बैठे रहने से हर घंटे बढ़ता है 22 फीसदी डायबिटीज : स्‍टडी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 11, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

शहरीकरण के दौर में जिंदगी जितनी ज्यादा सुगम हो गई है बीमारियों का फैलाव भी उतना ही सुगम हो गया है। हाल ही में एक स्टडी से ये निष्कर्ष निकला है कि बैठे रहने से हर घंटे में 22 फीसदी डायबिटीज होने का खतरा बढ़ता रहता है। ये स्टडी करीब 2500 लोगों पर की गई। इनमें 52 फीसदी लोग पुरुष थे, जिनकी औसत उम्र साठ साल के करीब थी।

डायबीटिज

बैठे हैं तो हो जाएं सतर्क

ये शोध बैठकर काम करने वालों औऱ फिजिकल वर्क ना करने वालों के लिए बुरी खबर साबित हो सकती है। खासकर आज के जीवन में जब अधिकतर लोग बैठे-बैठे ऑफिस वर्क करते हैं। यह स्टडी नीदरलैंड्स की मास्‍ट्र‍िक्‍ट यूनिवर्सिटी में जूलियन वॉन डेर बर्ग और उनके साथियों ने की है। इन रिसर्चरों ने पाया कि रोजाना बैठे रहकर बिताए गए (मसलन कम्‍प्‍यूटर पर काम) एक अतिरिक्‍त घंटे से टाइप टू किस्‍म का डायबिटीज होने का खतरा 22 पर्सेंट बढ़ जाता है। करीब 2500 लोगों पर यह स्टडी आठ दिनों तक की गई है। आठ दिनों तक लगातार इन 2500 लोगों पर चौबीसों घंटे तक परीक्षण किया गया। आठ दिनों बाद इन लोगों का ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट किया गया जिसमें ग्लूकोज की मात्रा बढ़ी हुई पाई गई।

यह स्‍टडी मेडिकल जर्नल डायबेटोलोगिया में प्रकाशित हुई है।

 

 

Read more articles on Health news in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES3 Votes 570 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर