जैन क्यों नहीं खाते लहसुन और प्याज? जानें कारण

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 14, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • भोजन तीन प्रकार के होते हैं- सात्विक, राजसिक और तामसिक।
  • जैन धर्म में केवल सात्विक भोजन करने को कहा गया है।
  • प्याज-लहसुन का सेवन इस धर्म में वर्जित है।

आपके कई सारे जैन दोस्त होंगे... जो प्याज लहसुन नहीं खाते होंगे। क्या आपने कभी इसका कारण जानने की कोशिश की है। आज इस लेख में हम आपको इसका कारण बताते हैं।


जैसा अन्न वैसा मन अर्थात् जैसा भोजन हम खाते हैं वैसा ही प्रभाव हमारे तन मन पर पड़ता है और इसी के साथ हमारी प्रवृति भी वैसी ही होनी शुरू हो जाती है। इसलिए जैनिज्‍़म में माना जाता है कि भोजन वही करना चाहिए जो सात्त्विक हो। सात्विक भोजन में दूध, घी, चावल, आटा, मूंग, लौकी, परवल, करेला आदि आते हैं। तीखे, खट्टे, चटपटे, अधिक नमकीन, मिठाईयां आदि पदार्थों राजसिक भोजन में आते हैं। लहसुन, प्याज, मांस-मछली, अंडे आदि जाति से ही अपवित्र होते हैं और इनकी गिनती तामसिक भोजन में होती है मतलब राक्षसी प्रवृति के भोजन कहलाते हैं।

इसे भी पढ़ें- 7 दिनों में पेट की चर्बी कम करने के उपाय


जैन केवल सात्विक भोजन करते हैं। वो प्याज-लहसुन नहीं खाते। इसके अलावा ये वैसी सब्जियां भी नहीं खाते जो जमीन के अंदर होती हैं। मतलब वे जड़ जो सब्जियों का ही रुप होती हैं। जैन लोगों का मानना है कि प्याज-लहसुन तासमिक भोजन है मतलब ये राक्षसी प्रवृति के भोजन होते हैं जिसके कारण इन्हें ग्रहण करने से इंसानों की सोच भी राक्षसों की तरह हो जाती है। इस कारण ये लोग अपने भोजन में इन दो चीजों का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करते।

कंदमूल से भी रहते हैं दूर

प्याज-लहसुन के अलावा जैन वे सब्जियां भी नहीं खाते जो जमीन के अंदर पैदा होती हैं। इन सब्जियों को कंदमूल कहते हैं। जैनियों का मानना है कि जमीन के नीच उगने वाली सब्जियों में कई सारे बैक्टिरिया और जीवाणु होते हैं जो हमें नग्न आंखों से नहीं दिखते। ऐसे में जब वे ये सब्जियां खाते हैं तो इन सूक्ष्म जीवों को भी खा लेते हैं जो एक तरह से अहिंसा ही होती है। जबकि जैनियों के जीवन का सबसे बड़ा धर्म और मार्ग है- "अहिंसा परमो धर्म"।

इसे भी पढ़ें- किशमिश खाने से दूर होगी कमजोरी, जानिए कितना है पोषण

आयुर्वेद में भी है मनाही

आयुर्वेद में भी प्याज-लहसुन खाने की मनाही है। आयुर्वेद में खाद्य पदार्थों को तीन श्रेणियों में बांटा जाता है- सात्विक, राजसिक और तामसिक।
सात्विक भोजन मतलब सादा खाना। राजसिक भोजन मतलब चटपटा खाना और तामसिक भोजन मतलब राक्षसी खाना। प्याज-लहसुन राजसिक और तामसिक भोजन के भाग हैं।

 

Read more articles on Diet and nutritions in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES3259 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर