सुदर्शन क्रिया करें, बाहर ही नहीं अंदर से भी फिट बनें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 21, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सुदर्शन क्रिया सांस लेने की एक प्रक्रिया है।
  • सुदर्शन क्रिया शरीर को अंदर से फिट रखती है।
  • प्रतिदिन 45 मिनट सुदर्शन क्रिया कर सकते हैं।
  • सुदर्शन क्रिया को प्रशिक्षण लेने के बाद ही करें।

जब आप गुस्सा करते हैं या तनाव और अवसाद से ग्रसित होते हैं इसके अलावा जब आप नकारात्मक सोच से घिरे होते हैं तो इसका सबसे बुरा आप पर ही यानी आपके स्वास्थ्य पर पड़ता है, जिसके कारण आप दिन प्रतिदिन बीमार होते चले जाते हैं। और फिर एक दिन ऐसा भी आता है कि आप अस्पताल का चक्कर लगाने लग जाते हैं। लेकिन आपको परेशान होने की जरूरत नही है क्यों कि सुदर्शन क्रिया के माध्यम से आप अपने वास्तविक रूप में एक खुशहाल जिंदगी जी सकते हैं, इससे आपकी फिटनेस अंदरूनी रूप से फिट रहेगी। किसी भी तरह की बीमारी आप से कोसों दूर रहेंगे।

इसे भी पढ़ें : करें नौकासन, तुरंत दूर भगाएं टेंशन

Feel Free
Image Source : Getty


क्या है सुदर्शन क्रिया

‘सु’ का अर्थ है अच्छा या सही, ‘दर्शन’ का अर्थ है साक्षात्कार और ‘क्रिया’ एक ऐसा अभ्यास है जो शुद्धि प्रदान करता है। सुदर्शन क्रिया शुद्धिकरण की एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके अभ्यास से हमें अपने वास्तविक स्वरूप का साक्षात्कार होता है। इस क्रिया का अभ्यास हमारे शरीर, मन और आत्मा में एक लय और समन्वयता स्थापित करने में सहायता करता है। अतः सुदर्शन क्रिया एक सांस लेने की लयात्मक, शक्तिशाली और स्वास्थ्यवर्धक विधि है।
ये क्रिया 90 प्रतिशत शरीर के विषाक्त पदार्थ और तनावों को दूरकर प्रतिदिन प्राण को उच्च करती है। जो लोग इस क्रिया को प्रतिदिन करते हैं वे उच्च प्रतिरक्षा शक्ति, सहनशक्ति और लगातार बढ़ी हुई ऊर्जा अनुभव करते हैं। इसका नियमित अभ्यास आपकी निरोगता को बढ़ाकर आपको जीवनभर स्वस्थ और प्रसन्न रखता है।

सुदर्शन क्रिया का रहस्य

जन्म लेते ही हम जो पहला काम करते है वो है श्वास लेना। श्वास में जीवन के अनजाने रहस्य छिपे है। सुदर्शन क्रिया एक सहज लयबद्ध शक्तिशाली तकनीक है जो विशिष्ट प्राकृतिक श्वांस की लयों के प्रयोग से शरीर, मन और भावनाओं को एक ताल में लाती है। यह तकनीक तनाव, थकान और नकारात्मक भाव जैसे क्रोध, निराशा, अवसाद से मुक्त कर शांत व एकाग्र मन, ऊर्जित शरीर, और एक गहरे विश्राम में लाती है।
सुदर्शन क्रिया जीवन को एक विशिष्ट गहराई प्रदान करती है, इसके रहस्यों को उजागर करती है। यह एक अध्यात्मिक खोज है जो हमें अनंत की एक झलक देती है। सुदर्शन क्रिया स्वास्थ्य, प्रसन्नता, शांति और जीवन से परेके ज्ञान का अनजाना रहस्य है!

सुदर्शन क्रिया कैसे करें

आपको बता दें कि सुदर्शन क्रिया आर्ट ऑफ लिविंग संस्था द्वारा कराई जाती है, इसके प्रशिक्षण शिविरों में सुदर्शन क्रिया का बेसिक कोर्स कराया जाता है। संस्था के योग गुरू निर्भय सिंह राजपूत के मुताबिक, रोजाना सुबह घर पर सुदर्शन क्रिया का पूरा अभ्यास करने में तकरीबन 45 मिनट का वक्त लगता है। क्रिया के अंत में शवासन में लेटना होता है। क्रिया कर लेने के बाद मन बेहद शांत हो जाता है। इसका लगातार अभ्यास हमें सिखाता है कि वर्तमान में कैसे रहा जाए। ज्यादा एनर्जेटिक रहने के अलावा, मुश्किल परिस्थितयों से लड़ने की क्षमता जाग्रत होती है। योग गुरू के मुताबिक बिना प्रशिक्षण के इस क्रिया को न करें।

Big Image Source : vimeo.com

Read More Articales on Yoga in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES2161 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर