कैंसर से बचना है तो कम करें वजन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 20, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

कैंसर बहुत ही खतरनाक बीमारी और यह जानलेवा भी हो सकती है। मोटापा उससे भी खतरनाक समस्‍या है, क्‍योंकि यह कई बीमारियों की जननी है। हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार, अगर कैंसर से बचना है तो वजन पर नियं‍त्रण रखना जरूरी है। इस शोध के लिए 50 लाख से अधिक लोगों के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया, जिनमें मोटापे और कैंसर के बीच संबंध पाया गया।

Cancer in Hindi

डेली मेल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, जर्नल लांसेट में प्रकाशित एक नए शोध के मुताबिक हर साल अकेले ब्रिटेन में 12,000 से ज्यादा नए कैंसर के मामलों का कारण अधिक वजन होता है। इसके अध्‍ययनकर्ताओं के मुताबिक, किसी व्यक्ति के बॉडी मास इंडेक्स में हर 5 अंक की वृद्धि से उनके गर्भाशय कैंसर से ग्रस्त होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक बढ़ जाती है और गुर्दे के कैंसर से ग्रस्त होने की संभावना 25 प्रतिशत तक अधिक होती है।

एनएचएस परामर्शदाता और वेट लॉस विशेषज्ञ सैली नॉर्टन के अुनसार, 'अतिरिक्त वसा आपके शरीर के मध्यम हिस्से में यूं ही जमा नहीं रहती, बल्कि यह कई हार्मोन के उत्‍पादन का कारण बनती है जिसमें एस्ट्रोजन एक है।' नॉर्टन ने यह भी बताया, कि मेनोपॉज के बाद जब अंडाशय हार्मोन स्रावित करना बंद कर देते हैं, तब वसा ही एस्ट्रोजन का मुख्य स्रोत होती है। इसका अर्थ है कि रजोनिवृत्ति के बाद ऐसी महिलाएं जो मोटापे की शिकार हैं, उनमें इस्ट्रोजन के कारण होने वाले ट्यूमर का खतरा अधिक हो जाता है।

अतिरिक्त फैट न केवल कुछ ब्रेस्‍ट कैंसर के खतरे को बढ़ाती है, बल्कि यह इलाज को भी कम प्रभावशाली बना देती है। नॉटर्न के अनुसार, '41 प्रतिशत गर्भाशय कैंसर का कारण मोटापा हो सकता है।' पुरुषों के मामले में मोटापे के कारण कोलोन कैंसर का खतरा बढ़ता है। लगभग 10 प्रतिशत कोलोन कैंसर का संबंध मोटापे से है। इसके अलावा लीवर कैंसर भी मोटापे से संबंधित है।

 

Image Source - Getty

Read More Health News in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES5 Votes 1284 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर