सेहतमंद रहना है तो बीमारियों के बारे में न पढ़ें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 13, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

sehtmand rahna hai to bhimariyo ke baare me na padhe

हम सभी को सेहत दुरूस्‍त रखने के लिए उससे जुड़ी खबरें पढ़ना अच्‍छा लगता है और यह अच्‍छा भी है क्‍योंकि इससे हमें बीमारियों के बारे में ज्‍यादा जानने को मिलता है, लेकिन कभी कभी ऐसा करना स्‍वास्‍थ्‍य पर उल्‍टा असर कर सकता है।

जर्मनी स्थित जोहानस गुटेनबर्ग यूनिवर्सिटी के मुताबिक, बीमारियों के बारे में पढ़ने से इनसान पर उसके खयाल हावी होने लगते है। ऐसे में उसके बीमारी के गिरफ्त में आने की संभावना बढ़ जाती है। इसको 'इलेक्‍ट्रो मैगनेटिक हाइपर सेसिटीविटी' कहते है। बीमारियों के बारे में लगातार सोचने से इनसान में बेचैनी और घबराहट घर करने लगती है और उसमें उन बीमारियों के लक्षण नजर आने शुरू हो जाते है।

एक सर्वे में पता चला कि हमारें युवाओं का दिल बड़ा कमजोर होता है। लगभग 25 फीसदी युवा मानते है कि बीमारी के बारे में पढ़ने से उन्‍हें यह चिंता सताती है कि कहीं बुढ़ापे में उन्‍हें दिल का रोग न हो जाए। 24 फीसदी बुढ़ापें में डायबीटीज होने से डरते हैं और 16 फीसदी को कैंसर से डर लगता है।

 


Read More Articles on Health News in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1192 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर