पुरुषों के लिए गर्भनिरोध के उपाय

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 13, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • पुरुषों को गर्भनिरोध के विषय में उचित व प्रचुर जानकारी का होना।
  • गर्भनिरोध और सेक्स संबंधित बीमारियों से बचने में कारगर।
  • वीर्य निर्माण को रोकने का काम करते हैं 'पुरुष हॉर्मोनल गर्भनिरोधक'।   
  • गर्भनिरोधक गोलियां वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या कम कर देती है।

गर्भनिरोध की जिम्मेदारी सिर्फ महिलाओं की ही नहीं है। पुरुषों पर भी इसका बराबर उत्तरदायित्व होता है। पहले पुरुषों के लिए इस क्षेत्र में अधिक विकल्प उपलब्ध नहीं थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है।


pursho ke liye garbhnirodh ke upay

पुरुषों के लिए गर्भनिरोध के उपाय के विकल्प तो बढ़े ही हैं साथ ही इस क्षेत्र में अधिक तरक्की भी हुई है। इसे अच्छा ही माना जाना चाहिए। किसी दंपती को कब संतान सुख चाहिए इसका फैसला दोनों साथी मिलकर लेते हैं और ऐसे में इसकी सारी जिम्मेदारी महिलाओं पर डाल देना उचित न होगा। लेकिन, आवश्यकता इस बात की भी है कि पुरुषों को गर्भ-निरोध के विषय में उचित व प्रचुर जानकारी हो। इसके साथ ही पुरुषों के लिए यह भी जरूरी है कि वह किसी भी उपाय को अपनाते हुए अपने साथी से सलाह जरूर लें।

 

गर्भ-निरोध के उपाय

कण्डोम


गर्भ-निरोध और सेक्स संबंधित बीमारियों से बचाने का सबसे उत्तम विकल्प  माना जाता है। इसमें महिला व पुरुष कण्डोम दोनों विकल्प‍ उपलब्ध हैं। साथ ही डायाफ्राम (मध्य‍ छिद्र वाला) का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इन सबका मुख्य काम पुरुष वीर्य में मौजूद शुक्राणुओं और महिला के शरीर में मौजूद अण्डाणुओं के बीच संबंध स्था‍पित होने से रोकना होता है। पुरुष और महिला कण्डोम को सही तरीके से इस्ते‍माल करने के कुछ तरीके ये हैं-

 

पुरुषों के लिए हॉर्मोनल गर्भ निरोधक

  • पुरुषों के लिए मौजूद हॉर्मोनल गर्भ निरोधक तरीके के अपने लाभ व हानियां हैं। 'पुरुष हॉर्मोनल गर्भ निरोधक', पुरुषों में संभोग के दौरान प्राकृतिक रूप से होने वाले वीर्य निर्माण को रोकने का काम करते हैं। इसमें मस्तिष्क को संकेत भेजा जाता है कि पुरुष वीर्य स्खलित करने वाले हॉर्मोन को ऐसा करने से रोका जाए। पुरुष गर्भ निरोधक गोलियां वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या प्रति मिलीलिटर दस लाख से कम कर देती हैं। इस स्थिति को अल्पशुक्राणुता में रखा जा सकता है और गर्भ रोकने के लिए यह एक अच्छा तरीका है। यह महिलाओं को दी जाने वाली गर्भ निरोधक गोलियों की अपेक्षा अधिक कारगर है और पुरुषों के लिए एक उत्तम गर्भनिरोधक उपाय है।

 

  • पुरुष वीर्यकोष का तापमान बाकी शरीर के मुकाबले एक से दो डिग्री तक कम होता है। अगर वीर्यकोष का तापमान को किसी तरह अपने सामान्या तापमान से अधिक कर लिया जाए तो  इससे शुक्राणुओं के उत्पादन पर नकारात्माक प्रभाव पड़ता है। सुपनसोरिज इस तरह तैयार की जाती है जिससे वीर्यकोष को शरीर के अधिक समीप लाया जा सकता है। इससे इनका तापमान शरीर के तापमान के समान हो जाता है। वीर्यकोष के तापमान में सामान्या वृद्धि भी शुक्राणुओं के उत्पादन पर विपरीत प्रभाव डालता है।

 

  • एक ताजा अध्ययन के मुताबिक पुरुष गर्भनिरोध के क्षेत्र में काफी प्रगति हो चुकी है। आज बाजार में इंजेक्शकन प्लग, शुष्क संभोग गोलियां, एन्जाइम अवरोधक के अलावा अन्य कई विकल्प भी मौजूद हैं। इन सबका काम मुख्यत काम प्राकृतिक रूप से होने वाले वीर्य स्खलन को रोकना है तो बेहतर है कि इनका इस्तेमाल करने से पहले किसी स्वास्थ्य विशेषज्ञ से अवश्य विमर्श कर लिया जाए।

 

 

Read More Articles On Contraception in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES172 Votes 68510 Views 2 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर