हृदय रोग से बचने को नमक कम खाएं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 02, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सोडियम के अधिक प्रयोग से पड़ता है दिल की सेहत पर असर।
  • अधिक सोडियम रक्‍तचाप को बढ़ाने के लिए होता है उत्‍तरदायी।
  • नमक का ज्‍यादा सेवन करने से शरीर में पानी जमा होने लगता है।
  • भोजन में नमक की मात्रा कम कर बचा जा सकता है हृदय रोग से।

 

दुनिया भर में हर साल हृदय संबंधी रोगों से 1.75 करोड़ लोगों की मौत होती है। खानपान में थोड़ी सी सावधानी बरत कर इस आंकड़े को काफी कम किया जा सकता है। एक वरिष्ठ हृदय चिकित्सक का कहना है कि किसी व्यक्ति की खुराक में तीन ग्राम नमक कम कर उसके हार्ट अटैक का शिकार होने का खतरा 20 फीसदी तक कम किया जा सकता है। इतना ही नहीं इससे हृदय संबंधी अन्य रोगों का खतरा भी 15 फीसदी तक कम हो जाता है।

salt on heart

जरूरत से ज्‍यादा मात्रा में सोडियम उत्‍पादों का सेवन करने से आपका शरीर अधिक मात्रा में पानी सोखने लगता है। इससे हमारे दिल और रक्‍तवा‍हिनियों पर दबाव बढ़ जाता है। कुछ लोगों में इसके कारण उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या भी हो सकती है। सोडियम की मात्रा कम करने से आप अपना रक्‍तचाप नियंत्रित रख सकते हैं। यह बात तो सर्वविदित है कि जिन लोगों का रक्‍तचाप अधिक होता है उन्‍हें दिल की बीमारियां और स्‍ट्रोक होने का खतरा अधिक होता है।

 

कितने सोडियम की है जरूरत

अधिकतर लोगों को इस बात की जानकारी भी नहीं होती कि वे अधिक मात्रा में सोडियम का सेवन कर रहे हैं। एक चम्‍मच नमक में 2300 मिली ग्राम सोडियम होता है। जबकि आपके शरीर को रोजाना केवल 200 मिली ग्राम सोडियम की जरूरत होती है। एक औसत अमेरिकी रोजाना 3000 से 3600 मिलीग्राम सोडियम का सेवन करता है। संभव है कि अच्‍छी सेहत के लिए आपका डॉक्‍टर आपको पूरी तरह से नमक छोड़ने की सलाह दे।

कोयंबटूर के श्री रामकृष्ण हास्पिटल में कार्यरत डा. एस बालाजी कहते हैं कि यदि रोजाना की खुराक में आधा चम्मच नमक लेना कम कर दिया जाए तो लाखों लोगों की जिंदगी बच सकती है। उनके अनुसार, कई चीजें ऐसी हैं जिनसे हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ता है। इनमें अधिक नमक खाना भी एक है। अपनी जीवन शैली में बदलाव लाकर हाई ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण पाया जा सकता है। गौरतलब है कि हृदय संबंधी बीमारियों के लिच्च्च्च्च रक्त चाप सबसे बड़ा खतरा है।

 

salt effect on heart


डा. बालाजी ने सलाह दी कि अधिक नमक युक्त खाद्य पदार्थ लेने से परहेज करना और खाने में अलग से नमक लेने से बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि रेस्तरां में तैयार खाने में नमक की मात्रा को लेकर सचेत रहने से प्रतिदिन खाने में तीन ग्राम नमक कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि खान-पान के साथ धूम्रपान से परहेज कर और हर दिन 40-45 मिनट नियमित व्यायाम कर हृदय रोगों से बचा जा सकता है।

 

 

Image Courtesy- Getty Images

 

Read More Articles on High Blood Pressure in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES6 Votes 13174 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • saroj mishra15 May 2013

    i read all the posts about hight blood pressure but am unable to find home remedies for the same in hindi. pl guide.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर