पुरुष रजोनिवृति की संभावित अवधि

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 04, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बहुत कम लोग जानते हैं कि रजोनिवृति से पुरुष भी प्रभावित होते हैं।
  • अंडकोष से टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन पर्याप्त न होने से होती है समस्या।
  • पुरुषों रजोनिवृति या एंड्रोपॉज 40 से 49 साल पर शरू हो सकती है।
  • एंड्रोपॉज पुरुषों में शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तन भी लाता है।

अगर आपकी कामेच्छा अचानक बढ़ गई हैख्‍ तो हो सकता है आपको एंड्रोपॉज हो या उसकी शुरुआत हो रही हो। ऐसे में घबराइए नही, लेकिन सावधान जरूर हो जाइए। महिलाओं में रजोनिवृति के बारे में लगों को काफी जानकारी है, लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि रजोनिवृति से पुरुष भी प्रभावित होते हैं। 40 वर्ष से अधिक उम्र के लगभग 35 प्रतिशत भारतीय पुरुष एंड्रोपॉज से प्रभावित हैं। यह सुनकर आपके दिमाग में एक सवाल आना स्वाभाविक है कि एंड्रोपॉज भला क्या है ?

 

 

क्या है एंड्रोपॉज

एंड्रोपॉज पुरुषों की रजोनिवृति है। इसे एंड्रोजेन डेफीसेंसी इन एजिंग मेल्स (एडीएएम) रोग की तरह ही माना और जाना जाता है। दरअसल मर्दों के लिए एंड्रोपॉज के वही मायने हैं, जो महिलाओं के लिए मेनोपॉज या रजोनिवृति के होते हैं। हालांकि महिलाओं की तरह पुरूषों में माहवारी बंद होने जैसी कोई स्थिति नहीं होती, पर ऐसा होने से उनके शरीर में कई बदलाव जरूर आ जाते हैं।

 

विशेषज्ञ मानते हैं कि महिला रजोनिवृति के मुकाबले पुरुष रजोनिवृति को लेकर लोगों में जागरुकता और जानकारी का अभाव है। इसे अब भी सामाजिक दाग की ही तरह समझा जाता है। वे बताते हैं कि भारत में विशेष रूप से उत्‍तर भारत में एडीएएम के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। वास्तव में एंड्रोपॉज के शुरुआती लक्षणों को सीधे यौन क्षमता में कमी या पुरुषों में यौन संबंधों की इच्छा में कमी के साथ नहीं जोड़ा जाना चाहिए। यह बोन डेन्सिटी और मांसपेशियों की ताकत में कमी और कई बार मोटापे के चलते भी बढ़ जाती है। यह सामान्य तौर पर 30 वर्ष की उम्र से शुरू होता है।

 

 

 

Male Menopause

 

 

हाल ही में हुए शोध में यह बात सामने आयी है कि पुरुषों को भी महिलाओं की तरह रजोनिवृति होती है। 49 साल की उम्र के बाद पुरुषों में सेक्स हार्मोन का विकास कम हो जाता है। पुरुषों के मेनोपॉज या रजोनिवृति को एंड्रोपॉज कहा जाता है। हाल ही में एक सर्वे में यह कहा है कि 45 साल की उम्र के बाद पुरुषों को भी एंड्रोपॉज होता है। यह समस्या तब होती है जब अंडकोष से टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन पर्याप्त नहीं होता। रजोनिवृति पुरुषों में उम्र बढ़ने के साथ होने वाले भावनात्मक और शारीरिक परिवर्तन को कहते हैं। हालांकि ये लक्षण उम्र बढ़ने से संबंधित होते हैं, पर फिर भी इसका संबंध कुछ विशिष्ट किस्म के हार्मोंनों में बदलाव से होता है।

 

 

एंड्रोपॉज है तो पुरुषों की रजोनिवृति, पर एंड्रोपॉज इसके लिए सही शब्द नहीं है। क्योंकि एक ओर जहां अधिकतर महिलाओं में रजोनिवृति होती है, वहीं दूसरी ओर आमतौर पर सब पुरुषों के साथ ऐसी समस्‍या नहीं होती। न ही पुरुषों में अचानक प्रजनन क्षमता समाप्ति होने पर यह समस्‍या होती है। यह कई पुरुषों में होने वाली सामान्य प्रक्रिया जो उम्र बढ़ने के साथ होती है और यह उम्र बढ़ने के साथ-साथ बढ़ती जाती है।

 

 

Male Menopause

 

 

 

 

रजोनिवृति की संभावित अवधि

पुरुषों की रजोनिवृति या एंड्रोपॉज 40 से 49 साल की अवस्था में शरू होता है। लगभग 2 से 5 प्रतिशत की गति से यह प्रक्रिया बढ़ती है। इसी तरह 50 से 59 के बीच की अवस्था के साथ यह लगभग 6 से 40, 60-69 में लगभग 20 से 45 प्रतिशत, 70-79 में लगभग 70 प्रतिशत के बीच बढ़ती जाती है। 80 साल की उम्र तक इसी तरह हाईपोगोनेडिज्म के गिरने की दर 91 प्रतिशत तक होती है। इसमें मध्यवय के पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन बनने की प्रक्रिया धीमी लेकिन स्थिर गति से कम होती जाती है और इसके परिणामस्वरूप लेडिंग सेल्स बनने में भी कमी हो जाती है।

 

 

 

इस दौरान टेस्टोस्टेरॉन बनने की गति धीमी होने लगती है, इसलिए इस तरह के हार्मोंनल बदलाव पुरुषों में शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तन भी लाते हैं। इस समय में आमतौर पर पुरुष अपने परिवार का साथ चाहते हैं। अपनी युवावस्था में करियर, पैसा और शक्ति को केंद्र में रखते हैं पर रजोनिवृति या एंड्रोपॉज के दौरान उनके केंद्र में परिवार, दोस्त और रिश्तेदार आ जाते हैं। घरेलू काम जैसे खाना बनाना, सफाई करना और बच्चों की देखभाल करना उसे अच्छा लगने लगता है। धार्मिक और आध्यात्मिक रुझान बढ़ने लगता है। वह व्यर्थ के झंझट मोल लेने से बचने लगता है।



Read More Article on Mens-Health in hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES33 Votes 19011 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर