सॉफ्ट ड्रिंक से बढ़ता है डिप्रेशन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 11, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

 

ठंडा का पर्याय बन चुके सॉफ्ट ड्रिंक के स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ने वाले बुरे प्रभावों के बारे में वैज्ञानिक बताते आए हैं, अब ताजा शोध बताता है कि इनके चलते अवसाद में इजाफा होता है।

soft drink se badta hai depressionअवसाद यानी डिप्रेशन आज की जीवनशैली की देन कही जाती है। हाल ही में वैज्ञानिकों ने इसके नए कारण तलाशे हैं। अमेरिकी शोधकर्ताओं ने ढाई लाख से ज्‍यादा लोगों पर अध्‍ययन करने के बाद कोल्‍ड ड्रिंक के सेवन से अवसाद बढ़ने का दावा किया है। इस अध्‍ययन यहां तक कि एक दिन में सॉफ्ट ड्रिंक के चार कैन पीने वालों में यह खतरा तीस फीसदी तक बढ़ जाता है।

[इसे भी पढ़ें- कैसे करें डिप्रेशन की पहचान]



बाजार में विभिन्‍न कंपनियों के कई तरह के शीतल पेय मौजूद हैं। और बीते कुछ सालों से इनकी खपत में भी इजाफा हो रहा है। हालांकि समय-समय पर सेहत को इनकी वजह से होने वाले नुकसानों के बारे में भी रिपोर्ट आती रहती हैं।

हाल ही में अमेरिकी शोधकर्ताओं ने शीतल पेय के स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ने वाले नए दुष्‍प्रभावों के बारे में जानकारी दी है। शोधकर्ताओं ने 50 से 71 साल की उम्र वाले 2 लाख 65 हजार पुरुष व महिलाओं पर अध्‍ययन करने के बाद अवसाद और कोल्‍ड ड्रिंक के संबंधों के बारे में यह नतीजा निकाला है।

[इसे भी पढ़ें- मानसिक तनाव से कैसे रहें दूर]

दस साल के अध्‍ययन के दौरान उनके द्वारा पिए जाने वाले पेय पदार्थों के सेवन पर  निगाह रखी गयी। साथ ही इस बात पर भी निगाह रखी गयी कि उनमें से कोई अवसाद का शिकार हुआ या नहीं।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग एक दिन में चार कैन से ज्‍यादा सॉफ्ट ड्रिंक पीते रहे उनमं अवसाद का खतरा उन लोगों की तुलना में तीस फीसदी तक अधिक रहा जो सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन नहीं करते थे। शोधकर्ताओं के मुताबिक इसके पीछे यह कारण यह है कि इस प्रकार के शीतल पेय में कृत्रिम स्‍वीटनर एसपार्टम का प्रयोग किया जाता है, जो सेहत के लिए नुकसानदेह साबित होते हैं।

[इसे भी पढ़ें- कोक पेप्सी के शौकीन है तो यह पढ़ें]


अमेरिकन एकेडमी ऑफ न्‍यूरोलॉजी के सदस्‍य और शोधकर्ता होंगलेई चेन के मुताबिक सॉफ्ट ड्रिंक से शरीर में कौन सी जैविक क्रियाएं होती हैं जिनके चिलते अवसाद पनपता है, इस बार में अभी पूरी जानकारी नहीं है लेकिन इस संबंध में लगातार ही पुख्‍ता संकेत मिल हरे हैं कि कृत्रिम स्‍वीटनर स्‍वास्‍थ्‍य को कई प्रकार से नुकसान पहुंचाते हैं।

Read More Articles on Health News in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1115 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर