स्‍वाइन फ्लू का टीका करता है बीमार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 28, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

 

स्‍वाइन फ्लू का टीका करता है बीमार 

स्‍वाइन फ्लू का टीका बचपन में लगवाने से इस बीमारी से बचा जा सकता है। लेकिन आपको यह खबर चौंका सकती है। जी हां, स्‍वाइन फ्लू से बचाने 

वाला यह टीका आपके लिए खतरनाक हो सकता है। इस टीके से कई बीमारियां हो सकती हैं। 

कैंब्रिज की हेल्‍थ प्रोटेक्टिव एजेंसी के अनुसार इस टीके से नींद से जुड़ी बीमारियां हो सकती हैं। पैंडेमरिक्‍स वैक्‍सीन (स्‍वाइन फ्लू का टीका) लगवाने से 

नार्कोलेप्‍सी की संभावना 14 गुना बढ़ जाती है। 

नार्कोलेप्‍सी होने पर आदमी को अचानक नींद आ जाती है और वह लगाताकर कई घंटे तक सोता रहता है। साथ ही मरीज को बहुत थकावट का एहसास 

होने लगता है। खासतौर पर यह बीमारी बच्‍चों में ज्‍यादा देखने को मिलती है। 

माना जाता है कि दिमाग में मौजूद कोशिकाओं के एक छोटे से समूह के ठीक से काम न करने के कारण प्रतिरोधी क्षमता गलत प्रक्रिया देने लगती है। 

इसी के कारण नार्कोलेप्‍सी की समस्‍या होती है। 55 हजार लोगों में किसी एक को यह समस्‍या होती है। 

प्रमुख शोधकर्ता लिज मिलर के अनुसार, पैंडमरिक्‍स वैक्‍सीन लगाने के काफी समय बाद लोगों में नार्कोलेप्‍सी के लक्षण दिखने शुरू होते हैं। 

swine flu ka teeka karta hai beemarस्‍वाइन फ्लू का टीका बचपन में लगवाने से इस बीमारी से बचा जा सकता है। लेकिन आपको यह खबर चौंका सकती है। जी हां, स्‍वाइन फ्लू से बचाने वाला यह टीका आपके लिए खतरनाक हो सकता है। इस टीके से कई बीमारियां हो सकती हैं। 

कैंब्रिज की हेल्‍थ प्रोटेक्टिव एजेंसी के अनुसार इस टीके से नींद से जुड़ी बीमारियां हो सकती हैं। पैंडेमरिक्‍स वैक्‍सीन (स्‍वाइन फ्लू का टीका) लगवाने से नार्कोलेप्‍सी की संभावना 14 गुना बढ़ जाती है। 

 

[इसे भी पढ़ें : स्‍वाइन फ्लू से कैसे करें बचाव]

 

नार्कोलेप्‍सी होने पर आदमी को अचानक नींद आ जाती है और वह लगाताकर कई घंटे तक सोता रहता है। साथ ही मरीज को बहुत थकावट का एहसास होने लगता है। खासतौर पर यह बीमारी बच्‍चों में ज्‍यादा देखने को मिलती है। 

माना जाता है कि दिमाग में मौजूद कोशिकाओं के एक छोटे से समूह के ठीक से काम न करने के कारण प्रतिरोधी क्षमता गलत प्रक्रिया देने लगती है। इसी के कारण नार्कोलेप्‍सी की समस्‍या होती है। 55 हजार लोगों में किसी एक को यह समस्‍या होती है। 

 

[इसे भी पढ़ें : स्‍वाइन फ्लू और सामान्‍य फ्लू में अंतर]

 

प्रमुख शोधकर्ता लिज मिलर के अनुसार, पैंडमरिक्‍स वैक्‍सीन लगाने के काफी समय बाद लोगों में नार्कोलेप्‍सी के लक्षण दिखने शुरू होते हैं। 

 

 

 

Read More Articles on Health News in Hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1320 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर