नॉनवेज नहीं, बींस खाएं, अच्छी सेहत पाएं!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 07, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बीन्‍स और अन्‍य दालों के सेवन से दिल मजबूत होता है।
  • मांसाहार के अधिक सेवन से शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ता है।
  • जबकि बीन्‍स खाने से 5 प्रतिशत कोलेस्‍ट्रॉल कम होता है।

साहार के बजाय बीन्‍स यानी शाकाहार अपनाने के कई फायदे हैं, इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि बीन्‍स खाने से आपका दिल मजबूत होता है और कार्डियोवस्‍कुलर बीमारियों के होने का खतरा भी कम हो जाता है।

मांसाहार जिनके प्रमुख स्रोत जानवर होते हैं, उनके अधिक सेवन करने से दिल कमजोर होता है, क्‍योंकि उनमें फैट अधिक होता है जो शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा को बढ़ाता है। इस लेख में जानिए बीफ के बजाय बीन्‍स के चयन के क्‍या वैज्ञानिक कारण हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : इन 3 कारणों से रात में भी करें वर्कआउट

Scientific Reasons To Choose Beans

क्‍या कहते हैं शोध

अगर आप अपने आहार में बीन्‍स को शामिल करते हैं तो इससे आपका कोलेस्‍ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की बीमारियों का खतरा कम होता है। सेंट माइकल हॉस्पीटल के चिकित्सक सिवेनपाइपर ने शोध के बाद बताया कि दिन में एक समय भोजन में बीन्‍स या दालें खाने से 5 प्रतिशत तक कोलेस्ट्रॉल कम होता है, इससे दिल की बीमारियों का खतरा 5 से 6 प्रतिशत तक कम होता है।

इसे भी पढ़ें : आंखों को स्वस्थ रखने के लिए करें ये एक्सरसाइज

दरअसल बीन्‍स में ग्लाइसेमिक इंडेक्स (पाचन क्रिया के दौरान भोजन सामग्री का टूटना) का स्तर अपेक्षाकृत कम होता है और इनमें अतिरिक्त प्रोटीन और कोलेस्ट्रॉल को घटाने की क्षमता होती है। सिवेनपाइपर ने मेटा एनालाइसिस समीक्षा के आधार पर लोगों के ऊपर किये गये अध्‍ययन के बाद यह हल निकाला। अध्ययन में पता चला कि पुरुषों में एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर महिलाओं की अपेक्षा कम होता है। इसका कारण महिलाओं का खान-पान में उचित ध्यान न देना हो सकता है।

बीन्‍स के अन्‍य फायदे

बींस (राजमा और लोबिया) में सबसे अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है। इसके अलावा इसमें फोलेट, मैग्‍नीशियम, प्रोटीन आदि जरूरी पोषक तत्‍व पाये जाते हैं। मात्र एक कप राजमा या एक कप लोबिया में 15 ग्राम से अधिक फाइबर मिलता है। बीन्‍स खाने से पाचन प्रकिया नियमित होती है, अपशिष्ट पदार्थ देर तक आंतों में जमा रहकर टॉक्सिन नहीं फैलाते हैं, कोलेस्ट्रॉल का स्‍तर कम होता है व हृदय रोगों में लाभकारी है, मलाशय के कैंसर से बचाव करता है, और इसे खाने से वजन भी कम होता है।

मांसाहार खाने के नुकसान

मांसाहार का सेवन अधिक करने से वजन तो बढ़ता साथ ही कैंसर, डायबिटीज, दिल की बीमारियों के होने का खतरा भी होता है। शरीर को पोषण देने वाले कई तत्‍व (जैसे - कैल्सियम, विटामिन-के, कार्बोहाइड्रेट आदि) नहीं मिलते हैं। इसलिए अगर आप सोचते हैं कि मांसाहार खाने से आपके शरीर को संपूर्ण पोषण मिल रहा है तो आप गलत हैं।

कुछ शोधों की मानें तो शाकाहारी होना हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। क्‍योंकि जो लोग सब्जियों से अधिक प्रोटीन प्राप्त करते हैं उनका रक्तचाप सामान्य रहता है जबकि मांस का अधिक सेवन करने वाले लोग हाई ब्लड प्रेशर के शिकार होते हैं। लंदन में हुए एक शोध की मानें तो उन लोगों में हाई ब्लड प्रेशर ज्यादा पाया गया जो मांस से अधिक प्रोटीन प्राप्त करते थे।

इसके अलावा ज्‍यादा मांसाहार मोटापा भी बढ़ा देता है। मांस में वसा की मात्रा बहुत होती है। हमारे शरीर को सबसे ज्यादा जरूरत कार्बोहाइड्रेट की होती है, जो कि मांसाहार में बिलकुल भी नहीं पाया जाता है। अगर कैल्शियम शरीर को न मिले तो हड्डियां और दांत तक कमजोर हो जाते हैं, कैल्शियम कभी भी मांस से नहीं मिलता।

शरीर को ऊर्जावान बनाने के लिए पौष्टिक आहार शाकाहार से मिलता है, इसलिए मांसाहार की तुलना में शाकाहार का सेवन अधिक कीजिए।

Image Source : Getty

Read More Articles on Healthy Eating in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES60 Votes 11580 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर