स्तन कैंसर के जोखिम कारक

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 21, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

satan cancer lke jokhim karak महिलाओ में स्तन कैंसर एक गंभीर समस्या है। यह महिलाओं में मृत्यु का दूसरा सबसे बड़ा कारण है। स्तन कैंसर से बचाव के लिए जरूरी है कि आप स्तन कैंसर के जोखिम कारकों को जान लें। स्तन कैंसर के बारे में जानकारी ही इसका सबसे बड़ा ईलाज है। स्तन कैंसर की समस्या पहले उम्रदराज महिलाओं में ही देखी जाती थी लेकिन आजकल की बदलती जीवनशैली के कारण यह समस्या कम उम्र की महिलाओ में भी पाई जाती है। स्तन कैंसर की शुरुआती अवस्था में पता चलने से इसका ईलाज काफी आसान हो जाता है। यह समस्या बढ़ने पर महिलाओं के लिए घातक साबित हो सकतीसकता है। आईए जानें स्तन कैंसर के जोखिम कारकों के बारे में।

 

पारिवारिक इतिहास

 

अगर आपके परिवार में किसी को स्तन कैंसर की समस्या हो तो आपमें इस बीमारी के होनेकी संभावना बढ़ जाती है। स्तन कैंसर के लगभग 5% से 10 %  मामलों में पारिवारिक इतिहास ही जिम्मेदार होता है।

 

बढ़ती उम्र

 

महिलाओं की उम्र बढ़ने के साथ ही, उनमें स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। ज्यादातर महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा 45-55 साल की उम्र में रहता है। इसलिए इस दौरान आपको स्तन कैंसर की जांच जरूर करानी चाहिए।

 

गर्भाशय कैंसर

 

अगर किसी महिला को पहले गर्भाशय कैंसर की समस्या हो चुकी है तो उसमें स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

 

अनुवांशिक त्रुटि

 

बीआरसीए 1 या बीआारसीए 2 विशिष्टु जीन उत्परिर्वतन स्तन कैंसर का कारण हो सकते हैं। वंशानुगत कारणों से महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा काफी बढ़ जाता है।

 

अधिक उम्र में गर्भवती होना

 

अगर आपका पहला बच्चा 35 साल की उम्र में हुआ है या आप संतानविहीन है तो स्तन कैंसर का खतरा हो सकता है।
मासिक धर्म  अगर आपका मासिक धर्म 12 साल के पहले शुरु हो जाता है तो आगे चलकर स्तन कैंसर की समस्या हो सकती है। इसके अलावा अगर 50 साल के बाद भी रजोनिवृत्ति शुरु रहता है तब भी स्तन कैंसर का खतरा हो सकता है।

 

एल्कोहल व धूम्रपान

 

शराब का सेवन व धूम्रपान करने वाली महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा नशा नहीं करने वाली महिलाओं की अपेक्षा कहीं ज्यादा होता है।
स्तन घाव स्तननों में किसी प्रकार का लंबे समय तक रहने वाला घाव भी महिलाओं में स्तन कैंसर के खतरे को बढ़ाता हैं।


रेडिएशन के संपंर्क में रहना

 

ट्यूबरकुलोसिस के दौरान ज्यादा एक्स रे कराने से महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि वे रेडिएशन के संपंर्क में आती हैं।


अन्य कारक

  • मोटापा
  • लाल मांस का ज्यादा सेवन करना,
  • गर्भनिरोधक गोलियों का पहली बार सेवन
  • सुस्त जीवनशैली
  • हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी
Write a Review
Is it Helpful Article?YES15 Votes 14761 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • reeta25 May 2012

    nice info

  • reeta25 May 2012

    nice info

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर