इकतीसवें हफ्ते में बनाए मातृत्‍व अवकाश लेने का प्‍लान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 27, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • इस हफ्ते में बच्‍चा आंखें खोलता व बंद करता है।
  • पन्‍द्रह इंच के करीब होगी अब बच्‍चे की लंबाई।
  • आपको पहले से ज्‍यादा पोषक तत्‍वों की है जरूरत।
  • लंबी अवधि तक खड़े होने से बचने की कोशिश करें।

गर्भावस्था के इकतीसवें हफ्ते में मां और गर्भस्‍थ शिशु दोनों का वजन तेजी से बढ़ना जारी रहता है। बच्चा परिपक्व हो गया है, और वह आंखें खोल व बंद कर सकता है। इस समय महिला की भूख तेजी के साथ बढ़ती है।

thirty one week of pregnancy
बच्चे को और अधिक पोषक तत्वों कि जरुरत महसूस होगी, इस कारण आपको भूख ज्‍यादा लगेगी। गर्भावस्था के इस स्तर पर, आप मैनीक्‍योर और पैनीक्‍योर करा सकती हैं। कुछ महिलाएं इस समय ज्‍यादा वजन बढ़ने के कारण परेशान हो जाती हैं। आपको इस बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है। हर महिला के जीवन में गर्भावस्था का विशेश महत्‍व होता है। आप इस समय यदि अपना वजन कम रखने की कोशिश करती हैं तो आप स्वस्थ बच्चा पैदा करने में सक्षम नहीं हो सकती।

यदि आपके बढ़ते वजन पर चिकित्‍सक चिंतिंत नहीं हैं, तो आपको भी चिंता करने की जरूरत नहीं है। शिशु जन्‍म के बाद जो महिलाएं बच्‍चे को स्तनपान कराती हैं, उनका वजन बोतल से दूध पिलाने वाली महिलाओं की तुलना में तेजी से कम होता है। यह कई शोधों से साफ हो चुका है कि स्‍तनपान बच्‍चे के साथ ही महिला के लिए भी फायदेमंद है।

बच्चे का विकास

इकतीसवें हफ्ते में बच्चे का वजन बढ़ता रहता है। इस समय उसका वजन करीब साढ़े तीन से चार पाउंड और लंबाई 15 इंच तक होनी चाहिए। बच्चा वसा की परत का विकसित करना जारी रखेगा और हर हफ्ते उसका आधा पाउंड वजन बढ़ता रहेगा। बच्चे के फेफड़े विकसित हो गए है और वे संकुचन द्वारा सांस लेने में सक्षम हो गए हैं। बच्चा अब गर्भ के बाहर की आवाज को स्‍पष्‍ट रूप से सुन सकता है। बच्चे की हड्डियां सख्त हो रही हैं और उसको कैल्शियम की जरूरत है। बच्चे को आने वाले दिनों में और अधिक पोषक तत्‍वों की जरूरत होगी।

बच्चा अब हर दिन आधा लीटर तक पेशाब करता है, जिससे आप भी थोड़ी-थोड़ी देर में बाथरूम जाती हैं। बच्चे का एमनिओटिक तरल पदार्थ को निगलना जारी है। किसी भी तरह की समस्या के बारे में अहसास होने पर डॉक्‍टर  एमनिओटिक द्रव का मापन करते हैं। अगर वहां पर ज्‍यादा एमनिओटिक द्रव है, तो इसका मतलब है कि बच्चा ठीक से निगल नहीं रहा है। कम तरल पदार्थ का अर्थ है कि बच्चे के गुर्दे के साथ समस्या हो सकती है।

शरीर में परिवर्तन

इस समय तक आपका वजन 21 से 27 पाउंड के बीच बढ़ना चाहिए। वजन में इससे अधिक बढ़ोतरी भी संभव है। वजन में बढोत्तरी होने पर बच्चे का वजन, नाल, वसा, जल, गर्भाश्‍य और एमनिओटिक द्रव का वजन भी बढ़ता है। स्तनों के आकार बदलाव दिखाई देगा और इनसे दूध निकलने का अहसास होगा। इसलिए आप एक सहायक ब्रा पहन रही हैं। आपको एक मलाईदार सफेद स्राव, कोलोस्ट्रोम भी दिखाई देगा। यह बच्चे के जन्म के एक सप्‍ताह बाद तक रहेगा।

कुछ महिलाओं को इन संकुचनों का दूसरे तिमाही में भी अनुभव हुआ था, यह सामान्‍य है। चिंता ना करे, इससे बच्चे का जन्म प्रभावित नहीं होता। एक स्थान पर लंबी अवधि तक खड़े होने से बचने की कोशिश करें। गर्भावस्था के दौरान हाइड्रेटेड रहने की कोशिश करें, कब्ज से बचे रहने पर आप बवासीर से भी दूर रहेंगी। खाने का सोडा गर्म पानी में डालकर स्नान करने से आपके शरीर की खुजली कम होगी।

क्या उम्मीद की जाती है

गर्भावस्था के इस हफ्ते में बच्चा पहले से ज्‍यादा पोषक तत्‍व लेना शुरू कर देगा। इसलिए इस सप्‍ताह से अंतिम हफ्ते तक पहले से ज्‍यादा पोषक तत्‍वों से युक्‍त स्वस्थ भोजन खाने की कोशिश करें। यदि आपने धूम्रपान बंद नहीं किया है, तो ज्‍यादा देर नहीं हुई है और इसे बिल्‍कुल बंद कर दें। आपको बच्चे के जन्म के बाद भी धूम्रपान बंद करना होगा। इस समय ज्‍यादा से ज्‍यादा आराम करें। सोने में परेशानी हो सकती है, क्‍योंकि आपका वजन बढ़ गया है। ऐसे में अपने हिसाब से लेटने के लिए आरामदायक स्थिति का चुनाव करें।

इकतीसवें हफ्ते से आपको शिशु का जन्‍म नहीं होने तक पेशाब के लिए जाने का अहसास होगा। यह ज्‍यादा मुश्किल नहीं होता, लेकिन ऐसे में आपको रात में आरामदायक नींद लेने में परेशानी होगी। घुटनों के बीच तकिया लगाकर बायीं ओर करवट लेकर सोने की कोशिश करे, इससे शरीर का काफी तनाव कम हो जाएगा। पीठ पर सोने की कोशिश न करें। डॉक्‍टर से मिलने वाले हर अपाइंटमेंट पर आपको जाना चाहिए। इससे डॉक्‍टर को आपकी हर स्थिति के बारे में अच्‍छे से पता रहेगा।

सुझाव

यदि आप कामकाजी हैं तो इस हफ्ते में मातृत्‍व अवकाश के बारे में अपने डॉक्‍टर और ऑफिस में बात कर लें। यह निर्णय चिकित्‍सक पर छोड़ दें कि वे आपको कब मातृत्‍व अवकाश के लिए कहते हैं। सामान्‍य दिनों के मुकाबले काम कम और आराम ज्‍यादा करना है। घर पर खाना बनाने और सफाई के लिए किसी नजदीकी की मदद से सकती हैं।

 

 

 

 

Read More Articles On Pregnancy Week In Hindi


Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES225 Votes 58391 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • nanu05 Dec 2012

    thanks ...i learnt much from ur article ........this give us lots of information.....

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर