स्कूल जाने वाले 13% बच्चे मायोपिया ग्रस्त : सर्वे

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 15, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

छोटे बच्चों को लगा चश्मा हमारे लिए असामान्य बात है लेकिन ये असामान्य बात बच्चों में तेजी से फैलती नजर आ रही है। हाल ही में एम्स के द्वारा किए गए सर्वे में एक बात सामने आई है कि वर्तमान में स्कूल जाने वाले 13% बच्चे मायोपिया ग्रस्त हैं। एम्स के राजेंद्र प्रसाद नेत्र विज्ञान केंद्र की ओर से हाल ही में एक सर्वेक्षण कराया गया है जिसके अनुसार देश में स्कूल जाने वाले बच्चों में से 13% बच्चे मायोपिया से ग्रस्त हैं।

मायोपिया, निकटदृष्टि दोष है जिसमें इंसान को निकट की चीजें तो साफ दिखाई देती हैं लेकिन दूर की चीजें नहीं। आंखों में यह दोष उत्पन्न होने पर प्रकाश की समान्तर किरणपुंज आँख द्वारा अपवर्तन के बाद रेटिना के पहले ही प्रतिबिम्ब बना देता है (न कि रेटिना पर) इस कारण दूर की वस्तुओं का प्रतिबिम्ब स्पष्ट नहीं बनती और चींजें धुंधली दिखतीं हैं। अगर इंसान को दो मीटर या 6.6 फीट से अधिक की दूर की चीज धुंधली दिखती हैं, तो उसे मायोपिया ग्रस्त माना जाता है।

मायोपिया

एक दशक पहले थी केवल 7%

एक अध्ययन के अनुसार एक दशक पहले तक 7% बच्चे मायोपिया ग्रस्त थे जो वर्तमान में 13% हो गई है। एक दशक के अंदर मायोपिया ग्रस्त बच्चों की संख्या में लगभग दोगुनी बढ़ोतरी हुई है।
मायोपिया ग्रस्त होने का कारण टेक्नोलॉजी का अधिक इस्तेमाल माना जा रहा है। बच्चों में इलेक्ट्रॉनिक गैजेट के अधिक इस्तेमाल के चलते अब दोगुनी हो गई है। अध्ययन में आयु संबंधी मांसपेशियों के विकार के लिए मूल कोशिका का इस्तेमाल, नेत्र स्वास्थ्य पर ग्लोबल वार्मिंग एवं पैरा बैंगनी किरणों का प्रभाव आदि शामिल है। राजेंद्र प्रसाद केंद्र के चिकित्सक बच्चों के बीच व्याप्त नेत्र संबंधी अन्य समस्याओं का पता लगाने के लिए एक राष्ट्रीय सर्वेक्षण कर रहे हैं।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES4 Votes 527 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर