 

  • डेंगू और चिकनगुनिया की तरह ही मलेरिया भी मच्छर के काटने से होता है। बच्चों में मलेरिया काफी संख्या में होता है। यह अधिक गर्मी के कारण होता है।
  • मलेरिया से संक्रमित होने के प्रारंभिक दौर में बच्चे चिड़चिड़े, मूडी, उदंडी हो जाते हैं और उन्हें भूख भी कम लगती है और ठीक तरह से नींद न आने की भी शिकायत करते हैं। ये सभी लक्षण यदि बच्चे में पाए जाते हैं तो यह समझना चाहिए कि बच्चे के शरीर में मलेरिया वायरस फैल रहा है।


बच्चों में मलेरिया लक्षण का द्वितीय चरण:

  • प्रारंभिक दौर के बाद जब बच्चा मलेरिया के सभी लक्षणों का अनुभव कर लेता है तो बच्चों को अक्सर ठंड लगने लगती है जिससे वह बुखार का शिकार हो जाता है। बुखार के दौरान बच्चे‍ तेजी से सांस लेने लगते है। बुखार में ही एक या दो दिन तक शरीर उच्च तापमान में रहता है। कुछेक मामलों में बुखार अचानक से 105 डिग्री या उससे भी अधिक तक चला जाता है और जब बुखार उतरता है तो शरीर का तापमान तेजी से सामान्य होने लगता है और बच्चा पसीने से तर जाता है।
  • जब यही लक्षण (पसीना, बुखार, ठंड लगना) दो या तीन दिन में बार-बार होने लगते है तो मलेरिया का संक्रमण तेजी से बच्चे, के शरीर में फैलता है।


बच्चों में मलेरिया लक्षण का तीसरा चरणः

 

  • बच्चों में अन्य सामान्य मलेरिया के लक्षण जैसे मतली, सिर दर्द और विशेषकर पेठ और पीठ दर्द भी होता है। बच्चों  में बढ़ते हुए मलेरिया के अन्य वही लक्षण पाए जाते हैं जो एक व्यस्क के मलेरिया के होने से होते हैं।
  • मलेरिया वायरस से बच्चों के ब्रेन और किडनी पर भी प्रभाव पड़ता है। ब्रेन पर प्रभाव पड़ने से बच्चे की चेतना पर खासा प्रभाव पड़ता है। किडनी पर असर होने से बच्चे के मूत्र का एक असामान्य राशि का उत्पादन कम हो सकता है।
Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES112 Votes 20251 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर