क्‍या होती है आध्‍यात्मिक जीवनशैली की पहचान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 29, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • अध्‍यात्‍म जीवन यात्रा को बेहतर बनाने का मार्ग।
  • प्रेम, करुणा और सेवाभाव है अध्‍यात्‍म के मूल तत्‍व।
  • कठोर वचन न बोलना अध्‍यात्‍म की पहचान।
  • सहायता करने को तत्‍पर रहता है आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति।

अध्‍यात्‍म क्‍या है। यह सवाल बड़ा पेचीदा हो सकता है। हर किसी के लिए अलग हो सकती है इसकी परिभाषा। कोई ईश्‍वरीय भक्ति को अध्‍यात्‍म का रूप मानता है, तो किसी के लिए सेवा भाव ही वास्‍तविक अध्‍यात्‍म है। लेकिन, ज्‍यादातर लोग धार्मिक स्‍थल पर जाने और अपने-अपने धर्मानुसार पूजा करने को ही अध्‍यात्‍म मानते हैं।

लेकिन, क्‍या वास्‍तव में अध्‍यात्‍म वही है, जैसाकि प्रचलित परंपराओं द्वारा स्‍थापित किया गया है। शायद नहीं। अध्‍यात्‍म बहुत विस्‍तारित विषय है। इसे केवल धर्म और पूजा-पद्धति के साथ जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिये। कई लोगों का मानना है कि आप धार्मिक हुए बिना भी आध्‍यात्मिक हो सकते हैं। धार्मिक व्‍यक्ति हमेशा धर्म से जुड़ी सामान्‍य परंपराओं और मान्‍यतओं का निर्वहन करता है, लेकिन आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति के लिए ऐसा करना जरूरी नहीं होता।

यह भी संभव है कि आपको यह ज्ञात ही न हो कि वास्‍तव में आप आध्‍यात्मिक हैं या नहीं। और यह भी संभव है कि हम इसके लिए कुछ प्रेरणा चाहते हों। चलिये जानने का प्रयास करते हैं कि वास्‍तव में आध्‍यात्मिक जीवनशैली किस प्रकार होती है।

spirituals in hindi

निर्णयवादी न बनें

कोई भी आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति न तो स्‍वयं को और न ही दूसरों को जज करता है। आध्‍यात्मिक यात्रा तभी शुरू होती है जब आप स्‍वयं व अन्‍य लोगों के बारे में कोई भी निर्णयात्‍मक रवैया करने से दूर हो जाते हैं। वे दूसरों को न तो कमतर ठहराते हैं, और न ही उनके बारे में बुरा बोलते हैं। इसके स्‍थान पर वे लोगों के बारे में अच्‍छी बातें बोलते हैं और प्रेम ही फैलाते हैं। अगर सीधे शब्‍दों में कहें तो आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति नित्‍य-प्रतिदिन अपने व्‍यवहार में दयालुता का भाव उत्‍पन्‍न करने का प्रयास करता है।

 

दुनिया को बेहतर बनाने का प्रयास

अध्‍यात्‍मवाद का सकारात्‍मकता से सेीधा संबंध है। जब आप कोई सकारात्‍मक बदलाव करने का प्रयास करते हैं, तो वह भी एक प्रकार की आध्‍यात्मिकता ही है। आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति के लिए मानवता ही सबसे बड़ा धर्म होता है। वह मानवता के लिए ही प्रयास करता है। वे समाज के उत्‍थान और सहायता के लिए कई प्रकार के कार्य करता है। वह स्‍वयंसेवक के तौर पर काम करता है, कभी दान करता है, अनाथ बच्‍चों को गोद लेता है। यानी वह कुछ न कुछ ऐसा काम करता है, जिससे वह समाज की भलाई में योगदान दे सके।

खुद से करें प्‍यार

आध्‍यात्मिक लोग मानते हैं कि प्रेम की शुरुआत उनके भीतर से होती है। वे स्‍वयं से प्रेम करते हैं और मानते हैं कि दूसरों से प्‍यार करना भी जरूरी है। वे अपने शरीर और आत्‍म का खयाल रखते हैं। इसके लिए वे संतुलित आहार और व्‍यायाम अपनाते हैं। इसके अलावा वे स्‍वयं की आत्‍मिक ऊर्जा को भी सही रूप में संचारित करने का प्रयास करते हैं। इससे उन्‍हें अधिक आनंद, प्रेम और बुद्धिमत्‍ता की प्राप्ति होती है।

spirituals in hindi

ज्ञान की खोज

ज्ञान की खोज का मार्ग ही व्‍यक्ति को आध्‍यात्मिकता की ओर ले जाता है। एक आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति को ज्ञान और आत्‍म-खोज की भूख होती है। वे लगातार बेहतर व्‍यक्ति बनने का प्रयास करते रहते हैं। वे सकारात्‍मक लोगों के साथ रहता है और स्‍वयं भी सकारात्‍मकता ही फैलाता है। वे प्रेरणादयी पुस्‍तकों और शैक्षिक गतिविधियों में संलग्‍न रहता है। अगर सरल और सीधे शब्‍दों में कहा जाए तो आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति का अर्थ है कि लगातार बढ़ते रहना और बेहतर इनसान बनने के मार्ग पर चलते रहना। वह मानते हैं कि जीवन आत्‍म-खोज की एक प्रक्रिया है, तो अनवरत चलती रहती है।

मय की सीमाओं से मुक्ति

आध्‍यात्मिक व्‍यक्ति न अतीत के बंधनों से बंधा रहता है और न ही वह भविष्‍य के स्‍वप्‍नलोक में रहता है। वह वर्तमान में रहता है। अभी इसी क्षण में रहना ही उसकी खूबी होती है। और मौजूदा पल में रहना ही वास्‍तव में आध्‍यात्मिक मार्ग पर चलने वाले व्‍यक्ति की पहचान होती है।

 

आध्‍यात्मिक जीवनशैली वास्‍तव में लगातार सीखते रहने, तरक्‍की करने और बेहतर बनने की यात्रा का ही दूसरा नाम है। इसमें आप दूसरों की मदद करने में कोताही नहीं करते। प्रेम करते हैं और प्रेम फैलाते हैं।

 

Image Courtesy- getty Images

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES10 Votes 2703 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर