पुरूषों में सेक्स संबंधी आम समस्‍या

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 27, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

पुरूषों मे समय से पहले शुक्राणुओं का बाहर आना एक आम समस्या है, जिसमें कि सेक्सुअल सेटिस्फेक्शन से पहले ही शुक्राणु शरीर के बाहर आ जाते हैं। कभी कभी ये सम्बन्धों के शुरूवाती दिनों में डर या एक्साइटमेंट की वजह से होता है।


यह समस्या अकसर युवा लड़को में होती है या उन पुरूषों में होती है जो अधिक उम्र के हो जाने के बाद सेक्स करते हैं। यह कभी कभी किसी बीमारी या शारीरिक समस्या की वजह से भी होता है। लेकिन इस समस्या पर थोड़ा सा विचार करके या डाक्टरी सलाह से इस समस्या का समाधान निकाला जा सकता है।

 

पर्फारमेन्स एनज़ाइटी भी एक बड़ा कारण हो सकता है, जिससे बचने के लिए आप अपने पार्टनर से बात कर सकते है। याद रखें सेक्स का एहसास पुरूष व स्त्री दोनों के लिए ही एक सा होता है, इन बातों को आराम से सोचें और समस्या का समाधान खुद ही निकल आयेगा।

 

[इसे भी पढ़ें : दस सामान्‍य सेक्‍स समस्‍यायें]

प्रिमेच्योर इजेकुलेशन से बचने के तरीके:

  • खुद पर विश्वास रखें। ऐसा सोचें कि यह सब जितना आपके लिए नया है उतना ही आपके पार्टनर के लिए भी है। हो सके तो दोनों मिल कर इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिश करें। अगर ज़्यादा परेशानी है तो आप डॉक्टरी सलाह भी ले सकते हैं।
  • जब आपको लगे कि अराउज़ल का लेवल बहुत ज़्यादा है तो लम्बी सांसे लें व छोड़ें और कुछ बहुत ही बोरिंग सोचें। जब आपको लगे कि अराउज़ल का लेवल बहुत कम है तो भी न रूकें।
  • प्रिमेच्योर इजेकुलेशन से बचने के लिए रूकें और फिर प्रक्रीया शुरू करें। इस प्रकार सेक्सुअल ऐक्ट का समय बढ़ता है।
  • जब आपको लगे कि यह प्रक्रिया पूरी होने वाली है तो पेनिस को बाहर निकालें और कुछ देर आराम करें ,इस प्रकार बार बार सेक्स स्टिमुलेशन की प्रक्रीया को लम्बे समय तक करके,सेक्स ऐक्ट का समय बढ़ाया जा सकता है।

 

[इसे भी पढ़ें : पुरूषों में नपुंसकता के लक्षण]

 

  • स्क्वीज़ मेथड से भी प्रिमेच्योर इजेकुलेशन से बचा जा सकता है। इस प्रक्रिया में पुरूष या स्त्री में से किसी एक को पेनिस के अन्तिम भाग को अंत के 10 से 20 सेकण्ड तक तेज़ी से रोके रखना चाहिए! इस प्रक्रिया में भी लगातार इजेकुलेशन करना चाहिए। रोकने व शुरू करने की प्रक्रीया को ही स्क्वीज़ मेथड कहते है।
  • प्रिमेच्योर इजेकुलेशन से बचने के लिए डिसेन्सिटाइजिंग क्रीम का प्रयोग करें। इस क्रीम का प्रयोग टेस्टीस के अन्तिम भाग को डिसेन्सिटाइज़ करने के लिए किया जाता है। मोटे कन्डोम भी सेन्सिटिविटी को कम करते हैं और सेक्सुअल ऐक्ट का समय बढ़ाते  हैं।
  • फोरप्ले से भी प्रिमेच्योर इजेकुलेशन की सम्भावना कम हो जाती है।
  • सेक्स से पहले अपने पार्टनर को अराउज करें ा कोशिश करें जितना हो सके समय साथ में बितायें और एक दूसरे को मानसिक तौर पर खुश रखने की कोशिश करें।
  • प्रिमेच्योर इजेकुलेशन से बचने के लिए मास्टर्बेशन ा
  • खुदसे ही तरह तरह के पोज़ अपनायें ा अपने एहसासों को जानें, इनसे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा।
  • याद रखें प्रिमेच्योर इजेकुलेशन से बचने और अच्छे सेक्स में थोड़ा समय लगता है, यहां वो प्रेक्टिस मेक्स ए मैन पर्फेक्ट स्लोगन बहुत ही सटीक बैठता है।
  • अगर इसके बाद भी आपको लगता है कि आपकी सेक्सुअल लाईफ ठीक नहीं है तो किसी सेक्स थेरेपिस्ट से सम्पर्क करें।

 

Read More Artices on Sexual Problems in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1587 Votes 122481 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर