'विज्ञान' ला रहा है रिश्तों में दरार, खत्म हो रहे हैं रिश्ते!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 06, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • 'विज्ञान' ला रहा है रिश्तों में दरार।
  • खत्म हो रहे हैं रिश्ते।
  • आधुनिक रिश्तों का सच।

आज के बढ़ते विज्ञान और तकनीकी भरे समय का जितना लोगों का फायदा हो रहा है उतना ही नुकसान भी हो रहा है। तकनीक का फायदा यह भी है कि जहां पहले किसी से बात करने के लिए खत और तार का सहारा ले कर घंटों इंतजार करना पड़ता था, वो अब आसान हो गया है। लेकिन इस तकनीक ने रिश्तों को खराब कर दिया है। आजकल लोगों को ही पता नहीं है कि वह किस तरह खुद को अपडेट रखने की आड़ में धोखा दे रहे हैं। खुद को अपडेट रखने, सोशल मीडिया पर अपना स्टेटस देखने और तस्वीरें शेयर करने के नाम पर युवाओं से लेकर बड़े तक मोबाइल के जाल में इस कद्र फंस चुके हैं कि रिश्तों में दरार आने लगी है। आइए जानते हैं ​कैसे रिश्तों को खराब कर रहा है विज्ञान।

इसे भी पढ़ें : शादी के कुछ सालों बाद क्यों एक जैसे लगने लगते हैं पति-पत्नी! 

आज निजी जिंदगी में किसी के पास इतना वक्त नहीं है कि वह अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से मिल सके। ऐसे में सोशल मीडिया आज के दौर की जरूरत भी हो गया है। लेकिन सोशल साइट्स पर एक्टिव रहने वाले लोगों के कई दोस्त हैं, जिनसे बात करते हुए हम घंटों बिता देते हैं। यह बात करना अब एक आदत और जरूरत बन गई है। जिसके चंगुल से निकल पाना बहुत मुश्किल हो गया है।

बेडरूम में फोन


बेडरूम का मतलब होता है कि एक ऐसी जगह जहां सिर्फ आप और आपका पार्टनर रहें। ना तो किसी तीसरे आदमी की बात हो और ना ही बाहरी दुनिया कि किसी तरह की टेंशन। लेकिन आजकल ऐसा नहीं है। आजकल लोग फोन के बिना खुद को अधूरा महसूस समझ रहे हैं और हर जगह फोन के साथ जाते हैं। ​पति—पत्नी के रिश्ते में दरार आने का यह एक बहुत बड़ा कारण है। आजकल ना सिर्फ पुरुष बल्कि महिलाएं भी बेडरूम में फोन से चिपकी रहती हैं। ऐसे में जब आपके पार्टनर को यह पसंद नहीं आता या वह इन्सिक्योर फील करता है तो रिश्तों में दरार आना लाजमी है। इसलिए कोशिश करें कि फोन को बेडरूम से बाहर ही रखें।

पढ़ाई के नाम पर फोन


फोन में इंटरनेट डलवा कर पढ़ाई की आड़ में सोशल मीडिया से चिपके रहने वाले बच्चों की कमी नहीं है। आजकल बच्चे पढ़ाई कम और फोन में ज्यादा रुचि लेते हैं। जब रात को स्टडी रूप में ऐसा होता है और अचानक पेरेंट्स आ जाते हैं तो नोकझोंक होना लाजमी है। जबकि आजकल के बच्चे चाहते हैं कि कोई उन्हें ​परेशान ना करें। ऐसे में बच्चों और पेरेंट्स के रिश्ते तो खराब हो ही रहे हैं साथ ही पढ़ाई का नुकसान भी हो रहा है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Relationship In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES550 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर