ट्रोपोनिन स्तर और हृदयाघात में सम्बन्ध

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 24, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites


  • हृदय की मांसपेशी फाइबर का घटक होता है ट्रोपोनिन।
  • हृदयाघात के आकलन मे किया जाता है इसका प्रयोग।
  • हृदय की धमनियों मे रक्त संकुचन से पड़ता है आघात।
  • आघात पड़ने से बढ़ जाता है शरीर में ट्रोपोनिन का स्तर।

दिल का दौरा पड़ने पर हृदय की मांसपेशियां क्षतिग्रस्त हो जाती है। मांसपेशियों के क्षतिग्रस्‍त होने के बाद ट्रोपोनिन रक्‍त में उत्पन्न होता है। ट्रोपोनिन का स्तर अधिक होने पर माशपेशियों को ज्‍यादा क्षति होती है। ट्रोपोनिन स्तर और हृदयाघात एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। बात करते हैं ट्रोपोनिन स्तर और हृदयाघात के बीच संबंध के बारे में।

ट्रोपोनिन स्तर

ट्रोपोनिन स्तर और हृदयाघात के बीच संबंध पर चर्चा करने से पहले ट्रोपोनिन स्तर और हृदय आघात क्या हैं, यह जान लेना सही होगा। ट्रोपोनिन हृदय की मांसपेशी फाइबर का एक घटक होता है। यह दिल के दौरे (हृदयाघात) का आकलन करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला अहम हृदय मार्कर होता है। ट्रोपोनिन का कार्य बहुत ही संवेदनशील होता है, इसका निम्न और उच्च स्तर (इसके उच्च स्तर की मौजूदगी हृदय माशपेशियों की क्षति की संभावना को व्यक्त करती हैं।) हृदय की स्थिति और हृदय आघात से क्षति को दर्शाता है।

हृदय आघात

दिल का दौरा इसलिए पड़ता है क्योंकि दिल को खून पहुंचाने वाली एक या एक से अधिक धमनियों में वसा के थक्के जमने के कारण रुकावट आ जाती है। थक्कों के कारण खून का प्रवाह अवरुद्ध होता है और पर्याप्‍त मात्रा में खून नहीं मिलने के कारण दिल की मांसपेशियों में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। ऐसे में यदि जल्द खून का प्रवाह ठीक नहीं किया जाता तो दिल की मांसपेशियों की मुत्यु हो जाती है। दिल के दौरे में अधिकांश मौत थक्के के फट जाने के कारण होती हैं।

ट्रोपोनिन स्तर और हृदयाघात में सम्बन्ध

जब हृदय को प्रचुर मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिलती तो मांसपेशी फाइबर क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और इसके घटक (ट्रोपोनिन सहित) ब्लड स्ट्रीम में रिस जाते हैं। हृदय आघात होने के लगभग तीन से चार घंटों के अंदर ट्रोपोनिन का स्‍तर बढ़ने लगता है। ये ट्रोपोनिन के दो प्रकार cTnI तथा cTnT होते हैं। ट्रोपोनिन का स्तर बारह से सोलह घंटों में अपने चरम पर होता है और लगभग दो सप्‍ताह तक बढ़ा हुआ ही रहता है। जब किसी मरीज को सीने में दर्द की शिकायत के बाद चिकित्‍सक को दिखाया जाता है तो सबसे पहले ट्रोपोनिन स्तर का पता लगाने के लिए उसके रक्त की जांच की जाती है। इसके बाद हर चार से छह घंटे में इस जांच को किया जाता है। ट्रोपोनिन का बढ़ा हुआ स्तर हृदय माशपेशियों को हुए अधिक नुकसान की जानकारी देता है। वहीं ट्रोपोनिन का निम्न स्तर छोटे हृदय आघात के बारे में जानकारी देता है।



हालांकि कुछ चिकित्‍सकों का कहना है कि ऐसे ब्लड टेस्‍ट मौजूद हैं जिनके द्वारा पहले से कहीं पूर्व हृदय आघात का पता लगाया जा सकता है।

 

Image Source-Getty

Read more article on Heart Health in hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10 Votes 3177 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर