तैतीसवें हफ्ते में लापरवाही का नतीजा हो सकता है खतरनाक

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 10, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भावस्था के तैतिसवें हफ्ते में कई शारीरिक बदलाव होते हैं।
  • खासतौर से आहार व व्‍यायाम का खयाल रखने की जरूरत है।
  • इस हफ्ते में बच्‍चे की लंबाई 15 से 17 इंच तक होगी।
  • सामान्‍य है इस समय सोने, घूमने और बैठने में परेशानी होना।

आपकी गर्भावस्था की अंतिम तिमाही चल रही है। आपका और आपके गर्भ में पल रहे शिशु का स्‍वास्‍थ्‍य अच्‍छा बना रहे इसके लिए संतुलित आहार के साथ ही व्‍यायाम करने की आदत को अपनी दिनचर्या में बनाए रखे।हो सकता है अब तक आपका वजन 25 से 30 पाउंड तक बढ़ गया हो। कुछ महिलाओं का तो हर हफ्ते एक पाउंड वजन बढ़ना गर्भावस्था के अंतिम हफ्ते तक जारी रहता है। लेकिन अंतिम सप्‍ताहों में बच्चे का हर हफ्ते आधा पाउंड वजन बढे़गा। बच्चा अगले पांच हफ्तों बाद आपके बढ़ने वाले वजन का आधा वजन प्राप्‍त करना शुरू कर देगा। बच्चे का वजन बढ़ रहा है। आहार में ज्‍यादा से ज्‍यादा विटामिन और प्रोटीन का सेवन जारी रखें और तले हुए व चिकनाई युक्‍त आहार से परहेज करें।

pregnancy

  • इस समय आप एक बार में ज्‍यादा भोजन न करें, दिनभर में थोड़ा-थोड़ा कई बार खाए। फल और सब्जियों आपके लिए फायदेमंद रहेंगी। स्वस्थ भोजन करने से आपको दिल में जलन की परेशानी भी कम होगी। साथ ही ज्‍यादा से ज्‍यादा पानी पीने की आदत भी अच्‍छी है। इस समय ब्रश करने पर आपके मसूड़ों से खून बहता है, तो चिंता करने की बात नहीं है, यह सामान्‍य है।
  • गर्भावस्था के तैतीसवें हफ्ते में बच्चे को लंबाई में 15 से 17 इंच तक होगी और वजन लगभग 5 पाउंड होना चाहिए। बच्चे में वसा का बढ़ना अभी भी जारी है और बच्चे की त्वचा के नीचे उसका संचय रहेगा। बच्चे की हड्डियां पहले के मुकाबले कठोर हो गई हैं, लेकिन कुछ जगह से खोपड़ी अभी भी नरम है। सभी चीजें सामान्‍य हैं, इसलिए चिंता की कोई बात नहीं है। खोपड़ी को जन्म के लिए मुलायम और लचीला होना चाहिए।
  • प्रसव का दबाव बहुत शक्तिशाली होता है, ऐसे में बच्चे के सिर पर इसका प्रभाव पड़ता है। यही वजह है कि कुछ बच्‍चों का सिर जन्‍म के समय शंकु के आकार का होता है। बच्चे के फेफड़े भी लगभग परिपक्व हो चुके हैं। यदि इस समय बच्‍चे का जन्‍म हो जाता है तो वह इनक्युबेटर मशीन में जीवित रह सकता है। आमतौर पर कई बच्‍चों का जन्‍म इस सप्‍ताह में भी हो जाता है।
  • अब गर्भाश्‍य नाभी के पांच इंच ऊपर है। गर्भावस्था के इस सप्‍ताह में औसत वजन बढ़ोतरी 22 से 28 पाउंड है। पहली बार गर्भवती महिलाएं इस बात को लेकर चिंतित रहती हैं कि प्रसव कैसे होगा या फिर उनका पानी बहेगा तो कैसे पता चलेगा आदि। यह सभी महिलाओं के साथ नहीं होता है, केवल दस में से एक महिला को एमनिओटिक रिसाव का अनुभव होता है। यह रिसाव एमनिओटिक थैली से होता है, जिससे प्रसव के लिए अस्पताल जाने का पर्याप्‍त समय मिल जाता है।
  • गर्भवती महिलाओं को जन्म के लिए अपने श्रोणि की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए कुछ व्यायाम करने चाहिए। इनको केजेल व्यायाम कहा जाता है। आप जिन व्‍यायाम को कर सकती हैं, उनके बारे में अपने चिकित्सक से बात करें। व्यायाम को करने के तरीके के बारे में जानकारी पुस्‍तकों के साथ ही वेबसाइट्स में भी दी जाती है। बच्चा काफी हलचल करता है, क्योंकि अभी उसके लिए गर्भाश्‍य में जगह है। एक डायरी में बच्चे की गतिविधि के बारे में दिनांक और समय के साथ लिखें।
  • तैंतीसवें सप्‍ताह में आपको सोने, घूमने और बैठने में भी कुछ परेशानी होगी। आपके अंगो को गर्भाश्‍य द्वारा ऊपर धकेला जा रहा है, जिससे आपको सांस लेने में दिक्‍कत और आराम महसूस नही हो रहा है। अगले कुछ हफ्तों में, यह आसान हो जाएगा और आपको इसकी आदत हो जाएगी। ढीले कपड़े पहनने की कोशिश करें। इससे आपको आराम महसूस होगा और अच्‍छी नींद आएगी। घुटनों के बीच में तकिया लगाकर सोने से भी आराम मिलेगा।
  • इस सप्‍ताह में आपको सामान्‍य से ज्‍यादा बार यूरिनेट करने जाना पड़ सकता है। पीठ के बल न सोएं, ऐसा करने से बच्‍चे को रक्‍त परिसंचरण और रक्‍त प्रवाह की कमी होने की आशंका बनी रहती है। साथ ही सांस लेने में भी कठिनाई हो सकती है। यदि आप बांयी तरफ करवट लेकर सो सकती हैं तो यह आपके लिए अच्‍छा रहेगा। हल्का व्‍यायाम अंतिम दिन तक जारी रखें। शिशु के जन्‍म से पहले विटामिन साथ ही पूरक खुराक लेना भी जरूरी है। अब आप बच्चे कि हिचकी महसूस करने में सक्षम हो जाएंगी।

 

अपने शरीर के बारे में अब आप किसी दूसरे से बेहतर जानती हैं। यदि आपको सभी कुछ ठीक नहीं लग रहा तो अपने चिकित्‍सक से परामर्श करें। यदि आप कामकाजी महिला हैं तो यह ध्‍यान रखें कि आपको मातृत्व अवकाश पर कब जाना है, यह भी तय करने का समय अब आ गया है। यदि आपको मन में शिशु के जन्‍म से संबंधित कोई सवाल है तो पूछने में संकोच ना करे।

 

 


Image Source-Getty

Read More Article On Pregnancy Week In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES253 Votes 68253 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर