स्तन कैंसर के साथ जीवन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 25, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • महिलाओं में स्तन कैंसर गंभीर समस्या है।
  • स्‍तन में अनियमित आकार की गांठ को होना।
  • बीआरसीए 1 व बीआरसीए 2 जांच करवानी चाहिए।
  • गर्भनिरोधक गोलियां स्तन कैंसर की मुख्य वजह है।

महिलाओं में स्तन कैंसर गंभीर समस्या है। अगर आप स्तन कैंसर की समस्या से जूझ रही हैं तो इसका अर्थ यह नहीं है कि इससे बचाव संभव नहीं है। शुरुआती अवस्था में स्तन कैंसर का पता लग जाये तो इसका पूरी तरह से इलाज किया जा सकता है। अगर आपके परिवार में किसी को स्तन कैंसर की समस्या है तो आप भी बिना किसी संकोच के बीआरसीए 1 व बीआरसीए 2 जांच करवानी चाहिए।

breast cancer in hindi
स्‍तन कैंसर का लक्षण

स्तन कैंसर में महिलाओं के स्तनों में एक अनियमित आकार की गांठ हो जाती है जिसे छूने पर काफी दर्द होता है। यह गांठ स्तन के किसी भाग में हो सकती है। जब स्तनों में होने वाली गांठ बड़ी हो जाती है तो यह अपने ऊपर की त्वचा को अन्दर की ओर खींच लेती है जिसके कारण स्तन के अन्दर की ओर एक गड्ढा जैसा बन जाता है। जैसे-जैसे गांठ बड़ी होती जाती है वैसे-वैसे यह स्तन की ऊपरी  त्वचा से भी चिपक जाती है जिसके कारण स्तन की त्वचा में जलन होने लगती है। स्तन कैंसर बढ़ते-बढ़ते महिलाओं के लसीका ग्रन्थियों तक भी फैल सकता है। स्तन कैंसर का ईलाज शुरुआती अवस्था में होना बहुत जरूरी हो जाता है। यदि इस रोग को बढ़ने से न रोका जाए तो यह रोग पूरे शरीर को प्रभावित कर सकता है।

स्‍तन कैंसर का कारण

  • अगर आपको अपने स्तनों में किसी तरह की गांठ महसूस हो तो तुंरत इसकी जांच कराएं। जांच से यह पता चल सकेगा कि स्तनों में बनने वाली गांठ कितनी खतरनाक है।
  • स्तन कैंसर होने की आशंका काफी हद तक वातावरण और जीवनशैली पर निर्भर करती है।
  • महिलाओं में यह रोग फूड एलर्जी के कारण भी हो सकता है।
  • आनुवंशिकता के कारण भी महिलाओं में स्तन कैंसर हो सकता है।
  • स्तन कैंसर से ग्रसित एक महिला से दूसरी महिला को भी यह हो सकता है।
  • गर्भनिरोधक गोलियां महिलाओं में स्तन कैंसर की मुख्य वजह है। कोई महिला जितनी जल्दी मां बन जाती है उसमें स्तन कैंसर होने की आशंका लगभग उतनी ही कम हो जाती है।

 

स्‍तन कैंसर की चिकित्सा

मैमोग्राम एक तरह का एक्स रे है, जो स्तन कैंसर की पहचान करता है। स्तन कैंसर की पहचान करने की यह बहुत ही विश्वसनीय तकनीक है। इस तकनीक में स्तनों को दो प्लेट्स के बीच में रखा जाता है जिसमें से एक्स रेज गुजरती हैं जिससे ब्रेस्ट टिशू की पूरी तस्वीर आ जाती है। आमतौर पर 40 साल की उम्र वाली महिलाओं में स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए मेमोग्राम का प्रयोग किया जाता है।

इसके अलवा अल्ट्रासाउंड के जरिए भी स्तन कैंसर का पता लगाया जा सकता है। अल्ट्रासाउंड से स्तनों में होने वाले ट्यूमर व सिस्ट की पहचान की जाती है।

इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty
Read More Articles on Breast Cancer in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES33 Votes 17271 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • rihana15 Feb 2013

    nice info....

  • radha15 Feb 2013

    sukriya achhi jankari k liye

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर