इन तरीकों से देर तक फ्रेश रहेंगे फल और सब्जियां

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 26, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • फलों का बेरंग होना प्राकृतिक कारण है।
  • फलों को काटने के बाद उसमें ऑक्‍सीडेशन होता है।
  • इससे फल अपने प्राकृतिक रंग को छोड़ देते हैं।
  • फलों को बेरंग होने से बचाने के लिए अपनाएं ये टिप्‍स।

जब हम फलों और सब्जियों को छीलते या काटते हैं तो थोडी ही देर बाद उनके रंग बदलने लगते हैं। कुछ फल भूरे हो जाते हैं तो कुछ काले पड़ने लगते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्यों कि उन्हें काटने के बाद उनमें मौजूद एंजाइम बाहर निकलने लगता है। जब एंजाइम हवा के संपर्क में आता है तो दोनों के बीच ऑक्सीडेशन क्रिया होने लगती है, जिसके कारण उनका रंग बदलने लगता है, जिससे फल और सब्जियां अपने प्राकृतिक रंग को छोड़ देते हैं। ऐसा अक्सर हम सेब, नाशपाती, केला और आलू आदि फलों व सब्जियों में देखने को मिलता है। लेकिन शायद आपको यह मालूम नही होगा कि फलों को काटने के बाद भी उन्हें उनके प्राकृतिक रंग में रखा जा सकता है। इसका एक बहुत ही अच्छा घरेलू उपाए, जिससे हम फलों को बेरंग होने से बचा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : गर्भावस्‍था में आपको बीमारियों से बचाता है सेब

फूड डिस्‍कलरेशन

सिट्रिक एसिड का प्रयोग


फलों को उनके प्राकृतिक रंग में रखने के लिए उनमें कोई भी एसिडिक पदार्थ मिलाएं, जैसे नींबू का रस या सिट्रिक एसिड को कटे हुए फल में मिक्स कर दें तो वह ब्राउन नहीं पड़ेंगे। नींबू का रस को फलों के उपर ब्रसिंग भी कर सकते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नींबू रस में मौजूद सिट्रिक एसिड कटे हुए फलों में किसी तरह के केमिकल रिएक्शन को नही होने देता है। इससे फलों का रंग हमेशा सही रहता है।

इसे भी पढ़ें : जानें नींबू के छिलकों के 10 फायदे

एसिडुलेटेड वाटर    

कटे हुए फलों के टुकड़ों को एसिडुलेटेड वाटर यानी अम्लीकृत पानी में डालकर रख दें, ऐसा करने से फलों में हवा नहीं लगती और वो ब्राउन नहीं पड़ते। इसके अलावा पानी में मौजूद एसिड केमिकल रिएक्शन नही होने देते हैं। हालांकि कुछ ही फ्रूट्स को आप पानी में डाल सकते हैं।

 

चीनी की चाशनी का प्रयोग

कटे फलों की सतह पर चीनी की चाशनी लगा सकते हैं। यह वह फलों की कोशिकाओं को हवा के सम्पर्क में आने से रोकती है, जिससे फलों का रंग नही बदलता। इसके अलावा अगर फलों के टुकड़ों पर नमक छिड़क दिया जाए तो भी फलों के रंग में कोई अंतर नहीं आता है।


सब्जियों के लिए

आमतौर पर आलू, तोरी, लौकी आदि सब्जियां काटने के बाद ब्राउन अपना रंग छोड़ने लगते हैं। ऐसा ना हो इसके लिए इन्हें काटने के तुरंत बाद ठंडे पानी में रख दें। जब आप सब्जी बनाने लगे तो इन्हें पानी से निकाल लें। इसके अलावा कोशिश यह करनी चाहिए कि जब भी सब्जियों को काटें तो उन्हें तुरंत बना लें।

Image Source : Getty Image

Read More Article on Healthy Eating in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES723 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर