हाई ब्‍लड प्रेशर में जिम करना चाहिए या नहीं? जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 05, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • हाई ब्‍लड प्रेशर को 'साइलेंट किलर' भी कहा जाता है।
  • रोगियों को नियमित रूप से एक्‍सरसाइज करनी चाहिए।
  • नियमित एरोबिक्स से ब्‍लड प्रेशर का स्तर नियंत्रित रहता है।

ब्‍लड प्रेशर आधुनिक लाइफ स्टाइल की सबसे आम बीमारी बनकर उभरी है। इसे 'साइलेंट किलर' तक कहा जाता है। हाई ब्‍लड प्रेशर एक ऐसी अवस्‍था है, जिसमें व्‍यक्ति का ब्‍लड प्रेशर बढ़कर 140/90 हो जाता है। यह बढ़कर 180/120 तक जाता है, जो एक बहुत ही गंभीर अवस्‍था मानी जाती है, और जितनी जल्‍दी हो सके इसे नियंत्रित किया जाना चाहिए।

 

बहुत से लोगों को लगता हैं कि वह जिम और वर्कआउट सिर्फ इसलिए नहीं कर सकते हैं, क्‍योंकि उन्‍हें हाई ब्‍लड प्रेशर है। वास्‍तव में हाई ब्‍लड प्रेशर के रोगियों को नियमित रूप से एक्‍सरसाइज करनी चाहिए, क्‍योंकि हाइपरटेंशन के कारणों में से एक कारण स्‍वस्‍थ जीवनशैली का अभाव है। हफ्ते में 5 दिन जिम करने से हाई ब्‍लड प्रेशर के रोगियों को ब्‍लड प्रेशर नियंत्रित करने में मदद मिलती है। लेकिन जिम करने की चाहत रखने वाले हाई ब्‍लड प्रेशर के रोगियों को कुछ उपायों के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी हैं। आइए ऐसे ही कुछ उपायों के बारे में इस आर्टिकल में जानते हैं।  

gym in hindi

इसे भी पढ़ें : हाई ब्‍लड प्रेशर पर काबू पाने वाले प्रभावशाली घरेलू उपाय

हाई ब्‍लड प्रेशर में जिम करने के दौरान बरतें यह सावधानियां

  • वर्कआउट मध्यम तीव्रता से होना चाहिए। यद्यपि स्ट्रेंथ ट्रेनिंग करते समय, वेट दिल के स्‍तर से ऊपर नहीं जाना चाहिए। स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग से भी लंबे समय में ब्‍लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। अन्य एक्‍सरसाइज में आप जॉंगिंग, स्क्वॉट, पुल-अप, बाइसेप कर्ल, सीटेड चेस्‍ट प्रेस आदि शामिल कर सकते हैं।   
  • हाई ब्‍लड प्रेशर के रोगियों को एक सेक्‍शन में 30-60 मिनट के लिए एक्‍सरसाइज करनी चाहिए, इस बात को ध्यान में रखते हुए कि सेक्‍शन में तीव्रता ना हो।
  • नियमित एरोबिक्स भी ब्‍लड प्रेशर के स्तर को बनाए रखने में बहुत मददगार होती है। जब आप जिम कर रहे हो तो आप ट्रेडमिल या इलिप्टिकल ट्रेनर का उपयोग कर सकते हैं। हालांकि, आपको अपने ट्रेनर को बताना चाहिए कि आप हाई ब्‍लड प्रेशर के रोगी है ताकी एक्‍सरसाइज बहुत ज्‍यादा तेजी वाली न हो।
  • एक्‍सरसाइज के साथ अच्‍छी डाइट, जिसमें चीनी की मात्रा कम और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होनी चाहिए।
  • नियमित एक्‍सरसाइज से तनाव दूर होता है, जिससे ब्‍लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।     
  • एरोबिक्स के अलावा, योग और पिलेट्स से भी तनाव को कम करने और फिटनेस के स्तर को बढावा देने में मदद मिलती हैं।

इसे भी पढ़ें : जिम का पहला दिन है तो जरूर फॉलो करें ये टिप्स

  • इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन सी एक्‍सरसाइज चुनते हैं, लेकिन आपको इस बात का ध्‍यान रखना चाहिए कि एक्‍सरसाइज की शुरूआत धीरे-धीरे और शुरुआत से पहले वार्मअप करना न भूलें। वर्कआउट की तीव्रता में धीरे-धीरे वृद्धि की जानी चाहिए, और यह हमेशा मध्‍यम से तीव्रता में ही होना चाहिए।
  • एक्‍सरसाइज के दौरान आपको इस बात का ध्‍यान रखना चाहिए कि आप अपनी सांसों को रोकें नहीं, क्‍योंकि इससे आपके ब्‍लड प्रेशर के स्‍तर में वृद्धि हो सकती है। साथ ही इस बात का भी ध्‍यान रखें किे आप सांस लगातार लें और अगर आपको चक्‍कर जैसा महसूस हो तो एक्‍सरसाइज को बीच में ही रोक दें।

इन कुछ उपायों को अपनाने से आपकी जिमिंग संभव हो सकती हैं, भले ही आप हाई ब्‍लड प्रेशर के रोगी ही क्‍यों न हो।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Getty
    
Read More Articles on High Blood Pressure in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1770 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर