अल्जाइमर से बचना चाहते हैं तो तिरछा होकर सोएं!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 10, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

अल्‍जाइमर दिमाग संबंधी बीमारी है, जिसके कारण याद्दाश्‍त कम हो जाती है। यह बढ़ती उम्र में होने वाली बीमारी है। हाल ही में हुए एक शोध की मानें तो तिरछा होकर सोने से अल्‍माइमर का खतरा कम हो जाता है। 

Alzheimer In Hindi
अमेरिका के न्यूयार्क स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ रोचेस्टर द्वारा किये गये शोध की मानें तो पेट या पीठ के बल सीधा सोने की बजाय तिरछा सोने से अल्जाइमर और पा‍र्किंसंस जैसे न्यूरोलॉजिकल बीमारियों के होने की संभावना कम हो जाती है।

इस अध्ययन के मुताबिक, तिरछा सोने से दिमाग में मौजूद हानिकारक रासायनिक विलेय या अपशिष्ट विलेय अच्‍छी तरह से निकल जाते हैं। दिमाग में अपशिष्ट विलेय या रासायनिक विलेय के जमा होने से अल्जाइमर और दूसरे न्यूरोलॉजिकल बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है।

इसके शोधकर्ता मैकेन नेडेर्गार्ड ने बताय, 'यह पहले ही पता चल चुका है कि नींद के दौरान खलल पड़ने से अल्जाइमर की बीमारी और याद्दाश्‍त खोने का खतरा बढ़ जाता है। हमारी शोध में इससे संबंधित जो नई बात सामने आई है, वह है सोने का तरीका भी इस विषय में महत्वपूर्ण स्थान रखता है।'

इस शोध के निष्कर्ष में बताया गया कि सोने का तरीका चुनना या अपनाना आराम करने की एक जैविक क्रिया है, जो जागने के दौरान दिमाग में जमा होने वाले मेटाबॉलिक अपशिष्ट को निकालने के लिहाज से महत्वपूर्ण है। यह शोध पत्रिका 'न्यूरोसाइंस' में प्रकाशित हुई।

 

Image Source - Getty

Read More Health News in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES3 Votes 892 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर