हार्टअटैक पीड़ितों के लिए स्टेमसेल इंजेक्शन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 12, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Heart attackलंदन। वैज्ञानिकों का कहना है कि जल्द ही एकल स्टेम सेल से बना इंजेक्शन बाजार में आएगा, जिसकी मदद से दिल के दौरे के बाद हृदय को हुए नुकसान को कम किया जा सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि युवाओं की रीढ़ की हड्डी के स्टेम सेल से बना यह इंजेक्शन दिल के दौरे के बाद मरीजों के हृदय को हुए नुकसान को कम करने में मददगार साबित होगा। यह इंजेक्शन पांच साल के भीतर मरीजों की पहुंच में होगा। डेली एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक इसे ‘रिवास्कोर’ नाम दिया गया है और जल्द ही इस पर अग्रिम क्लीनिकल परीक्षण शुरू कर दिया जाएगा। इसे किसी भी मरीज पर इस्तेमाल किया जा सकता है और इससे हार्ट अटैक से हुए नुकसान को 40 प्रतिशत से भी ज्यादा तक कम किया जा सकेगा।

 

आस्ट्रेलियाई कंपनी के लिए इसे विकसित करने वालों ने शुरुआती परीक्षणों में गंभीर हार्ट अटैक के रोगियों में इससे 50 फीसद तक नुकसान की भरपाई दर्ज की। वैज्ञानिकों का कहना है कि एक स्टेम सेल से एपीसीएस नामक लाखों स्टेम सेल बनाई जा सकती हैं। यह दिल के दौरे के बाद हृदय को सहारा देंगी और उसकी मांससपेशियों को मजबूत बनाएंगी। यह इंजेक्शन उन मरीजों को दिया जाएगा जो हार्ट अटैक आने के 12 घंटों के भीतर अस्पताल पहुंचकर बंद धमनियों को खुलवाने के लिए स्टेंट लगवाते हैं।

 

इसके बाद हर मरीज 1.25 करोड़ या 2.5 करोड़ सेल्स (कोशिकाएं) हासिल करेगा। चूंकि इन कोशिकाओं को शरीर का प्रतिरक्षातंत्र अस्वीकार नहीं करेगा, इसलिए इनका इस्तेमाल किसी भी मरीज में किया जा सकेगा। 30 मिनट के भीतर इन कोशिकाओं को कैथेटर के जरिए इंजेक्ट कराया जाएगा। ये कोशिकाए हृदय की मांसपेशियों को मजबूत बनाएंगी, क्षति को कम करेंगी और रक्त प्रवाह बढ़ाएंगी।

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10836 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • ramesh16 Oct 2011

    Dear all, Good new ,who have heart problem. once again cheer ! for human hard work for innovation new medicine from ramesh

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर