महिलाओ में यौन रोग

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 03, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

महिलाओं में यौन रोग होना कोई नई बात नहीं लेकिन सवाल ये उठता है कि गर्भावस्था के दौरान किस तरह के यौन रोग हो सकते है।

[इसे भी पढ़े- यौन अपमानजनक रिश्तों के लक्षण]

रजोनिवृत्ति के बाद कैसे रोग हो सकते हैं। सही खान-पान से क्या महिलाओं के स्‍वास्‍थ्‍य पर कोई असर पड़ता है। महिलाओं के रोग में यौन इच्छा का अधिक और कम होना भी शामिल है। आइए जानें महिलाओं के यौन रोग के बारे में।

 

  • किसी भी महिला में कोई शारीरिक परिवर्तन आना, किसी बीमारी का पनपना इत्यादि सभी कुछ किसी न किसी कारण पर निर्भर करता है। महिलाओं में होने वाले रोग किन्हीं कारणों से ही होते है।
  • महिलाओं की यौन इच्छा में अधिकता आना या कमी आने के पीछे गर्भावस्था, गर्भधारण भी हो सकता है या फिर माहवारी का अनियमित या अधिक रक्त स्राव होना भी हो सकता है।
  • यौन रोगों में यह तय करना मुश्किल होता है कि किस कारण से क्या प्रभाव पड़ेगा और यह भी जरूरी नहीं कि हर यौन रोग के कारण भी एक जैसे ही हो।
  • आपके अपने पार्टनर से रिश्ते खराब है या बहुत अच्छे है इसका असर भी यौन रोगों पर पड़ता है।
  • कोई खतरनाक बीमारी होने से भी संभोग के दौरान पीड़ा होने लगती है जिससे महिलाएं सेक्स में कम रूचि रखने लगती है।
  • माहवारी के दिनों में बहुत अधिक दर्द होने या अधिक रक्त स्राव से भी महिलाएं सेक्स में कम रूचि रखने लगती है।
  • सेक्स इच्छा में कमी या अधिकता कोई बीमारी नहीं लेकिन उसके कारण आपको परेशान कर सकते हैं। जैसे तनाव लेकर भी आप अपनी सेक्स लाइफ को खराब कर सकते हैं।
  • डायबिटीज आपकी सेक्स लाइफ में खलल डाल सकती है।
  • महिलाओं की सेक्स इच्छा भावनात्मक और शारीरिक दोनों रूपों में प्रभावित होती है। इसके अलावा दवाएं, हार्मोंस परिवर्तन भी इसके लिए जिम्मेदार हैं।

 

[इसे भी पढ़े- यौन स्‍वास्‍थ्‍य के लिए आयुर्वेद]

यौन रोगों के प्रकार

 

  • हाइपोएक्टिव यौन इच्छा विकार- इस विकार में यौन विचार नहीं आते और संभोग की इच्छा भी नहीं होती। इस रोग में महिला कुंठित रहती है और पार्टनर से भी संबंध खराब होने की संभावना रहती है।
  • यौन घृणा विकार- इस स्थिति में महिला संभोग से बचने के लिए हर संभव प्रयत्न करती है। जबरन संभोग करने पर वह तनाव में आ जाती है, डर जाती है, उसका जी घबराने लगता है, दिल धड़कने लगता है, यहाँ तक कि वह बेहोश भी हो जाती है।
  • महिला कामोत्तेजना विकार- इस विकार में महिला को चाहकर भी यौन उत्तेजना नहीं होती, न ही अन्य शारीरिक परिवर्तन होते हैं। जिस कारण महिला मानसिक रोग का शिकार हो सकती है या फिर आत्मग्‍लानि से भर जाती है।
  • महिला चरम आनंद विकार- संभोग करने के बाद भी महिला असंतुष्ट रहती है और चरम आनंद की प्राप्ति से वंचित रहती है। इस रोग के कारण महिला सदमे में भी जा सकती है।
  • संभोग के दौरान अत्यधिक दर्द होना भी यौन विकार ही है।

[इसे भी पढ़े- यौन अपमानजनक रिश्तों से कैसे उबरें]

 

महिलाओं में यौन रोग और सेक्स‍ में कम रूचि होने के कारक

  • गुर्दा रोग, न्यूरोलॉजिकल रोग,  कोरोनरी धमनी रोग, गठिया, मधुमेह, कैंसर, उच्च रक्तचाप इत्यादि बीमारियां महिलाओं में यौन इच्छा को कम करने का एक बहुत बड़ा कारक हैं।
  • एंटी डिपरेस्डो, एंटी सायीकोटिक दवाये, रसायन चिकित्सा दवायें आदि को सेक्स ड्राइव पर प्रभाव डालनेवाला माना जाता है।
  • बहुत ज्यादा शराब या ड्रग्स लेने से आपको यौन रोग हो सकता है।
  • स्तन सर्जरी या जननांगों से संबंधित सर्जरी भी शरीर को खासा प्रभावित करती है।
  • सेक्स के दौरान दर्द होना या जल्दी् थकान हो जाना, अधिक तनाव लेना सभी यौन रोग के कारणों में शामिल है।

 

Read More Articles On- Sex relationship in hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES30 Votes 52850 Views 1 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर